और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

सुबह सिर्फ एक घंटे पहले जागने से अवसाद का खतरा हो सकता है 23% तक कम : अध्‍ययन

Published on:2 June 2021, 13:24pm IST
जामा साइकेट्री जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, सिर्फ एक घंटे पहले जागने से व्यक्ति के गंभीर अवसाद के जोखिम को 23% तक कम किया जा सकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 90 Likes
सुबह जल्‍दी उठना एक अच्‍छी आदत है। चित्र: शटरस्‍टॉक
सुबह जल्‍दी उठना एक अच्‍छी आदत है। चित्र: शटरस्‍टॉक

अगर आप इन दिनों, उदासी और तनाव से घिरी रहती हैं, तो बस अपने तय समय से एक घंटा पहले जागना शुरू करें। यकीनन आप खुद को ज्‍यादा उत्‍साहित और तरोताजा महसूस करेंगी। एक नया अध्‍ययन इस बात की पुष्टि करता है। जामा साइकेट्री पत्रिका में प्रकाशित एक व्यापक और नए जेनेटिक अध्ययन से पता चला है कि सिर्फ एक घंटे पहले जागने से व्यक्ति के बड़े अवसाद के जोखिम को 23 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है।

कोलोराडो बोल्डर विश्वविद्यालय और एमआईटी और हार्वर्ड के ब्रॉड इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं द्वारा 840,000 लोगों का अध्ययन, कुछ सबसे मजबूत सबूतों का प्रतिनिधित्व करता है कि कालक्रम- एक निश्चित समय पर सोने-जागने के लिए एक व्यक्ति की प्रवृत्ति- अवसाद के जोखिम को प्रभावित करती है।

क्‍या कहता है अध्ययन

मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने के लिए कितने और किस तरह के परिवर्तन की आवश्यकता है, यह मापने के लिए यह अपनी तरह का पहले अध्ययनों में से एक है। लॉक डाउन ने लोगों के स्लीपिंग पैटर्न को बहुत प्रभावित किया है। ऐसे में यह अध्ययन महत्वपूर्ण सािबि‍त हो सकता है।

देर रात तक जागने वालों में अवसाद का जोखिम ज्‍यादा होता है। चित्र : शटरस्टॉक।
देर रात तक जागने वालों में अवसाद का जोखिम ज्‍यादा होता है। चित्र : शटरस्टॉक।

“हम जानते हैं कि सोने के समय और मनोदशा के बीच एक संबंध है, लेकिन एक सवाल जो हम अक्सर चिकित्सकों से सुनते हैं, कि : लाभ देखने के लिए हमें लोगों को कितनी जल्दी उठाना चाहिए?” सीयू बोल्डर में एकीकृत शरीर विज्ञान के सहायक प्रोफेसर वरिष्ठ लेखक सेलीन वेटर ने कहा। “हमने पाया कि एक घंटे पहले सोने का समय भी अवसाद के जोखिम को कम करता है।”

पिछले अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग रात में जागते हैं, उनकी अवसाद से पीड़ित होने की संभावना दोगुनी होती है बजाए उनके जो जल्दी उठते हैं। फिर चाहें वे कितनी भी देर तक सोएं। लेकिन क्योंकि मनोदशा संबंधी विकार स्वयं नींद के पैटर्न को बाधित कर सकते हैं, शोधकर्ताओं को यह समझने में कठिन समय लगा है कि असल कारण क्‍या है।

2018 में, वेटर ने 32,000 नर्सों का एक बड़ा, दीर्घकालिक अध्ययन प्रकाशित किया, जिसमें दिखाया गया था कि “जल्दी उठने” में चार वर्षों के दौरान अवसाद विकसित होने की संभावना 27 प्रतिशत तक कम थी।

जल्दी उठने से डिप्रेशन कम होता है

यह स्पष्ट रूप से समझने के लिए कि क्या पहले सोने का समय बदलना वास्तव में सुरक्षात्मक है, और कितनी शिफ्ट की आवश्यकता है, मुख्य लेखक इयास डगलस, एमडी ने डीएनए परीक्षण कंपनी 23 और मी और बायोमेडिकल डेटाबेस यूके बायो बैंक से डेटा की ओर रुख किया। डगलस ने तब “मेंडेलियन रैंडमाइजेशन” नामक एक विधि का उपयोग किया, जो कारण और प्रभाव को समझने में मदद करने के लिए जेनेटिक्स का लाभ उठाता है।

हार्वर्ड मेडिकल स्कूल से मई में स्नातक करने वाले डगलस ने कहा, “हमारे जेनेटिक्स जन्म के समय निर्धारित होते हैं। इसलिए कुछ पूर्वाग्रह जो अन्य प्रकार के महामारी विज्ञान अनुसंधान को प्रभावित करते हैं, जेनेटिक्स अध्ययन को प्रभावित नहीं करते हैं।”

अच्‍छी नींद लेना आपके लिए बहुत जरूरी है। चित्र : शटरस्टॉक
अच्‍छी नींद लेना आपके लिए बहुत जरूरी है। चित्र :
शटरस्टॉक

तथाकथित “क्लॉक जीन” PER2 में वेरिएंट सहित 340 से अधिक सामान्य आनुवंशिक रूपांतर, किसी व्यक्ति के कालक्रम को प्रभावित करने के लिए जाने जाते हैं, और जेनेटिक्स सामूहिक रूप से हमारी नींद के समय की प्राथमिकता का 12-42 प्रतिशत बताती है।

शोधकर्ताओं ने इन वेरिएंट्स पर 850, 000 व्यक्तियों के डी-आइडेंटेड जेनेटिक डेटा का आकलन किया, जिसमें 85,000 के डेटा शामिल थे, जिन्होंने 7 दिनों के लिए पहनने योग्य स्लीप ट्रैकर पहने थे और 250,000 जिन्होंने स्लीप-वरीयता प्रश्नावली भर दी थी।

इनमें से सबसे बड़े नमूनों में, सर्वेक्षण किए गए लगभग एक तिहाई लोग सुबह उठने वाले थे (Morning Larks), जबकि 9% रात में जागने वाले थे और बाकी बीच में थे। कुल मिलाकर, औसत नींद मध्य-बिंदु 3 बजे थी, जिसका अर्थ है कि वे रात 11 बजे बिस्तर पर चले गए और सुबह 6 बजे उठ गए।

शोधकर्ताओं ने एक अलग नमूने की ओर रुख किया जिसमें जेनेटिक जानकारी के साथ-साथ अज्ञात चिकित्सा और नुस्खे के रिकॉर्ड और प्रमुख अवसाद विकार के निदान के बारे में सर्वेक्षण शामिल थे।

नवीन सांख्यिकीय तकनीकों का उपयोग करते हुए, उन्होंने पूछा: क्या जेनेटिक चेंज वाले लोग जो जल्दी उठते हैं, उनमें भी अवसाद का जोखिम कम होता है?

जवाब हां है! एक घंटे पहले सोना (सोने के समय और जागने के समय के बीच का आधा) अवसाद विकार के 23 प्रतिशत जोखिम को कम करता है।

इससे पता चलता है कि अगर कोई व्यक्ति जो आम तौर पर 1 बजे बिस्तर पर जाता है, आधी रात को बिस्तर पर जाता है और उसी अवधि में सोता है, तो वे अपने जोखिम को 23 प्रतिशत तक कम कर सकते हैं। अगर वे रात 11 बजे बिस्तर पर जाते हैं, तो वे इसे लगभग 40 प्रतिशत तक कम कर सकते हैं।

चैन की नींद सोना आपको लंबी और स्वस्थ जिंदगी दे सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

जो पहले से ही जल्‍दी उठते हैं

अध्ययन से यह स्पष्ट नहीं है कि जो लोग पहले से ही जल्दी उठने वाले हैं, वे पहले भी उठने से लाभ उठा सकते हैं। क्योंकि बायोलॉजिकल क्लॉक, या सर्कैडियन लय, अधिकांश लोगों में अलग – अलग होती है।

कुछ शोध से पता चलता है कि दिन के दौरान ज्यादा लाइट एक्सपोज़र प्राप्त करना, जो जल्दी उठने वालों को मिलता है, परिणामस्वरूप हार्मोनल प्रभावों का एक झरना होता है जो मूड को प्रभावित कर सकता है।

डगलस ने कहा “हम एक ऐसे समाज में रहते हैं, जो सुबह उठने वाले लोगों के लिए बनाया गया है, और शाम को उठने वाले लोगों को अक्सर ऐसा लगता है कि वे उस सामाजिक घड़ी के साथ लगातार गलत स्थिति में हैं।”

यह भी पढ़ें – मसूड़ों की बीमारी और खराब ओरल हेल्‍थ आपके कोविड के खतरे को बढ़ा सकती है

फॉलो करें ये स्‍वस्‍थ आदतें

उन्होंने जोर देकर कहा कि निश्चित रूप से यह निर्धारित करने के लिए एक बड़ा नैदानिक ​​​​परीक्षण आवश्यक है कि क्या जल्दी बिस्तर पर जाने से अवसाद कम हो सकता है। “लेकिन यह अध्ययन निश्चित रूप से अवसाद पर नींद के समय के एक कारण प्रभाव का समर्थन करने के लिए सबूतों के वजन को बदल देता है।”

सुबह जल्‍दी उठें और अपनी पसंद की कॉफी या चाय पिएं। चित्र : शटरस्टॉक
सुबह जल्‍दी उठें और अपनी पसंद की कॉफी या चाय पिएं। चित्र : शटरस्टॉक

उन लोगों के लिए जो खुद को पहले के स्लीप शेड्यूल में शिफ्ट करना चाहते हैं, वेटर यह सलाह देते हैं, “अपने दिन उज्ज्वल रखें। सुबह की कॉफी पिएं। यदि आप कर सकते हैं तो काम करने के लिए पैदल चलें या अपनी बाइक की सवारी करें और शाम को उन इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट्स को बंद करें।”

यह भी पढ़ें – आपकी सेहत के लिए जरूरी है हरी सब्जियों में मौजूद ये खास पोषक तत्‍व

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।