एक ही बार में पूरे शरीर को डिटॉक्स करने के लिए ट्राई करें साइड-टू-साइड ट्विस्ट योगासन

Published on: 17 June 2022, 09:30 am IST

शरीर को डिटॉक्सिफाई करने से लेकर आपको दिलाने में मदद करने तक, साइड - टू - साइड योगासना आपको बहुत सारे फायदे दे सकता है।

belly exercise
पेट की चर्बी को कम करने के आसन को आजमाएं। चित्र:शटरस्टॉक

अगर सही तरीके से किया जाए तो योगाभ्यास के अत्यधिक लाभ होते हैं। बहुत से लोग मानते हैं कि योग करना मुश्किल है और इसलिए उन्होंने अभी तक इसे ट्राई ही नहीं किया है। हालांकि, सभी योगा पोज़ के लिए आपको लचीला होने की आवश्यकता नहीं होती है। साइड-टू-साइड ट्विस्ट योगासन एक ऐसा योगासन है, जो इतना सरल और करने में इतना सहज है कि कोई भी इसे आसानी से कर सकता है।

हेल्थ शॉट्स ने इसके लिए कल्टफिट की योग और मेडिटेशन लीड दिव्या रोला से बात की, जिन्होंने इस आसान योग मुद्रा को करने के 5 शानदार लाभ बताए।

दिव्या कहती हैं “साइड-टू-साइड ट्विस्ट बहुत आसान है। मैं इसे अपने द्वारा आयोजित प्रत्येक योगा क्लास में शामिल करती हूं। मैं शायद ही कभी ऐसी कोई क्लास करती हूं जिसमें ट्विस्ट शामिल न हों।”

इस योग आसन के 5 लाभ इस प्रकार हैं:

साइड-टू-साइड ट्विस्ट रीढ़ की गतिशीलता को बढ़ाते हैं और मूवमेंट को आसान बनाते हैं। यह बदले में पीठ दर्द को कम करने में मदद करते हैं, जो आजकल एक बेहद आम समस्या बन गई है।

अभ्यास में नियमित रूप से ट्विस्ट को शामिल करने से, शरीर के पाचन क्रिया को बढ़ावा मिलता है क्योंकि ट्विस्ट गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट मूवमेंट में मदद करते हैं। वे पेट और श्रोणि गुहा में सभी अंगों में रक्त के प्रवाह को बढ़ाते हैं। बढ़ी हुई गति आपके शरीर में ताजा ऑक्सीजन युक्त रक्त प्रदान करती है। यह आपकी इम्युनिटी को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Kamya (@yogawithkamya_)

यह योग मुद्रा लेट कर की जाती है और करने में आसान होती है। इसलिए, यह सोने से पहले शरीर और दिमाग को आराम देने में मदद करती है।

रोला ने हेल्थशॉट्स को बताया, “बीकेएस अयंगर ने ‘लाइट ऑन योगा’ नामक अपनी पुस्तक में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया है कि कैसे साइड-टू-साइड ट्विस्ट शरीर के लिए डिटॉक्सिफाइंग लाभ प्रदान करते हैं।”

ट्विस्ट के दौरान, हमारे शरीर के अंग जो इस मूवमेंट में शामिल होते हैं, पुराने रक्त को बाहर निकालने में मदद करते हैं। इसलिए, जब हम अगला ट्विस्ट करने से पहले यह मुद्रा छोड़ते हैं, तो ताजा रक्त अंगों में प्रवाहित होता है। यह उदर और श्रोणि गुहा क्षेत्र में गति में शामिल सभी अंगों को सक्रिय और उत्तेजित करने में मदद करता है।

यहां जानिए साइड-टू-साइड ट्विस्ट योगासन करने का तरीका

एक योगा मैट पर लेट जाएं। अपने हाथों को अपने सिर के ऊपर लॉक करें।

अपने पैरों को घुटनों से मोड़ें और घुटनों को मोड़कर जमीन के बाईं ओर स्पर्श करें।

एक बार जब आप बाईं ओर स्पर्श करते हैं, तब तक दाईं ओर मुड़ें जब तक कि घुटने जमीन के दाईं ओर के संपर्क में न आ जाएं।

इस रूटीन को 2 मिनट तक फॉलो करें, फिर उसी पोजीशन में रिलैक्स करें

रोला कहती हैं, ट्विस्ट करने के कई लाभ हैं, लेकिन हमें यह भी पता होना चाहिए कि उन्हें कब करने से बचना है। मेरा सुझाव है कि रीढ़ की हड्डी में चोट होने पर हर किसी को ट्विस्ट से बचना चाहिए। जो महिलाएं गर्भवती हैं या जिन्हें मासिक धर्म हो रहा है उन्हें भी इस आसन से बचना चाहिए।

यह भी पढ़ें : Yoga for weight loss : वेट लॉस चैलेंज लिया है, तो इन 5 योगासनों को करें अपने वर्कआउट में शामिल

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें