महिलाएं और वेट ट्रेनिंग, जानिए आपके लिए क्या सही है और क्या नहीं

Published on: 20 December 2021, 14:09 pm IST

यदि आप सोच रही हैं कि आपको हर दिन वेट लिफ्टिंग करनी चाहिए या नहीं, तो हमारे पास इसका जवाब है! चलिये जानते हैं आपकी सेहत पर पड़ने वाले वेट लिफ्टिंग के प्रभाव के बारे में।

mahilon ke liye weight lifting
जानिए महिलाओं के लिए वेट लिफ्टिंग के बारे में कुछ फैक्ट और कुछ मिथ्स। चित्र : शटरस्टॉक

हम में से अधिकांश पहले से ही जानते हैं कि सिर्फ कार्डियो ही आपको फिट और मजबूत नहीं बना सकता। मांसपेशियों के निर्माण और अपने शरीर को बेहतर बनाने के लिए आपको वेट लिफ्टिंग की भी आवश्यकता होती है। मगर क्या आप जानते हैं कि यह आपकी हड्डियों और हृदय स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है! साथ ही यह आपको बेहतर नींद देने में भी मदद कर सकता है। मगर फिर भी, क्या महिलाओं के लिए हर रोज वेट लिफ्टिंग करना ठीक है? आइए पता करते हैं।

एफआईटीटीआर की एडवांस कोच अक्षिता अरोड़ा ने हेल्थशॉट्स को इस बारे में विस्तार से बताया।

वह बताती हैं – “हमेशा एक धारणा रही है कि वेट ट्रेनिंग महिलाओं को मर्दाना बना देगी। वास्तव में, वेट लिफ्टिंग या वेट ट्रेनिंग, महिलाओं सहित सभी को अपने फिटनेस लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करती है। हर रोज स्ट्रेन्थ ट्रेनिंग करना, साथ ही रेसिस्टेंस बैंड और वेट लिफ्टिंग के कई लाभ हो सकते हैं।”

weightlifting ke baare mein myth aur fact
वेट लिफ्टिंग के बारे में कुछ फैक्ट और कुछ मिथ्स। चित्र : शटरस्टॉक

हर दिन वेट ट्रेनिंग से क्या लाभ मिलते हैं?

अरोड़ा कहती हैं – महिलाओं को वेट ट्रेनिंग से कई फायदे हो सकते हैं। “वास्तव में, बहुत सी महिलाओं के टिश्यू लीन होते हैं, जो न केवल उन्हें अधिक टोंड दिखने में मदद करते हैं, बल्कि उनकी समग्र शक्ति में भी मदद करते हैं। जिससे उन्हें जीवनशैली संबंधी विकारों से दूर रहने में मदद मिलती है।

वेट लिफ्टिंग के कुछ फायदे यहां दिए गए हैं

मांसपेशियों को विकसित करने में मदद करता है जिसके परिणामस्वरूप वर्कआउट करने के लिए अधिक सहनशक्ति और ताकत बढ़ती है

एथलेटिक प्रदर्शन को बढ़ाता है

वर्कआउट के दौरान कैलोरी बर्न करने के अलावा, शरीर को अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है।

एंडोर्फिन को रिलीज करता है, और मूड को बूस्ट करता है।

इसके अलावा, ‘स्ट्रेंथ ट्रेनिंग एंड द रिस्क ऑफ टाइप 2 डायबिटीज एंड कार्डियोवैस्कुलर डिजीज’ नामक शोध के अनुसार, यह देखा गया कि जिन महिलाओं ने अपनी दिनचर्या में स्ट्रेंथ ट्रेनिंग को शामिल किया, उनमें टाइप 2 मधुमेह की घटनाओं में 30 प्रतिशत की कमी आई। उनमें कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों का विकास भी 17 प्रतिशत कम देखा गया।

महिलाओं में उम्र से संबंधित ऑस्टियोपोरोसिस विकसित करने की प्रवृत्ति होती है और दिनचर्या में शक्ति प्रशिक्षण को शामिल करके, कोई भी मांसपेशियों को बढ़ा सकता है। जिससे खनिज घनत्व में सुधार होता है।

फैट लॉस करने के लिए वेट ट्रैनिंग ज़रूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
फैट लॉस करने के लिए वेट ट्रैनिंग ज़रूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

लेकिन क्या हर दिन वेट लिफ्टिंग करने के कोई दुष्प्रभाव हैं?

अरोड़ा बताती हैं -“वजन प्रशिक्षण के कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं हैं, लेकिन किसी को ऐसे व्यायाम मार्गदर्शन में और संयत गति से करना चाहिए। जो आपके शरीर और लक्ष्य के अनुकूल हो। सही फॉर्म और तकनीक के साथ अभ्यास करने पर ध्यान केंद्रित होना चाहिए। फिर प्रशिक्षण को और अधिक चुनौतीपूर्ण बनाने के लिए वजन को प्रबंधित या समायोजित किया जा सकता है।”

रिकवरी भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। इसलिए हर दिन एक ही मांसपेशी समूह को प्रशिक्षण देने से बचना चाहिए। एसीई के शोध के अनुसार, यदि आपका लक्ष्य मांसपेशियों की सहनशक्ति का निर्माण करना है, तो वर्कआउट के बीच कम से कम 24 घंटे का अंतराल हाेना चाहिए। वहीं अगर आपके दिमाग में हाइपरट्रॉफी है, तो 24 से 72 घंटे आराम करें।

अरोड़ा ने निष्कर्ष निकाला – “इसके अलावा, यह अनुशंसा की जाती है कि किसी को अपना प्रशिक्षण शुरू करने से पहले वार्म-अप और मांसपेशियों को आराम करने और ठीक होने के लिए अच्छी रात की नींद लेना जरूरी है। यदि आपको कोई अंतर्निहित चोट है, तो वजन प्रशिक्षण शुरू करने से पहले डॉक्टर से परामर्श लें।”

यह भी पढ़ें : नए साल में लिया है वेट लॉस का संकल्प, तो हम बता रहे हैं इसके लिए सबसे प्रभावशाली डाइट प्लान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें