क्या कोविड से रिकवरी के बाद कमजोर होने लगती हैं हड्डियां? जानिए क्या है इस पर विशेषज्ञों की राय

Published on: 6 February 2022, 16:00 pm IST

कोविड-19 के लक्षण अपने आप में बहुत घातक है। लेकिन इसकी रिकवरी के बाद भी आप कई स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ सकते हैं। उनमें से एक है कमजोर हड्डियां!

Covid-19 ke baad bones kamjor hone lagti hai
कोविड-19 के ब आपकी हड्डियां कमजोर होने लगते हैं। चित्र:शटरस्टॉक

कोविड 19 ने रोजमर्रा के जीवन में कई बदलाव किए है। मास्क और सैनिटाइजर आपके फॉरेवर फ्रेंड बन चुके है। लेकिन फिर भी संक्रमण रुकने का नाम नही ले रहा है। कोविड 19 का प्रभाव बहुत विविध है। यह हर व्यक्ति में अलग रूप से विकसित हो रहा है। कुछ लोग अपनी अन्य स्वास्थ्य स्थितियों के कारण इससे अधिक प्रभावित हैं। वहीं दूसरी ओर कुछ लोग जल्दी ठीक हो जा रहें हैं।

परंतु ठीक होना ही सब कुछ नहीं है। इस बीमारी का खतरा ठीक होने के बाद भी रहता है। यह किसी भी अन्य तरीके से आपके स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। उनमें से एक है कमजोर हड्डियां। जी हां, हड्डियों पर कोविड 19 का असर लंबा रहता है। यह उनकी डेंसिटी को कम कर उसे कमजोर बना देता है। इसलिए लेडीज, कोविड 19 से रिकवरी के बाद भी अपना बहुत ख्याल रखें।

शोध मानता है कोविड 19 है हड्डियों के लिए खतरनाक

इंडियाना यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के डिपार्टमेंट ऑफ ऑर्थोपेडिक सर्जरी के शोधकर्ताओं ने पता लगाया कि चूहों में कोरोना वायरस इन्फेक्शन होने के 2 हफ्ते बाद हड्डियों में 25% की हानि हुई है। हड्डियों की डेंसिटी कम होने का यह खुलासा इंसानों में भी पाया गया है। माउस मॉडल में 63% तक ऑस्टियोक्लास्ट में वृद्धि पाया गया। यह सेल शरीर में हड्डियों को कमजोर करने के लिए जाना जाता है।

Covid se recovey ke baad bones weak hone lagte hai
कोविड से रिकवरी में हड्डियां कमजोर होने लगते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

अध्ययन महामारी के स्थायी प्रभाव और मस्कुलोस्केलेटल सिस्टम पर वायरस के प्रभावों के बारे में सवाल उठाता है। यह खोज सभी उम्र के लोगों द्वारा कोविड 19 के बाद अनुभव की जाने वाली संभावित हड्डियों के नुकसान पर की जाएगी।

हड्डी के डेंसिटी में कमी, या ऑस्टियोपोरोसिस, भंगुर हड्डियों को जन्म दे सकती है जिसके टूटने की संभावना अधिक होती है।

ऑस्टियोपोरोसिस के कारण होने वाली जटिलताओं के लिए बुजुर्ग हमेशा सबसे अधिक जोखिम वाले समूह रहे हैं। उनकी बोन डेंसिटी को वापस पाने की संभावना कम से कम होती है। बुजुर्गों को भी कोविड-19 से संक्रमित होने का अधिक खतरा होता है। इसलिए शोधकर्ता यह अध्ययन कर रहे हैं कि क्या वायरस से उबरने वालों की हड्डियों के टूटने की संभावना और भी अधिक होगी।

कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए हड्डी रोग के डॉक्टरों को फिर से तैनात किया जा रहा है। यह वायरस रोगी की हड्डी और जोड़ों को प्रभावित करता है और इस रोग के लक्षणों को समझने के लिए ऑर्थोपेडिक समुदाय को अनिवार्य टेस्टिंग की आवश्यकता होती है।

मजबूत हड्डियों के लिए इन खाद्य पदार्थो को अपनी डाइट का हिस्सा बनाएं

NHS द्वारा किए गए अध्ययनों के बाद यह निष्कर्ष निकला है कि आपके हड्डियों का बिल्डिंग ब्लॉक है कैल्शियम और विटामिन डी। इसलिए लेडीज, अपने डाइट में कुछ जरूरी खाद्य पदार्थों को शामिल करना न भूलें।

वयस्कों को एक दिन में 700mg कैल्शियम की आवश्यकता होती है। विविध और संतुलित आहार खाने से आप अपनी जरूरत का सारा कैल्शियम प्राप्त करने में सक्षम हो पाएंगे।

yaha kuchh non dairy food sources hai jo calcium defficiency ko door kar sakte hai
यहां कुछ नॉन डेयरी फूड स्रोत हैं जो कैल्शियम की कमी को दूर कर सकते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

कैल्शियम के अच्छे स्रोतों में शामिल हैं:

  1. दूध, पनीर और अन्य डेयरी खाद्य पदार्थ
  2. हरी पत्तेदार सब्जियां, जैसे ब्रोकली, पत्ता गोभी और भिंडी, लेकिन पालक नहीं
  3. सोया बीन
  4. टोफू
  5. अतिरिक्त कैल्शियम के साथ वीगन ड्रिंक्स (जैसे सोया ड्रिंक)
  6. रोटी और मल्टी ग्रेन आटे से बनी कोई भी वस्तु
  7. मछली जैसे सार्डिन और पायलचर्ड्स

हालांकि पालक में बहुत अधिक कैल्शियम होता है, लेकिन इसमें ऑक्सालेट भी होता है। यह कैल्शियम के अवशोषण को कम करता है और इसलिए यह कैल्शियम का अच्छा स्रोत नहीं है।

वयस्कों को एक दिन में 10 माइक्रोग्राम (400 अंतर्राष्ट्रीय यूनिट या आईयू) विटामिन डी की आवश्यकता होती है।

Sahi diet ke saath vitamin D bhi jaroori hai
सही आहार के साथ विटामिन डी भी महत्वपूर्ण है। चित्र:शटरस्टॉक

आपके आहार से सभी विटामिन डी प्राप्त करना मुश्किल है। अधिकांश विटामिन डी आपको सूर्य की रोशनी से प्राप्त होती है। विटामिन डी के अच्छे स्रोत है:

  1. फैटी फिश, जैसे सैल्मन, सार्डिन और मैकेरल
  2. अंडे की जर्दी
  3. फोर्टीफाइड फूड, जैसे कुछ सबूत अनाज।

यदि आपको ऑस्टियोपोरोसिस का निदान किया गया है, तो आपका डॉक्टर कैल्शियम और विटामिन डी के सप्लीमेंट खाने का सुझाव कर सकता है।

यह भी पढ़ें: आयुर्वेद से लेकर साइंस तक सभी को है मम्मी की रसोई के पीले मसाले पर भरोसा

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें