वैलनेस
स्टोर

इस खास ब्‍लड ग्रुप के लोगों को ज्‍यादा होता है डायबिटीज का जोखिम, जानिए क्‍या कहते हैं अध्ययन 

Published on:17 March 2021, 12:00pm IST
डायबिटीज एक जीवन शैली जनित बीमारी है। पर कुछ लोगों को इसका जोखिम ज्‍यादा होता है। इसलिए जरूरी है कि आप पहले ही सावधान रहें।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 82 Likes
जानिए किस ब्लड ग्रुप के लोगों को होता है डायबिटीज का अधिक जोखिम। चित्र: शटरस्‍टॉक

देश में 70 मिलियन लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं। भारत को दुनिया की डायबिटीज राजधानी (diabetes capital) कहा जाता है। डायबिटीज एक जीवन शैली की बीमारी है जिसके लिए आजीवन प्रबंधन की आवश्यकता होती है। सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) के अनुसार, यदि आप प्री डायबिटिक हैं, तो जीवन शैली में कुछ बदलाव आपकी टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम को कम कर सकते हैं। 

लेकिन एक अस्वास्थ्यकर जीवनशैली के अलावा, कई अन्य बाहरी कारक हैं जो आपके इस बीमारी के जोखिम को बढ़ा सकते हैं। ऐसा ही एक कारक आपके रक्त का प्रकार (blood type) है। डायबेटोलोजिया में प्रकाशित 2014 के एक अध्ययन के अनुसार, नॉन-ओ (non-O) ब्लड टाइप वाले यूरोपीय संघ के लोगों में O ब्लड टाइप वाले लोगों की तुलना में टाइप 2 डायबिटीज विकसित होने का खतरा अधिक है।

यह भी पढें: एक अच्छी नींद आपके मस्तिष्क को दर्द भरी स्‍मृतियों से उबरने में मदद कर सकती है

कैसे किया गया अध्ययन

अध्ययन के लिए ब्लड टाइप और टाइप 2 डायबिटीज के जोखिम के बीच संबंध निर्धारित करने के लिए 80,000 महिलाओं का अवलोकन किया गया था। इनमें 3553 लोगों में टाइप 2 डायबिटीज का पता चला था और नॉन-ओ टाइप ब्लड वाले लोगों को को इसका खतरा अधिक था।

जीवनशैली में बदलाव के साथ डायबिटीज के जोखिम को कम किया जा सकता है। चित्र-शटरस्टॉक।

B ब्लड टाइप वाले लोगों को सबसे ज्यादा खतरा होता है

अध्ययन के अनुसार, O ब्लड टाइप वाली महिलाओं की तुलना में A ब्लड टाइप वाली महिलाओं में, टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना 10 प्रतिशत अधिक थी। हालांकि, B ब्लड टाइप वाली महिलाओं में O ब्लड टाइप वाली महिलाओं की तुलना में डायबिटीज विकसित होने की संभावना 21 प्रतिशत अधिक थी।

O नेगेटिव ब्लड टाइप के साथ हर कॉम्बिनेशन की तुलना करते हुए, जो कि एक यूनिवर्सल डोनर भी है, B पॉजिटिव ब्लड टाइप वाली महिलाओं में टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा सबसे ज्यादा था।

B ब्लड टाइप वाले लोग सबसे अधिक जोखिम में क्यों हैं?

शोधकर्ताओं के अनुसार, डायबिटीज के जोखिम और रक्त के प्रकार के बीच संबंध अभी भी अज्ञात है, लेकिन कुछ संभावित स्पष्टीकरण हैं। अध्ययन के अनुसार, नॉन-विलिब्रांड (non-Willebrand) फैक्टर नामक रक्त में एक प्रोटीन नॉन-ओ ब्लड टाइप वाले लोगों में अधिक होता है और यह हाई ब्लड शुगर लेवल से जुड़ा हुआ है।

शोधकर्ताओं ने यह भी कहा कि ये रक्त प्रकार विभिन्न अणुओं (molecules) से भी जुड़े होते हैं, जिन्हें टाइप 2 डायबिटीज से जोड़ा जाता है।

टाइप 2 डायबिटीज से संबंधित जटिलताएं

यदि कोई व्यक्ति टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित है, तो यह उसके शरीर को नियंत्रित करने और चीनी का उपयोग करने के तरीके को प्रभावित करता है। यह ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ाता है, जिसका अगर समय पर इलाज नहीं किया जाता है तो यह अत्यधिक खतरनाक हो सकता है।

यह भी पढें: कोविड-19 का टीका लगवा चुकी हैं? तो अब जानिए कि आपको क्‍या करना है और क्‍या नहीं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।