वैलनेस
स्टोर

इस शोध के अनुसार बहुत सारा खाली समय होना भी पहुंचा सकता है मानसिक स्वास्थ्य को नुकसान

Published on:15 September 2021, 20:30pm IST
एक समय तक किसी व्यक्ति का खाली वक्त उसके लिए अच्छा साबित हो सकता है। लेकिन अगर ये समय बढ़ने लगे तो चिंता का विषय बन जाता है। अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम द्वारा हाल ही में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, बहुत अधिक खाली समय भी आपकी मेंटल हेल्थ को नुकसान पहुंचा सकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 101 Likes
Apne khali samay ka kare sadupyog
अपने खाली समय का करें सदुपयोग। चित्र: शटरस्टॉक

जैसे-जैसे किसी व्यक्ति का खाली समय बढ़ता है, वैसे-वैसे यह उसके मानसिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा साबित होता जाता है। मगर केवल एक सीमा तक। अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम द्वारा हाल ही में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, बहुत अधिक खाली बिताना आपके मानसिक स्वास्थ्य को फायदे पहुंचाने की बजाए नुकसानदेह साबित हो सकता है। और विस्तार से जानने के लिए आगे पढ़िए। 

क्या कहता है शोध ?

यह शोध जर्नल ऑफ पर्सनैलिटी एंड सोशल साइकोलॉजी में प्रकाशित हुआ था। द व्हार्टन स्कूल में मार्केटिंग के सहायक प्रोफेसर और पेपर के मुख्य लेखक मारिसा शरीफ ने कहा, “लोग अक्सर बहुत व्यस्त होने की शिकायत करते हैं और अधिक समय चाहते हैं। लेकिन क्या वास्तव में अधिक समय अधिक खुशी से जुड़ा है? हमने पाया कि एक दिन में आराम के घंटों की कमी के कारण अधिक तनाव होता है। हालांकि, जहां बहुत कम समय खराब होता है वहीं अधिक समय होना हमेशा बेहतर नहीं होता है।”

Zyaada khali samay ban sakta hai depression ka kaaran
ज्यादा खाली समय बन सकता है डिप्रेशन का कारण। चित्र:शटरस्टॉक

कैसे किया गया अध्ययन ?

2012 से 2013 के बीच हुए अमेरिकन यूज ऑफ टाइम सर्वे में 21,736 अमेरिकियों पर विश्लेषण किया गया था। इसमें प्रतिभागियों ने पिछले 24 घंटों के दौरान उनके द्वारा किए गए कार्यों का एक विस्तृत विवरण प्रदान किया। इसमें प्रत्येक गतिविधि का समय और उनके भलाई की भावना पर भी नजर रखी गई। शोधकर्ताओं ने पाया कि जैसे-जैसे खाली समय बढ़ता गया, वैसे-वैसे मानसिक स्वास्थ्य में सुधार हुआ। लेकिन यह सुधार लगभग दो घंटे में बंद हो गया और पांच के बाद घटने लगा।

शोधकर्ताओं ने 13,639  कामकाजी अमेरिकियों के डेटा का भी विश्लेषण किया, जिन्होंने 1992 और 2008 के बीच नेशनल स्टडी ऑफ चैन्जिंग वर्कफोर्स में भाग लिया था। इस सर्वे में भी बहुत सारे सवालों में एक सवाल यह था कि वे अपना खाली समय कैसे बिताते है। शोधकर्ताओं ने पाया कि अपने खाली समय में वे मानसिक स्वास्थ्य में योगदान करते थे, लेकिन केवल एक सीमा तक। 

खाली समय की कल्पना 

घटना की और जांच करने के लिए, शोधकर्ताओं ने 6,000 से अधिक प्रतिभागियों को शामिल करते हुए दो ऑनलाइन प्रयोग किए। पहले प्रयोग में, प्रतिभागियों को कम से कम छह महीने के लिए हर दिन एक निश्चित मात्रा में खाली समय की कल्पना करने के लिए कहा गया था।

प्रतिभागियों को तीन समय सीमा दी गईं। कम (प्रति दिन 15 मिनट), मध्यम (प्रति दिन 3.5 घंटे), या ज्यादा (प्रति दिन 7 घंटे) समय का विकल्प रखा गया। प्रतिभागियों को यह रिपोर्ट करने के लिए कहा गया था कि वे किस हद तक आनंद, खुशी और संतुष्टि का अनुभव करेंगे। अंत में पाया गया कि कम और ज्यादा समय सीमा वाले लोग खुश नहीं थे। सबसे अधिक आनंद और संतुष्टि का अनुभव माध्यम वर्ग के समय सीमा वालों ने किया। 

apne khali samay ko banaye productive
अपने खाली समय को बनाएं प्रोडकटिव। चित्र : शटरस्टॉक

जानिए प्रोडक्टिविटी पर क्या होता है असर 

दूसरे प्रयोग में, शोधकर्ताओं ने प्रोडक्टिविटी की संभावित भूमिका को देखा। प्रतिभागियों को प्रति दिन एक मध्यम (3.5 घंटे) या ज्यादा (7 घंटे) खाली समय की कल्पना करने के लिए कहा गया था, लेकिन उस समय को प्रोडक्टिविटी (उदाहरण के लिए, कसरत, शौक, या दौड़ने) में खर्च करने की कल्पना करने के लिए भी कहा गया था। इसमें अनुत्पादक गतिविधियां (जैसे, टेलीविजन देखना या कंप्यूटर का उपयोग करना) भी शामिल थे। 

यह देखा गए कि ज्यादा खाली समय वाले व्यक्ति अनुत्पादक गतिविधियों को कर रहे थे। हालांकि उत्पादक कार्य करने में मध्यम और ज्यादा समय वाले लोग बराबर स्तर पर थे। 

आराम के लिए मिला समय हमेशा अच्छा नहीं होता 

शरीफ ने कहा, “हालांकि हमारी जांच खाली समय की मात्रा और मानसिक स्वास्थ्य कल्याण की भावना के बीच के संबंधों पर केंद्रित थी, लेकिन लोगों ने अपना समय कैसे व्यतीत किया, इस पर भी हमारी खोज में खुलासा हुआ है।”

उन्होंने आगे कहा, “हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि किसी भी व्यक्ति को अगर ज्यादा खाली समय मिलता है, तो वह दुखी हो सकता है। इसलिए लोगों को अपने मनचाहे तरीके से खर्च करने के लिए एक मध्यम मात्रा में खाली समय रखने का प्रयास करना चाहिए। रिटायरमेंट या नौकरी छोड़ने के कारण जब लोगों को ज्यादा खाली समय मिलता है, तो उन्हे उस वक्त को एक उद्देश्य के साथ बिताने से लाभ होगा।”

यह भी पढ़ें: आखिर कब खत्म होगा कोविड- 19? एक्स्पर्ट्स दे रहे हैं इस सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले सवाल का जवाब

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।