जानिए बच्चों को अपनी चपेट में लेने वाली डिप्थीरिया बीमारी के बारे में सब कुछ

डिप्थीरिया एक गंभीर जीवाणु संक्रमण है जो आमतौर पर नाक और गले की झिल्ली को प्रभावित करता है। डिप्थीरिया एक दुर्लभ बीमारी है। मगर हाल ही में भारत के तमिल नाडु और पाकिस्तान के पेशावर में इसके कुछ मामले सामने आए हैं।

kya hai diphtheria
क्या है डिप्थीरिया और आप इसे कैसे रोक सकती हैं. चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 2 October 2022, 14:00 pm IST
  • 121

कोविड – 19 पैनडेमिक (Covid 19 pandemic) के बाद से नई – नई बीमारियों का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा है। बीते दिनों मंकीपॉक्स (Monkeypox) और ब्लैक फंगस (Black Fungus) जैसी कई दुर्लभ बीमारियां सामने आई हैं। इन बीमारियों का पहले कोविड – 19 कि तरह कोई नामोनिशान नहीं था या ये कुछ गिने चुने लोगों को हुआ करती थीं।

हाल ही में डिप्थीरिया (Diphtheria) नमक बीमारी के कुछ मामले भारत के तमिल नाडु और पाकिस्तान के पेशावर में देखने को मिले हैं। ये कोई नई बीमारी नहीं है, इसका टीका भी मौजूद है। मगर पहले ये बहुत कम लोगों को हुआ करती थी और आजकल इसके मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं।

डिप्थीरिया सांस की एक जानलेवा बीमारी है और सबसे पहले बच्चों को अपनी चपेट में लेती है। इसलिए आपके लिए इस बीमारी के बारे में जानना ज़रूरी है।

जानिए क्या है डिप्थीरिया?

मेयो क्लीनिक के अनुसार यह एक गंभीर जीवाणु संक्रमण है जो आमतौर पर नाक और गले की झिल्ली को प्रभावित करता है। डिप्थीरिया एक दुर्लभ बीमारी है। मगर हाल ही में भारत के तमिल नाडु और पाकिस्तान के पेशावर में इसके कुछ मामले सामने आए हैं। हालांकि, इसका टीका बाज़ार में उपलब्ध है। मगर इसका फैलना एक चिंता का कारण है क्योंकि ये बच्चों के लिए जान लेवा साबित हो सकता है।

डिप्थीरिया का इलाज दवाओं से किया जा सकता है। मगर इलाज के दौरान डिप्थीरिया हृदय, गुर्दे और तंत्रिका तंत्र को नुकसान पहुंचा सकता है। इलाज के साथ भी, डिप्थीरिया जानलेवा हो सकता है, खासकर बच्चों में।

क्या है डिप्थीरिया के लक्षण?

डिप्थीरिया के लक्षण आमतौर पर किसी व्यक्ति के संक्रमित होने के 2 से 5 दिन बाद शुरू होते हैं, जिनमें शामिल है

kya hai diphtheria
डिप्थीरिया एक गंभीर जीवाणु संक्रमण है जो आमतौर पर नाक और गले की झिल्ली को प्रभावित करता है। चित्र ; शटरस्टॉक

गले और टॉन्सिल बढ़ना
गले में खराश और स्वर बैठना
गर्दन में सूजन या बढ़े हुए लिम्फ नोड्स
सांस लेने में कठिनाई या तेजी से सांस लेना
नाक बहना
बुखार और ठंड लगना
थकान

आखिर क्यों होता है डिप्थीरिया क्या हैं इसके कारण?

एयर ड्रॉपलेट्स

डिप्थीरिया एक से दूसरे लोगों में खांसने या छींकने के माध्यम से फैल सकता है। खासकर भीड़-भाड़ वाली परिस्थितियों में।

दूषित सामान

लोग कभी-कभी किसी संक्रमित व्यक्ति की चीजों को संभालने से डिप्थीरिया का शिकार हो सकते हैं। जैसे तौलिये को छू लेना, जिसमें बैक्टीरिया हो सकते हैं।

जो लोग डिप्थीरिया बैक्टीरिया से संक्रमित हुए हैं और जिनका इलाज नहीं किया गया है, वे ऐसे लोगों को संक्रमित कर सकते हैं जिन्होनें डिप्थीरिया का टीका नहीं लगवाया है।

कौन इसके सबसे ज़्यादा जोखिम में है

बच्चे और वयस्क जिन्हें टीका नहीं लगा है
भीड़-भाड़ वाली या अस्वच्छ परिस्थितियों में रहने वाले लोग
कोई भी व्यक्ति जो ऐसे क्षेत्र की यात्रा करता है जहां डिप्थीरिया संक्रमण अधिक आम है

आप खुद को और अपने बच्चों को डिप्थीरिया के जोखिम से कैसे बचा सकती हैं

मेयो क्लीनिक के अनुसार छोटे बच्चों में ये बीमारी ज़्यादा आम है। इसलिए, उन्हें इसका टीका लगवाएं। साथ ही, वयस्क लोगों को भी इसका टीका लगवाना चाहिए।

भीड़ – भाड़ वाली जगहों से खुद को दूर रखें। मास्क का उपयोग करें क्योंकि यह भी एक एयर बोर्न डीजीज है।

कोई भी लक्षण दिखाई देने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाएं, इसका इलाज संभव है।

यह भी पढ़ें : World Vegetarian Day 2022 : शाकाहारी भोजन न सिर्फ आपको स्वस्थ रखता है बल्कि आपकी उम्र भी बढ़ा सकता है

  • 121
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory