Moon Bath Benefits : स्ट्रेस दूर करने से लेकर पूरे शरीर को फायदा पहुंचाती है चन्द्रमा की रोशनी, आयुर्वेद के अनुसार पूर्णिमा को जरूर लें मून बाथ

सूर्य की तरह चन्द्रमा की रोशनी भी शरीर के लिए फायदेमंद होती है। आयुर्वेद के अनुसार, हर रात एक निश्चित समय के लिए मून बाथ लिया जा सकता है। पूर्णिमा के दिन चांद की अधिक रोशनी मिलने के कारण यह मेंटल हेल्थ के साथ-साथ पूरे शरीर को फायदा पहुंचाता है।
poornima men karen moon bath
चंद्र नमस्कार का अभ्यास शाम या रात में बढ़िया तरीके से किया जाता है। चित्र : पेक्सेल्स
स्मिता सिंह Updated: 18 Oct 2023, 15:28 pm IST
  • 125

आपने यह महसूस किया होगा कि यदि आप चंद्रमा की रोशनी को कुछ देर के लिए निहारती हैं, तो आपका तनाव कुछ देर के लिए रफूचक्कर हो जाता है। आयुर्वेद में सदियों से कई फायदों के लिए मून बाथ को आजमाया जाता रहा है। तनाव को दूर करने के साथ-साथ गर्मी के दिनों में शरीर को ठंडा रखने के लिए भी मून बाथ आजमाया जाता रहा है। इसके कई और भी लाभ हैं। मून बाथ किस तरह पूरे शरीर को फायदा पहुंचाता है। इसके बारे में आयुर्वेद एक्स्पर्ट डॉ. नीतू भट्ट विस्तार से बता रही हैं। ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन (Jyeshtha Purnima-4 june) आप भी मून बाथ का फायदा (moon bath benefits) उठा सकती हैं।

ज्येष्ठ पूर्णिमा में मून बाथ (Jyeshtha Purnima-4 june)

चन्द्रमा की रोशनी हमारे तन-मन दोनों के लिए बढ़िया होती है।पूर्णिमा के दिन आसमान में पूरा चांद दिखता है और उसकी रोशनी भी अधिक चमकदार होती है। ज्येष्ठ महीने में गर्मी अपने प्रचंड रूप में रहती है। दिन भर आप सूर्य की तेज़ रोशनी से परेशान हो सकती हैं। पूर्णिमा के दिन रात में सोसाइटी पार्क या अपनी विंडो या फिर छत पर 10 मिनट चंद्रमा की रोशनी में बैठने की जरूर कोशिश करें। यह न सिर्फ आपको एंग्जायटी और स्ट्रेस से रिलैक्स करेगा, बल्कि पूरे शरीर को तरोताजा कर देगा। सामान्य दिनों में भी चन्द्रमा की रोशनी मेंटल हेल्थ और फिजिकल हेल्थ पर बढ़िया प्रभाव डालती है।

मून एनर्जी मेंटल हेल्थ के लिए बढ़िया (Moon Bath for Mental Health)

आयुर्वेद एक्सपर्ट डॉ. नीतू के अनुसार, ‘जिस तरह से सूर्य की रोशनी शरीर के लिए फायदेमंद है, आयुर्वेद एक्स्पर्ट डॉ. नीतू कहती हैं आयुर्वेद में चंद्रमा की रोशनी को मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए जरूरी माना जाता है। भारत में मून बाथ का प्रयोग सदियों पुराना है। हमारा शरीर वात, कफ, पित्त दोषों से बना है। चन्द्रमा की रोशनी पित्त विकारों को दूर करने में बहुत उपयोगी है। यह तनाव मुक्त करता है। यह हार्मोनल इम्बैलेंस को ठीक करता है। मेनस्ट्रूअल साइकिल में अनियमितता (Moon Bath for Irregular Period) और इनफर्टिलिटी की समस्या को दूर (Moon Bath for Infertility) करने में भी मून बाथ कारगर है।आयुर्वेद मानता है कि जिस व्यक्ति का स्वभाव उग्र (Moon Bath for Anxiety) होता है, उसे यह फायदा पहुंचा सकता है।

कैसे करें मून बाथ (How to do Moon Bath)

डॉ. नीतू के अनुसार, किसी भी व्यक्ति का पित्त दोष बढ़ा हुआ हो सकता है। पित्त दोष को शांत करने के लिए निर्धारित समय के लिए व्यक्ति को चन्द्रमा की रोशनी में बैठाया जाता है। इस प्रक्रिया को मून बाथ (moon bath) कहा जाता है।

moon light men 30 minute tak baithen.
मून बाथ में आमतौर पर जड़ी-बूटियों का उपयोग भी शामिल होता है। चित्र : पेक्सेल्स

यह सनबाथ (Sun Bath) के समान है। इसमें सूर्य की किरणों की बजाय मून एनर्जी ली जाती है। मून बाथ में आमतौर पर जड़ी-बूटियों का उपयोग भी शामिल होता है।’

गहरी नींद दिलाने में कर सकता है मदद (Moon Bath for Sound Sleep)

जर्नल ऑफ़ रिसर्च इन आयुर्वेद के अनुसार, यदि आप आधे घंटे के लिए चंद्रमा की रोशनी में बैठती हैं या उसे निहारती हैं, यह हर तरह के तनाव को दूर कर सर्कडियन रिद्म को संतुलित करने में मदद कर सकता है। इसे सोने से ठीक पहले आजमाया जा सकता है। इसमें किसी भी प्रकार के कृत्रिम प्रकाश से खुद को दूर करना जरूरी है। इससे शरीर को यह संकेत मिलने लगता है कि आराम करने का समय आ गया है

रिलैक्स करता है (Moon Bath for Relaxation)

जर्नल ऑफ़ रिसर्च इन आयुर्वेद में प्रकाशित शोध के अनुसार, तनाव ब्लड प्रेशर और हृदय गति को बढ़ा सकता है और माइग्रेन में भी योगदान दे सकता है। चंद्रमा की रोशनी तनाव की भावनाओं को शांत करता है।

Aapko puri tarah relax karta hai yah aasan
चंद्रमा की रोशनी तनाव की भावनाओं को शांत करता है। चित्र: शटरस्टॉक

अध्ययन बताते हैं कि चांदनी के प्राकृतिक वातावरण के संपर्क में आने से तनाव की भावनाओं को शांत करने और शरीर के ओवरआल हेल्थ को ठीक करने में मदद मिलती है

चंद्रमा की रोशनी में बैठें 30 मिनट (Moon Bath for 30 minutes)

मून बाथ के लिए आपको सिर्फ एक शांत स्थान की तलाश करनी होती है, जहां मून लाइट पर्याप्त मात्रा में आ रही हो। इसके लिए चांद की रोशनी में बाहर जाना, घर के खिड़की-दरवाजों को खोलकर रोशनी अंदर आने देना, ताकि चांदनी घर के अंदर प्रवाहित हो सके। कम से कम 30 मिनट के लिए चंद्रमा की रोशनी में बैठना जरूरी है। इस दौरान हर्बल टी, लेमन बाम (Lemon Balm in Moon Bath) और कैमोमाइल आयल (use chamomile essential oil in Moon Bath) लगाया जा सकता है। त्वचा को पोषण देने के लिए नारियल के तेल या बादाम के तेल का भी प्रयोग किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें :-Text Neck problem: गैजेट के अत्यधिक इस्तेमाल से हो सकती है टेक्स्ट नेक प्रॉब्लम, यहां हैं इसे दूर करने के एक्सपर्ट के बताये 5 उपाय

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख