कमर और कूल्हों की चर्बी कम करनी है, तो अपने रेगुलर राइस को ब्राउन राइस से रिप्लेस करें

Published on: 7 December 2021, 17:00 pm IST

सर्दियां सेहत के लिए एक लाजवाब मौसम हैं। जी हां, यह बिल्कुल सच है। बस इसके लिए आपको थोड़े से बदलाव करने होंगे।

brown rice benefits
सफेद चावल के मुकाबले ब्राउन राइस पोषक तत्व ज्यादा प्रदान करते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

भारत में चावल के शौकीन लोग कम नहीं हैं। लेकिन चावल में मौजूद कैलोरी की मात्रा हमें संकट में डाल देती है। खासकर सर्दियों के मौसम में। इस मौसम में वजन बढ़ने की संभावनाएं काफी बढ़ जाती हैं। अपने आहार में चावल का सेवन करना आपके पूरे साल की डाइट को प्रभावित कर सकता है। लेकिन लेडीज़ परेशान न हो क्योंकि हम आपके लिए व्हाइट राइस की जगह ब्राउन राइस का विकल्प लेकर आए हैं। जिसका सेवन करने से आपको वेट लॉस करने में सहायता मिल सकती है।

सर्दियों में क्यों बढ़ता है वजन?

दरअसल सर्दियों के मौसम में अपनी क्रेविंग को रोकना काफी कठिन हो जाता है। इसके साथ ही हार्मोंस में बदलाव, विटामिन डी की कमी और पार्टियां सर्दियों में वजन बढ़ने का मुख्य कारण हैं। सर्दियों के मौसम में पसंद किए जाने वाले व्यंजन ज्यादातर हाई कैलोरी से भरे होते हैं। जो वजन बढ़ाने में योगदान करते हैं। 

हम बताते हैं सर्दियों में वजन बढ़ने के कारण। चित्र: शटरस्‍टॉक
हम बताते हैं सर्दियों में वजन बढ़ने के कारण। चित्र: शटरस्‍टॉक

बिंज इटिंग का यह मौसम स्वाभाविक रूप से आपके बढ़ते वजन का कारण बन जाता है। न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन के अनुसार सर्दियों में वजन बढ़ना वास्तव में हकीकत है। अगर आप चाहती हैं कि यह हकीकत आपकी न बने, तो कुछ बदलाव आपके लिए मददगार हो सकते हैं। 

जानिए कैसे सफेद चावलों से बेहतर हैं ब्राउन राइस?

सफेद चावल के मुकाबले ब्राउन राइस पोषक तत्व ज्यादा प्रदान करते हैं। इसमें ज्यादा फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। साथ ही अधिक विटामिन और खनिज भी पाए जाते हैं। यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर के डाटा के अनुसार 100 ग्राम पके हुए ब्राउन राइस में 1.6 ग्राम फाइबर होते हैं। जो वाइट राइस के मुकाबले काफी ज़्यादा है। 158 ग्राम वाइट राइस में 1 ग्राम से भी कम फाइबर होता है।    

ब्राउन राइस सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। चित्र- शटरस्टॉक।

ब्राउन राइस में मैग्नीशियम और फाइबर की मात्रा अधिक होती है, ये दोनों ही ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। एनसीबीआई के अनुसार एक शोध से पता चलता है कि नियमित रूप से साबुत अनाज, जैसे ब्राउन राइस खाने से रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद मिलती है और टाइप 2 मधुमेह का खतरा कम होता है।

वजन कम करने में कैसे लाभदायक हैं ब्राउन राइस

सफेद चावलों की बजाए ब्राउन राइस खाने से वजन, बॉडी मास इंडेक्स (BMI), कमर और कूल्हों की परिधि में काफी कमी आ सकती है। 

29,683 वयस्कों और 15,280 बच्चों पर किए गए नेशनल हेल्थ एंड न्यूट्रिशन एग्जामिनेशन सर्वे के अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने पाया कि लोग जितना अधिक साबुत अनाज खाते हैं, उनके शरीर का वजन उतना ही कम होता है। 

और भी हैं भूरे चावल यानी ब्राउन राइस खाने के फायदे 

इनमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं

ब्राउन राइस का सेवन करने का सबसे अच्छा कारण यह है कि इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। यह एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं। एंटीऑक्सीडेंट्स गुण कई रोगों से निपटने में मदद करते हैं, जिसमें अस्थमा और गठिया भी शामिल है। ब्राउन राइस का सेवन करने वाले प्रतिभागियों को कुछ जोखिम कारकों जैसे कि हृदय और वजन, कमर और कूल्हे की परिधि में कमी पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है।

जल्दी फैट बर्न करते हैं ब्राउन राइस 

ब्राउन राइस शरीर की अतिरिक्त चर्बी को बर्न करने में सक्षम होता है। द अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रिशन द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि जो लोग कम कैलोरी वाले आहार का सेवन करते हैं, वे रिफाइंड अनाज खाने वालों की तुलना में पेट की चर्बी जल्दी कम कर पाते हैं। 

ये आयरन, पोटेशियम, विटामिन और अन्य आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर होता है। एक कटोरी ब्राउन राइस खाने के बाद आपको पेट भरा हुआ महसूस हो सकता है और इन्हें खाने से मोटापा बिल्कुल भी नहीं आता है।

यह भी पढ़े : आपकी वेट लॉस यात्रा को थोड़ा और आसान बना सकती है मटर, हम बता रहे हैं कैसे

अक्षांश कुलश्रेष्ठ अक्षांश कुलश्रेष्ठ

सेहत, तंदुरुस्ती और सौंदर्य के लिए कुछ नई जानकारियों की खोज में

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें