इस अध्ययन के अनुसार, कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स का किया जा रहा है अत्यधिक इस्तेमाल 

प्यू चैरिटेबल ट्रस्ट (Pew Charitable Trusts) द्वारा किए गए शोध से पता चलता है कि कोविड-19 रोगियों के लिए अधिक से अधिक एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग किया जा रहा है।
side effects hone ke bawajood bade paimane par inhe liya ja raha hai
दुष्प्रभाव जानने के बावजूद ज्यादातर लोग एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन करते हैं। चित्र-शटरस्टॉक।
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 13 Oct 2023, 09:45 am IST
  • 82

बुधवार को जारी एक रिपोर्ट के अनुसार, कोविड-19 रोगियों में से अधिकांश जिन्हें महामारी के पहले कुछ महीनों के दौरान अमेरिकी अस्पतालों में भर्ती कराया गया था, उन्हें बैक्टीरियल संक्रमण की पुष्टि होने से पहले ही एंटीबायोटिक दवाएं दी गई थीं।

प्यू चैरिटेबल ट्रस्ट्स (Pew Charitable Trusts) द्वारा किए गए अध्ययन से पता चलता है कि इस तरह की दवाओं को फरवरी 2020 से जुलाई के दौरान बहुत ज्‍यादा परामर्श किया गया। क्योंकि डॉक्टर कोविड -19 रोगियों के इलाज के लिए कोई और विकल्‍प नहीं खोज पाए थे। 

एंटीबायोटिक्स आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बाधित कर सकते हैं

प्यू की एंटीबायोटिक रेजिस्टेंस प्रोजेक्ट के प्रोजेक्ट डायरेक्टर डेविड ह्यून ने कहा, ” हम वास्तव में इस को लेकर चिंतित हैं कि एंटीबायोटिक प्रतिरोध के खिलाफ दीर्घकालिक लड़ाई के बारे में डेटा का क्या मतलब हो सकता है।”

यह भी पढें: थोड़ी मात्रा में भी भांग का सेवन आपके मस्तिष्‍क के लिए हो सकता है घातक, जानिए इसके दुष्‍प्रभाव

रिपोर्ट, जिसमें 5,838 अस्पताल प्रवेश के डेटा शामिल थे, जो कि एंटीबायोटिक दवाओं को अनावश्यक रूप से निर्धारित करने के जोखिम को उजागर करता है, जो ड्रग- रेजिस्टेंस “सुपरबग्स” (superbugs) के उद्भव को गति दे सकता है।

एंटीबायोटिक्स का अधिक इस्तेमाल आपको परेशानी में डाल सकता है। चित्र-शटरस्टॉक।

अध्ययन सुझाव देता है, दवा का दुरुपयोग न करें

ड्रग रेजिस्टेंस (Drug resistance) एंटीबायोटिक दवाओं और अन्य रोगाणुरोधकों के दुरुपयोग और अति प्रयोग से प्रेरित है, जो बैक्टीरिया को दवाओं को मात देने के नए तरीके खोजने के जरिए जीवित रहने के लिए प्रोत्साहित करता है।

प्यू अध्ययन में, 52% अस्पताल में प्रवेश के परिणामस्वरूप कम से कम एक एंटीबायोटिक निर्धारित किया गया था। इसके विपरीत, कोविड-19 के साथ भर्ती होने वाले 20% लोगों में एक बैक्टीरियल निमोनिया का निदान किया गया था, और 9% लोगों का मूत्र मार्ग में संक्रमण (urinary tract infections) के साथ निदान किया गया था।

96% मामलों में, मरीज को अस्पताल में भर्ती होने के 48 घंटों के भीतर पहली एंटीबायोटिक मिली।

आंकड़ों से पता चला कि अस्पताल में भर्ती होने के तुरंत बाद जिन मरीजों को एंटीबायोटिक्स दी जाती थी, उन्हें 48 घंटे के बाद अतिरिक्त कोर्स नहीं मिलते थे, जिससे एंटीबायोटिक्स के अति प्रयोग को सीमित करने के प्रयासों में कुछ प्रगति हुई।

यह भी पढें: यह अध्ययन बताता है कि आपके जन्म के वक्‍त का वजन आपके टाइप 2 मधुमेह के खतरे का पता लग सकता है

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 82
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख