Butt fat: बट्स पर जमा चर्बी को दूर करने के लिए इन टिप्स को करें फॉलो

बॉडी को फिट रखने के लिए पेट की चर्बी के अलावा बट्स की शेप में सुधार लाना भी ज़रूरी है। इसके लिए खान पान की आदतों में सुधार लाने के साथ कुछ खास एक्सरसाइज़ को दिनचर्या का हिस्सा बना लेना आवश्यक है।
Butt ko shape mei lane ke liye inn tips ko follow karein
थाई और बट को शेप में लाने के लिए इन व्यायामों का करें अभ्यास। चित्र शटरस्टॉक।
ज्योति सोही Published: 16 Dec 2023, 08:00 am IST
  • 140

लोअर बॉडी को हेल्दी और एक्टिव बनाने के लिए एक्सरसाइज़ को अपनी दिनचर्या में शामिल करना ज़रूरी है। अन्यथा उम्र के साथ बढ़ने वाली शारीरिक समस्याएं शरीर को अपनी चपेट में ले लेती हैं। बॉडी को फिट रखने के लिए पेट की चर्बी के अलावा बट्स की शेप में सुधार लाना भी ज़रूरी है। इससे खान पान की आदतों में सुधार लाने के साथ कुछ खास एक्सरसाइज़ को दिनचर्या का हिस्सा बना लेना आवश्यक है। एक्सरसाइज़ से मांसपेशियां एक्टिव हो जाती हैं और शरीर करे मज़बूती मिलती है। जानते हैं बट्स पर जमा चर्बी को दूर करने की टिप्स (tips to lose butt fat)।

बट्स को शेप में लाने के लिए इन टिप्स को फॉलो करें (tips to lose butt fat)

1. सीढ़ियां चढ़ना

शरीर में जमा कैलोरीज़ को बर्न करने के लिए सीढ़ियां चढ़ना और उतरना एक बेहतरीन विकल्प है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन के एक शोध के अनुसार महिलाएं हर बार लगभग दो मिनट के लिए 90 कदम प्रति मिनट की दर से सीढ़ियां चढ़ती थीं। रिसर्च के पहले वीक में दिन में एक बार, सप्ताह में पांच दिन सीढ़ियां चढ़ते थे। सातवें और आठवें वीक में, वे दिन में पांच बार और सप्ताह में पांच दिन सीढ़ियाँ चढ़ते थे। दिनभर में 10 मिनट की गई इस एक्सरसाइज़ से महिलाओं को खबू लाभ प्राप्त हुआ। इससे टांगों की मांसपेशियों को मज़बूती मिलर और बट फैट भी रिडयूज होने लगा।

Jaanein seediyaan chadne ke fayde
सीढ़ि‍यां चढ़ना एक बेहतरीन एक्‍सरसाइज है। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. हाइकिंग

लंबे वक्त तक पैदल चलना भी बेलॉस में मददगार साबित होता है। बिना रूके देर तक चलते से पैरों के मसल्स मज़बूत बनते हैं। इससे शरीर में बार बार होने वाली थकान से राहत मिलती है और शरीर का स्टेमिना भी बढ़ने लगता है। दिनभर में 30 मिनट की वॉक बेहद कारगर होती है। इससे शरीर एक्टिव बना रहता है।

3. रॉक क्लाइम्बिंग

देर तक चलना या सीढ़ियां चढ़ने की तुलना में रॉक क्लाइम्बिंग ज्यादा कैलोरीज़ बर्न करने में मदद करती हैं। जिम में की जाने वाली इनडोर क्लाइम्बिंग न केवल पूरी तरह से सेफ होती है बल्कि इससे वेटलॉस में मदद मिलती है। टांगों की मांसपेशियों में खिंचाव आने से न केवन मसल्स को मज़बूती मिलती है बल्कि थाइज़ व बट्स पर जमा फैट्स भी बर्न होते हैं। इससे मानसिक स्वास्थ्य भी उचित बना रहता है।

4. योग है फायदेमंद

दिनभर में 15 से 20 मिनट योगाभ्यास करने से शरीर पूरी तरह से स्ट्रेच हो जाता है। इससे मसल्स में होने वाली स्टिफनेस दूर हो जाती है और शरीर में लचीलापन बढ़ने लगता है। मसल्स स्ट्रेच होने ने पेट के निचले हिस्से पर जमा चर्बी अपने आप बर्न होने लगता है। इससे शरीर के पोश्चर में सुधार आने लगता है। शरीर को जमा फैट्स को बर्न करने के लिए रोज़ाना कुछ देर चक्रासन, शशांकासन, मत्स्यासन, मलासन और कपालभाति समेत प्राणायाम अवश्य करें।

Yoga karne ke fayde
ब्रीदिंग एक्सरसाइज हमें कई परेशानियों से बचाने का काम करती है। चित्र- अडोबी स्टॉक

5. स्क्वैट्स

रोज़ स्क्वैट्स करने से बट्स की शेप में सुधार आने लगता है। इससे टांगों में होने वाले दर्द और घुटनों में आने वाली समस्या से राहत मिल जाती है। इसे रोज़ाना करने से हैमस्ट्रिंग, ग्लूट्स और हिप्स के मसल्स मज़बूत बन जाते हैं। बट्स को शेप में लाने के लिए दिनभर में 2 से 3 बार 15 से 20 राउंड स्क्वैट्स करें। अत्यधिक भार को जोड़कर एक्सरसाइज़ करने की जगह राउंडस को बढ़ाने पर फोकस करें। स्क्वैट्स के दौरान घुटनों को मोड़कर कुछ देर उसी मुद्रा में रहने से बट्स को मज़बूती मिलती है।

6. लंजेस

जांघो पर जमा फैट्स को बर्न करने के लिए लंजेस का प्रयास आवश्यक है। लोअर बॉडी को हेल्दी और फिट बनाने में लंजेस बेहद फायदेमंद है। इसे करने के लिए खड़े होकर हाथ कमर पर टिका लें। इसके बाद बाएं पैर को बाहर निकालकर दाएं घुटने को जमीन पर टिका लें। 2 से 3 सेकण्ड तक इस पोजिशन में रहने के बाद सीधे हो जाएं और फिर दूसरे घुटने को जमीन पर लगाएं। इस प्रकार आपके बट्स के मसल्स हेल्दी बनते हैं और फैट्स बर्न होने लगते हैं।

ये भी पढ़ें- Keto Diet : इन 5 कारणों से कीटो डाइट भी नहीं कर पा रही आपका वजन कम

  • 140
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख