चैत्र नवरात्रि 2023 : अध्यात्म ही नहीं, आपकी सेहत के लिए भी फायदेमंद हैं उपवास, जानिए 5 कारण

आप अपने डेली रुटीन से बोर हो गईं हैं, आहार में बदलाव करना चाहती हैं या वेट लॉस है आपके मन में, ये सभी उद्देश्य आप नवरात्रि फास्टिंग से पूरे कर सकती हैं।
navratri mei weight kaam krne ke fayade
अपने व्रत के खाने में डेयरी, नट्स, बीज और दही जैसे प्रोटीन स्रोतों को शामिल करें। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Updated: 23 Oct 2023, 09:12 am IST
  • 146

नवरात्रि के दौरान कई लोग नौ दिनो का उपवास करते है। इस समय लोग भक्ति के साथ-साथ अपनी आंतरिक शांति भी प्राप्त करना चाहते हैं। लोग नौ दिन का उपवास कर माता की भक्ति करते हैं और देवी के नौ स्वरूपों को खुश करने का प्रयास करते है। नवरात्रि के दिनों में व्रत से केवल माता ही खुश नहीं होती है, बल्कि आपका शरीर भी खुश होता है। क्योंकि नवरात्रों में उपवास से आपके शरीर और आत्मा दोनों की शुद्धि होती है।

चैत्र महीने के बाद गर्मियों के मौसम का आगमन पूरी तरह से हो जाता है। ऐसे में अगर आप उपवास करेंगे तो आपके शरीर को सर्दियों के बाद गर्मियों के लिए बदलने का मौका मिलेंगा। सर्दियों के मौसम में हम गर्म चीजें ज्यादा खाते है तो अगर एकदम से आप गर्मियों के आते ही ठंडी चीजें खाएंगे तो आपके शरीर को ये समझ नही आ पाएगा और आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाएगा जिससे आप बीमार पड़ सकते है। उपवास के समय आपके शरीर को एक ब्रेक मिल जाएगा जिसके बाद आप उसमें बदलाव कर सकते है जिसके लिए वो तैयार रहेगा।

weight loss
वजन कम करने में मदद मदगार है व्रत। चित्र : शटरकॉक

उपवास का हमारे स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है ये जानने के लिए हमने बात की डायटिशियन शिखा कुमारी से, शिखा कुमारी क्लिनिकल डायटिशियन और वेट लॉस एक्सपर्ट है। (Dietitian_Shikha_Kumari)

ये भी पढ़े- Endometriosis awareness month : यहां हैं पीरियड के दौरान होने वाली 5 गंभीर समस्याएं, जिनके लिए डॉक्टर से मिलना जरूरी है

नवरात्रि में उपवास करने के फायदे

1 वजन को नियंत्रित करता है

शिखा कुमारी बताती है कि “कैलोरी की सेवन सीमित करके वजन घटाने के लिए उपवास काफी मदद करता है। लेकिन अगर आप व्रत कर रहे है तो ज्यादा तला हुआ खाना न खाएं।”

रिसर्च गेट में छपे एक अध्यन के अनुसार कुल 830 प्रतिभागियों का विश्लेषण किया गया (531 प्रतिभागी पुरुष थे और 299 प्रतिभागी महिलाएं थीं)। परिणामों ने पुरुष प्रतिभागियों के वजन में कमी दिखाई। एक अन्य अध्ययन में कहा गया है कि उच्च रक्तचाप वाले मध्य आयु के वयस्कों में रमजान का उपवास शरीर के वजन को कम कर सकता है। अधिक वसा का सेवन और कम शारीरिक गतिविधि के कारण अधिक वजन होना शुरू हो जाता है। अधिक वजन होने के संदर्भ में रोकथाम और प्रबंधन आहार और शारीरिक गतिविधि के संतुलन को बनाए रखकर किया जा सकता है।

2 डिटॉक्सिफिकेशन (शरीर को शुद्ध करता है)

उपवास डिटॉक्सिफिकेशन में शामिल कुछ एंजाइमों के उत्पादन और गतिविधि को बढ़ाने में मदद कर सकता है, साथ ही आपके लीवर के स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है, जो डिटॉक्सिफिकेशन में शामिल मुख्य अंगों में से एक है।

ये भी पढ़े-Tomato for Glowing Skin : इन 5 तरीकों से करेंगी त्वचा के लिए टमाटर का इस्तेमाल, तो मिलेगा कुदरती निखार

3 बल्ड शुगर लेवल को नियंत्रित करता है

उपवास बल्ड शुगर लेवल को निंयत्रित करता है जिससे डायबटिज और हाइपरटेंशन जैसी समस्याओं में काफी मदद मिलती है।

एक अध्ययन में कहा गया है कि रक्तचाप को सामान्य स्तर से अधिक कम न करके इसे कम करने के लिए उपवास करना सुरक्षित है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें
low blood sugar level control kare
उपवास बल्ड शुगर लेवल को निंयत्रित करता है। चित्र:शटरस्टॉक

4 सूजन को कम करता है

शिखा कुमारी के अनुसार “उपवास शरीर में सूजन को कम करने के लिए भी काम करता है, जो गठिया, अस्थमा और एलर्जी जैसी समस्या से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है।”

5 हार्ट हेल्थ के लिए फायदेमंद

उपवास रक्त लिपिड प्रोफाइल में सुधार और ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करके हृदय रोग के कम जोखिम को कम करता है। साथ ही बैड कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करता है।

रिसर्च गेट में छपे एक अध्यन के अनुसार उपवास शरीर में एलडीएल स्तर को नियंत्रित करने के कई तरीकों में से एक है। मेटा-विश्लेषण के परिणामों में 740 स्वस्थ प्रतिभागियों (500 पुरुष और 240 महिलाएं) का प्रतिनिधित्व करने वाले 13 अध्ययन शामिल थे। इससे पता चला कि शरीर में एलडीएल के स्तर को कम करने के लिए उपवास एक प्रभावी तरीका साबित हुआ है।

ये भी पढ़े- कोविड लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी हैं सोशल एंग्जाइटी की शिकार हैं, तो जानिए इससे कैसे उबरना है

  • 146
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख