अपने 30 और 40 के दशक में फिट रहना है, तो इन 3 जरूरी माइक्रोन्यूट्रिएंट्स को करें आहार में शामिल

जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपके लिए अतिरिक्त और सूक्ष्म पोषक तत्वों की आवश्यकता बढ़ती जाती है। पोषण सप्ताह में क्यों न इन्हीं के बारे में और विस्तार से जाना जाए।
क्या आपकी डाइट में यह माइक्रोन्यूट्रिएंट्स हैं?चित्र- शटरस्टॉक।

बचपन में हम सभी के पेरेंट्स हमारे खानपान पर बहुत ध्यान देते थे। चाहे वो हरी सब्जियां खिलना हो या रात को रोज़ दूध पिलाकर सुलाना। हम सभी को कभी न कभी अपनी लाइफ में हेल्दी चीज़ें न खाने के लिए ज़रूर डांट पड़ी होगी। मगर यही पोषण एक लंबे समय तक हमारे शरीर को बीमारियों से लड़ने और विकसित करने में मदद करता है।

जैसे – जैसे हम बड़े होते हैं सेहत के प्रति लापरवाह हो जाते हैं, खासकर महिलाएं। मैरिड लाइफ में महिलाएं अपना ख्याल बाद में और पहले परिवार के बारे में सोचती हैं। सबकी ज़िम्मेदारी लेते – लेते हम कब अपनी सेहत के प्रति जिम्मेदार होना छोड़ देते हैं पता ही नहीं चलता। मगर 30 – 40 की उम्र में ही हमें अपना सबसे ज़्यादा ख्याल रखने की ज़रूरत होती है।

ऐसे में नेशनल न्यूट्रीशन वीक (National Nutrition Week), जो कि हर साल 1 सितंबर से 7 सितंबर को पोषण का महत्व समझाने के लिए मनाया जाता है, के अवसर पर क्यों न उन सूक्ष्म पोषक तत्वों के बारे में जानें, जिनकी कमी आपको उम्र से पहले बूढ़ा बना सकती है। मगर उससे पहले जानते हैं इस सप्ताह के बारे में

नेशनल न्यूट्रीशन वीक 2022

पोषण के महत्व को समझाने के लिए महिला और बाल विकास मंत्रालय के नेतृत्व में फूड एंड न्यूट्रीशन बोर्ड द्वारा सप्ताह भर चलने वाले कार्यक्रम का संचालन किया जाता है। राष्ट्रीय पोषण सप्ताह प्रत्येक वर्ष एक विशेष विषय पर केंद्रित होता है और इसे विभिन्न कार्यक्रमों के शुभारंभ के साथ संबोधित करता है। पिछले साल की थीम (National Nutrition Week Theme) ‘फीडिंग स्मार्ट राइट फ्रॉम स्टार्ट’ थी और इस साल की थीम है- ‘सेलिब्रेट ए वर्ल्ड ऑफ फ्लेवर्स’ (Celebrate A World Of Flavors)।

लंबे समय तक स्वस्थ शरीर को बनाए रखने के लिए एक स्वस्थ आहार एक मुख्य आधार है। यह विभिन्न बीमारियों को रोकने में मदद कर सकता है और मधुमेह और अन्य गैर-संचारी रोगों वाले लोगों के लिए जीवन की गुणवत्ता में सुधार कर सकता है। हालांकि, जैसे-जैसे लोग बड़े होते हैं, उनकी आहार संबंधी आवश्यकताएं भी बदलती हैं। इसलिए यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि कौन सा भोजन आपके लिए उपयुक्त है और आपको पर्याप्त पोषण प्रदान करता है।

विटामिन डी से लेकर प्रोटीन तक, आपके लिए ज़रूरी है सभी पोषक तत्व । चित्र : शटरस्टॉक

तो चलिये जानते हैं ऐसे कौनसे माइक्रोन्यूट्रीएंट्स हैं जो आपको अपने 30 40 के दशक में रख सकते हैं स्वस्थ

1 विटामिन C

एस्कॉर्बिक एसिड के रूप में भी जाना जाता है, विटामिन सी एक शक्तिशाली पानी में घुलनशील एंटीऑक्सिडेंट है जो हानिकारक मुक्त कणों के शरीर से छुटकारा पाने का काम करता है। यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रतिकूल समस्याओं जैसे सर्दी, संक्रमण और यहां तक ​​कि कैंसर के कुछ रूपों से बचने के लिए भी मजबूत करता है। यह संयोजी ऊतक का समर्थन करने में मदद करता है, केशिकाओं को स्वस्थ रखता है और आयरन के अवशोषण में सहायता करता है।

2 विटामिन D

यह वसा में घुलनशील एंटीऑक्सीडेंट वह है जिसे आपका शरीर सूर्य की रोशनी से लेता है। यह कैल्शियम के साथ, यह हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। एनसीबीआई के अनुसार, विटामिन डी इंसुलिन के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है, जिससे महिलाओं के लिए वसा हानि और मांसपेशियों के निर्माण में सुधार होता है। दुबले मांसपेशियों के ऊतकों में वृद्धि का समर्थन करने की मांग करने वालों को विटामिन डी 3 (कोलेक्लसिफेरोल) पर जोर देना चाहिए क्योंकि यह रूप इस लक्ष्य का समर्थन करने वाले हार्मोन के उत्पादन को प्रोत्साहित करता है।

3 आयरन

आयरन एक खनिज है जो मुख्य रूप से स्वस्थ लाल रक्त कोशिका के उत्पादन और कार्यशील कोशिकाओं को ऑक्सीजन की डिलीवरी से जुड़ा है। आयरन मांसपेशियों की कोशिकाओं में एडेनोसिन ट्राइफॉस्फेट (एटीपी) उत्पन्न करने में भी मदद करता है, जो मांसपेशियों के संकुचन को चलाने के लिए महत्वपूर्ण है।

महिलाओं को पुरुषों की तुलना में आयरन की अधिक आवश्यकता होती है, विशेष रूप से पीरियड्स के दौरान। ऐसे में आप खून की कमी के कारण सुस्त या उदास महसूस कर सकती हैं। यदि ये लक्षण होते हैं, तो अपने आयरन का सेवन बढ़ाएं और अपने डॉक्टर से बात करें।

यह भी पढ़ें : छोटी – मोटी चोट पर खून रोकने से लेकर घाव भरने में मदद करेंगे ये 5 घरेलू उपाय

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 121
लेखक के बारे में

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं। ...और पढ़ें

अगला लेख