कोविड-19 के ‘एंडेमिक’ चरण की ओर बढ़ रहा है भारत, जानिए इसके बारे में सब कुछ

Published on: 24 January 2022, 15:13 pm IST

नई दिल्ली में एम्स के एक वरिष्ठ महामारी विज्ञानी ने रविवार को कहा कि कोरोनवायरस या कोविड ​​​​-19 महामारी धीरे-धीरे 'एंडेमिक' चरण की ओर बढ़ रही है।

covid - 19 endemic ki or badh raha hai bharat
कोविड-19 के 'एंडेमिक' चरण की ओर बढ़ रहा है भारत। चित्र : शटरस्टॉक

नई दिल्ली में ऑल इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइन्स (AIIMS) के एक वरिष्ठ महामारी विशेषज्ञ ने रविवार को कहा कि नॉवल कोरोनवायरस या कोविड ​​​​-19 महामारी धीरे-धीरे ‘एंडेमिक’ चरण में प्रवेश कर रही है।

डॉ संजय राय ने कहा कि टीकाकरण और प्राकृतिक संक्रमण की दर को देखते हुए, यह अनुमान लगाया जा सकता है कि “हम में से अधिकांश लोग संक्रमित होंगे।” चिकित्सा अध्ययनों का हवाला देते हुए, डॉ राय ने टिप्पणी की कि जिन लोगों को ये वायरस हो चुका है वे “सबसे सुरक्षित” हैं।

तो क्या है ‘एंडेमिक’?

‘एंडेमिक’ (Endemic) एक ऐसा चरण है, जहां मामले एक विशेष भौगोलिक स्थान पर समूहित हो जाते हैं और संक्रमण पूरे, लेकिन काफी कम संख्या में मौजूद रहते हैं। सीधी भाषा में समझाएं तो कोविड – 19 खत्म नहीं होगा। बल्कि हर कोई इससे संक्रमित होकर इसके प्रति एक नैचुरल इम्यूनिटी जेनेरेट कर लेगा – जैसे कि इंफ्लुएंजा (Influenza)।

kya hai endemic
एंडेमिक आपके लिए एक अच्छी खबर हो सकती है। चित्र : शटरस्टॉक

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा कि कोविड -19 वायरस को समाप्त करना संभव नहीं है, क्योंकि ऐसे वायरस कभी दूर नहीं जाते और अंत में सामाजिक तंत्र का हिस्सा बन जाते हैं।

कैसी है कोरोनावायरस की प्रवृति?

वायरस की प्रवृत्ति के बारे में बताते हुए, डॉ राय ने यह भी नोट किया कि SARS-CoV-2, जिसे आमतौर पर COVID-19 के रूप में जाना जाता है, एक RNA वायरस है। यानी इसमें जेनेटिक सामग्री के रूप में राइबोन्यूक्लिक एसिड होता है। जो “हजारों बार उत्परिवर्तित होता है।”

हालांकि, “चिंता के प्रकार केवल पांच हैं – अल्फा, बीटा, गामा, डेल्टा और ओमिक्रोन, जो बहुत तेजी से फैलने वाली बीमारी है। इसलिए पूरी दुनिया में इनका बहुत तेजी से संचरण हो रहा है।”

यह पूछे जाने पर कि क्या वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा ‘एंडेमिक’ चरण (Endemic Phase) में मूवमेंट से प्रभावित होगी, डॉ राय ने विस्तार से बताया, “समग्र गंभीरता कम है। इसलिए हम में से अधिकांश को यह संक्रमण होगा।” उन्होंने पूरी तरह से समीक्षा का भी हवाला दिया और दावा किया कि जिन लोगों ने वायरस को अनुबंधित किया है, उनमें सबसे प्राकृतिक प्रकार की प्रतिरक्षा (Natural Immunity) विकसित होती है।

covid - 19 endemic
वैक्सीनेशन करा चुके लोग हैं सबसे सुरक्षित। चित्र : शटरस्टॉक

“मौजूदा वैज्ञानिक सबूतों के आधार पर, हम कह सकते हैं कि जो लोग कोविड से ठीक हो गए हैं, वे अब तक सबसे सुरक्षित व्यक्ति हैं। तो दूसरे सबसे सुरक्षित व्यक्ति वे हैं जिन्होंने टीकाकरण करवाया है।” विशेष रूप से, भारत ने कोविड-19 के खिलाफ 162 करोड़ से अधिक टीकाकरण किए हैं। 68.1 करोड़ लोग पूरी तरह से वैक्सीनेटेड हैं।

भारत में ओमिक्रोन ‘कम्यूनिटी ट्रांसमिशन’ के चरण में है

ओमिक्रोन वेरिएंट ने ज़्यादा जनसंख्या के कारण दिल्ली, मुंबई जैसे महानगरीय क्षेत्रों को अधिक प्रभावित किया है। ग्रामीण क्षेत्रों और भारत के पूर्वी हिस्से में, वायरस की प्रगति विशेष रूप से धीमी है।

कोविड -19 का ओमिक्रोन वेरिएंट भारत में ‘कम्यूनिटी ट्रांसमिशन’ चरण (Community Phase) में है और कई महानगरों में तेजी से प्रभावी हो गया है” जहां ताजा संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। 22 जनवरी को, भारत ने लगभग 3,33,000 नए कोविड-19 मामले दर्ज किए। जिससे महामारी की शुरुआत के बाद से कुल संक्रमणों की संख्या 3.92 करोड़ हो गई।

जबकि मामले पिछले डेल्टा संस्करण की तुलना में कम गंभीर रहे हैं। अस्पताल में भर्ती होने और ICU के मामलों में काफी वृद्धि हुई है, जिससे खतरे के स्तर में कोई बदलाव नहीं आया है।

यह भी पढ़ें : कानों में दर्द होना हो सकता है ओमिक्रोन का संकेत, इंटेस्टाइन पर भी कर सकता है हमला

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें