टेंशन न लें, इस स्‍टडी के अनुसार कोविड से रिकवरी के बाद जल्‍दी नष्‍ट नहीं होतीं एंटीबॉडीज

पिछले दिनों कोरोनो के पुर्नसंक्रमण का मामला सामने आने के बाद से लोग और ज्‍यादा डर गए थे। पर घबराएं नहीं, यह नया शोध एंटीबॉडीज की उम्र की ज्‍यादा सटीक कैलकुलेशन कर रहा है।
टीकाकरण एंटीबॉडीज को बनता है जो कोरोनावायरस से लड़ने में मददगार हैं । चित्र: शटरस्‍टॉक
टीकाकरण एंटीबॉडीज को बनता है जो कोरोनावायरस से लड़ने में मददगार हैं । चित्र: शटरस्‍टॉक
भाषा
  • 87

कोरोना से ठीक हो चुके मरीज के शरीर में एंटीबॉडी जल्दी नष्ट नहीं होतीं और दोबारा संक्रमण से भी बचाती हैं। न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपे अध्ययन में यह बात सामने आई है। गौरतलब है कि मरीज के शरीर में संक्रमण के ठीक हो जाने के बाद एंटीबॉडी प्रोटीन विकसित हो जाते हैं, जो शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को उस वायरस के खिलाफ लड़ने के लिए मजबूती देते हैं।

आइसलैंड स्थित डीकोड जेनेटिक्स ने कई विश्वविद्यालयों व मेडिकल सेंटरों और अस्पतालों के साथ मिलकर यह अध्ययन किया। शोध दल ने पाया कि मरीज में कोरोना की पुष्टि होने के चार महीने तक एंटीबॉडी बनी रहती हैं और फिर धीरे-धीरे नष्ट होना शुरू होती हैं। वैज्ञानिकों ने 1,215 कोरोना संक्रमित मरीजों के अध्ययन में पाया कि चार महीने तक उनके शरीर में विकसित एंटीबॉडीज का स्तर नहीं घटा।

दो माह बाद एंटीबॉडी बढ़ी

शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि मरीज में कोरोना की पुष्टि के दो महीने बाद उनके शरीर में एंटीवायरस एंटीबॉडीज का स्तर बढ़ गया। यही स्तर कुल चार माह तक बना रहा।

गंभीर मरीजों में प्रतिरक्षा ज्यादा

वैज्ञानिकों ने यह भी पाया कि एंटीबॉडीज के स्तर का संबंध मरीज में संक्रमण के गंभीर स्तर और उसके अस्पताल में भर्ती होने से भी जुड़ा है।

जितनी गंभीर स्थिति होगी, उतने ज्‍यादा बनते हैं एंटीबॉडीज। चित्र: शटरस्‍टॉक

उन्होंने पाया कि कोरोना के प्रमुख लक्षणों वाला मरीज, जिसे तेज बुखार, खांसी और भूख न लगने की समस्या महसूस होती है, उसके शरीर में ज्यादा एंटीबॉडीज बनती हैं।

पहले था दावा, बहुत तेजी से नष्ट होती है एंटीबॉडी

किंग्स कॉलेज लंदन ने 96 मरीजों पर जुलाई में अध्ययन करके दावा किया था कि कोरोना की एंटीबॉडी बहुत तेजी से नष्ट होती है। शोध में यह भी कहा गया कि एंटीबॉडी अधिकतम तीन महीने ही बनी रहती है और दोबारा संक्रमण के खतरे से मरीज को सुरक्षा नहीं देती।

जगी उम्मीद, वायरस का टीका प्रभावी होगा

शोधार्थी का कहना है कि परिणाम उम्मीद जगाने वाले हैं। कोरोना एंटीबॉडी के शरीर में चार महीने के बने रहने से सबसे ज्यादा लाभ कोरोना वैक्सीन में होगा।

कोविड वैक्‍सीन पर अब उम्‍मीद जताई जा सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

जब वैक्सीन बनकर लोगों के लिए उपलब्ध हो जाएगी तो लोगों में इस एंटीबॉडी का प्रभाव लंबे समय तक रहेगा।

ध्‍यान रखें 

कोविड-19 पर हर रोज नए शोध हो रहे हैं। इसि‍लिए यह जरूरी है कि आप अब भी सुरक्षा के उपाय अपनाती रहें।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 87
अगला लेख