और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

जानिए क्‍या है हैप्पी हाइपोक्सिया, जिसका आपको कोरोनावायरस में सामना करना पड़ सकता है

Published on:3 May 2021, 15:43pm IST
कोविड -19 के लक्षण आज हल्के बुखार और खांसी से लेकर सांस लेने की समस्या और हाइपोक्सिया तक हैं। हां, बाद वाला शब्द नया लक्षण है - लेकिन चिंता न करें, क्योंकि हमारे पास आपके लिए आवश्यक सभी जानकारी है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 90 Likes
कोरोनावायरस में ऑक्‍सीजन लेवल कम होने पर इसकी जरूरत पड़ती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कोरोनावायरस में ऑक्‍सीजन लेवल कम होने पर इसकी जरूरत पड़ती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

कोविड -19 ने न सिर्फ हमारे जीवन को पटरी से उतार दिया है, बल्कि इसने अपने अप्रत्याशित स्वभाव के कारण लोगों में भय भी पैदा कर दिया है। जब पहली बार 2020 में भारत में वायरस की सूचना मिली थी, तब सर्दी, खांसी, बुखार, साथ ही स्वाद और गंध की हानि जैसे लक्षण सामने आये थे। गंभीर मामलों में भी निमोनिया, सांस फूलना या छोटी रक्त वाहिकाओं में थक्कों का बनना शामिल था।

जैसे-जैसे कोरोना वायरस की अवधि बढ़ती जा रही है, लक्षणों में भी बढ़ोतरी होती जा रही है। इससे केवल आबादी के बीच भ्रम और चिंता बढ़ी है। कोरोनावायरस की दूसरी लहर ने हमारे लिए एक बहुत ही खतरनाक लक्षण पेश किया है जिसे ‘हैप्पी हाइपोक्सिया’ कहा जाता है, जो रक्त में ऑक्सीजन का स्तर बहुत कम कर देता है।

इससे पहले कि हम इसकी पहचान करें, आइए समझते हैं कि हाइपोक्सिया का क्या मतलब है

‘हैप्पी हाइपोक्सिया’ क्या है?

हाइपोक्सिया शब्द रक्त में कम ऑक्सीजन के स्तर को दर्शाता है। एक स्वस्थ व्यक्ति में, सामान्य ऑक्सीजन संतृप्ति 95 प्रतिशत से ऊपर है, लेकिन कोविड -19 से पीड़ित कुछ रोगियों में, स्तर 40 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

इसमें ऑक्‍सीजन की मॉनीटरिंग करते रहना जरूरी है। चित्र : शटरस्टॉक
इसमें ऑक्‍सीजन की मॉनीटरिंग करते रहना जरूरी है। चित्र : शटरस्टॉक

इस मामले में, गुर्दे, मस्तिष्क और हृदय जैसे महत्वपूर्ण अंगों की विफलता का भी जोखिम हाई हो जाता है। हैप्पी हाइपोक्सिया के मामले में चिंताजनक यह है कि कोई भी बाहरी लक्षण दिखाई नहीं देता। इसका मतलब यह है कि कोविड -19 के प्रारंभिक चरणों में, रोगी खुश और स्वस्थ प्रतीत होता है, लेकिन अंदर से उसके फेफड़े खराब होने लगते हैं।

ऑक्सीजन के स्तर में कमी का कारण क्या है?

हैप्पी हाइपोक्सिया का प्राथमिक कारण व्यापक थक्के हैं, जो फेफड़ों में छोटी रक्त वाहिकाओं के नेटवर्क में होता है। यह काफी हद तक शरीर में एक इन्फ्लेमेटरी प्रतिक्रिया के कारण होता है, जो कोविड -19 द्वारा ट्रिगर किया गया है।

संक्रमण के कारण सेलुलर प्रोटीन प्रतिक्रियाएं होती हैं, जो ब्लड क्लॉट को जन्म देती हैं, जिससे फेफड़ों में कोशिकाओं और ऊतकों को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है।

आपको क्या करना चाहिए?

रक्त ऑक्सीजन संतृप्ति और हृदय गति की जांच करने के लिए एक पल्स ऑक्सीमीटर को अपने हाथ की उंगली पर लगाएं। जिससे यह रक्त प्रवाह में ऑक्सीजन के स्तर को निर्धारित करता है, और दूसरी ओर, पल्स दर को भी मॉनिटर करता है।

कोविड पॉजिटिव होने पर कुछ लोगों का ऑक्‍सीजन का स्‍तर घटने लगता है। चित्र : शटरस्टॉक
कोविड पॉजिटिव होने पर कुछ लोगों का ऑक्‍सीजन का स्‍तर घटने लगता है। चित्र : शटरस्टॉक

दुर्भाग्य से, न केवल बुजुर्ग, बल्कि 20 और 30 के दशक वाली युवा आबादी भी हैप्पी हाइपोक्सिया का अनुभव कर रही है। यह और भी डरावना है क्योंकि उनमें से कई में रक्त ऑक्सीजन का स्तर 80 प्रतिशत तक कम है। जिनमें प्रारंभिक चरण में कोई लक्षण नहीं दिखा।

जानिए आप कैसे कर सकती हैं हैप्पी हाइपोक्सिया की पहचान

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, हैप्पी हाइपोक्सिया की पहचान करना कठिन है। इसलिए, आपको नियमित अंतराल पर अपने रक्त ऑक्सीजन के स्तर की जांच करते रहनी चाहिए। कुछ लोगों के होंठों का रंग नीला हो जाता है। जबकि कुछ की त्वचा के रंग में महत्वपूर्ण बदलाव होते हैं।

इसके अलावा, किसी भी तेज शारीरिक गतिविधि में शामिल हुए बिना भी पसीना आना, ऑक्सीजन के स्तर के साथ समस्या को दर्शाता है।

जरूरी है कि आप लक्षणों पर कड़ी नजर रखें। यदि कोई चीज सही नहीं है, तो बिना किसी देरी के तुरंत डॉक्टर से मिलें।

यह भी पढ़ें – कोविड – 19 रिपोर्ट नेगेटिव आने पर भी इन 5 लक्षणों को कभी न करें नजरंदाज

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।