नाचो नाचो, क्योंकि डांसिंग का 30 मिनट का एक सेशन आपको देता है अद्भुत फायदे

नाचो नाचो उर्फ नाटु नाटु गाने ने ऑस्कर जीत कर भारत को गोर्वान्वित किया है। इस खुशी के पल को क्यों न नाच कर सेलिब्रेट किया जाए, क्योंकि नाचना आपके तन और मन दोनों के लिए फायदेमंद है।
dance apke liye hai faydemand
डांस आपकी याददाश्त को बढ़ा सकता है और डिमेंशिया की शुरुआत को भी रोक सकता है। चित्र अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Updated: 23 Oct 2023, 09:10 am IST
  • 134

डांस हमारे कल्चर का हिस्सा रहा है और किसी भी कार्यक्रम में डांस कर के उस उत्सव को मनाया जाता है। भारत में डांस खुशी जाहिर करने या सेलिब्रेशन का एक हिस्सा है। अगर आपको फिट रहने के लिए एक्सरसाइज करने के लिए कहा जाए, तो आपको एक बार को आलस आ सकता है, लेकिन अगर आपको फिट रहने के लिए डांस करने कहा जाए, तो यकीनन यह मजेदार होगा। फिर चाहें आपकी उम्र कितनी भी हो। जब सारी दुनिया में नाचो नाचो की धूम हैं, तो क्यों न हम भी आपको बताएं हर दिन बस 30 मिनट नाचने के फायदे।

नाटु नाटु यानी नाचो नाचो (nacho nacho) ने ऑस्कर (oscars 2023) में भारत को जीत दिलाई है। यही नाच आपको भी जिद्दी फैट और तनाव पर जीत दिला सकता है। डांस के जरिए पूरे शरीर में मूवमेंट होती है। जिससे ब्लड सर्कुलेशन बेहतर हाेता है। यह न सिर्फ फैट बर्न करने की एक मजेदार एक्टिविटी है, बल्कि हैप्पी हॉर्मोन रिलीज करने का भी एक बेहतरीन तरीका है। अगर सही तरह से अलग-अलग स्टेप्स में डांस मूव किए जाएं, तो इससे पूरे शरीर की मांसपेशियों को भी फायदा मिलता है।

dance apke sam=ntulan ko behtar krta hai
डांस करने के लिए बहुत तेज गति और अच्छी मुद्रा की आवश्यकता होती है। चित्र अडोबी स्टॉक

तो चलिए जानते हैं आपके तन-मन के लिए क्या हैं नाचने के फायदे

ये भी पढ़े- एक सीनियर नेफ्रोलॉजिस्ट बता रहे हैं, क्याें बदलने लगता है आपके पेशाब का रंंग

1 बेहतर होता है मस्तिष्क स्वास्थ्य

द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि डांस आपकी याददाश्त को बढ़ा सकता है और डिमेंशिया की शुरुआत को भी रोक सकता है। अन्य अध्ययनों में यह भी पाया गया है कि एरोबिक डांस अभ्यास मस्तिष्क के उस हिस्से प्रभाव डालता है जो स्मृति (हिप्पोकैम्पस) को नियंत्रित करता है।

स्टेप को याद करने के लिए समय निकालना और डांस में अलग-अलग मूवमेंट भी आपके मस्तिष्क को चुनौती देते हैं। चाहे आपकी उम्र कोई भी हो। वैज्ञानिकों ने पाया है कि नृत्य जैसे व्यायाम से नियोजन और आयोजन जैसे संज्ञानात्मक कौशल में भी सुधार होता है।

2 हार्ट हेल्थ के लिए फायदेमंद है तेज नाचना

आप जितनी तेजी से डांस करेंगे, आपका दिल उतनी ही तेजी से धड़केगा, जिससे दिल मजबूत और स्वस्थ हो सकता है। डांस के नियमित अभ्यास से आपका हार्ट ज्यादा अच्छे से काम कर पाता है। अगर आप सिर्फ एक दिन डांस करेंगे, तो आप देखेंगे कि आपकी सांस फूलने लगती है जो आपकी स्ट्रेंथ की कमी को भी दर्शाता है।

एक अध्ययन में पाया गया कि हार्ट फेल वाले लोग जिन्होंने वाल्ट्जिंग का अभ्यास करना शुरू किया था, उन लोगों की तुलना में दिल की सेहत, सांस लेने और जीवन की गुणवत्ता बेहतर थी, जो केवल साइकिल चलाते थे या ट्रेडमिल पर चलते थे।

ये भी पढ़े- डल, ड्राई और डैमेज बालों का समाधान है एग हेयर मास्क, जानिए कैसे बनान है और लगाना है

weight loss ke dance
एरोबिक व्यायाम से फेफड़ों के माध्यम से शरीर, हृदय और मांसपेशियों में ऑक्सीजन और ब्लड फ्लो अधिक सुचारू रूप से हो पाता है। चित्र:शटरस्टॉक

3 बेहतर होता है संतुलन

जर्नल ऑफ एजिंग एंड फिजिकल एक्टिविटी में एक अध्ययन से पता चला है कि टैंगो नृत्य वृद्ध वयस्कों में संतुलन में सुधार कर सकता है। अगर आप वृद्ध होने पर गिरने से डरते हैं, तो नृत्य करने से आपकी कुछ चिंताएं भी कम हो सकती हैं।

डांस करने के लिए बहुत तेज गति और अच्छी मुद्रा की आवश्यकता होती है, जो आपको अपने शरीर पर बेहतर नियंत्रण पाने में मदद कर सकता है। साइकिल चलाने या चलने से केवल आपके शरीर के कुछ भागों को ही फायदा होता है। डांस करने से आपके शरीर के सभी स्तरों पर काम होता है, जिसका अर्थ है कि आपकी सभी मांसपेशियां में गतिविधि होती है।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

4 हैप्पी हॉर्मोन करता है रिलीज

डांस किसी व्यक्ति के तनाव को कम करने में भी काफी मदद करता है। डिप्रेशन से ग्रसित व्यक्ति को डांस करने की सलाह दी जाती है क्योंकि डांस करने से एक उत्साह का अनुभव होता है। एक अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों ने किसी ग्रुप डांस में भाग लिया उनमें तनाव के लक्षणों को कम देखा गाया। वे काफी उत्साहित और उर्जावान महसूस कर रहे थे।

ये भी पढ़े- Yoga for hair growth: क्या शीर्षासन करने से बाल बढ़ने लगते हैं? जानिए बालों के लिए कैसे काम करते हैं योगासन

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख