कोविड -19 के इस दौर ने सिखाए फिटनेस के 5 सबक, क्या आपने इन्हें अपनाया?

Published on: 17 January 2022, 08:00 am IST

कोराेनावायरस महामारी के बाद फिटनेस निश्चित रूप से एक प्राथमिकता बन गई है। लेकिन इस दौरान क्या आपने वे सबक सीखे हैं जो आपकी सेहत के लिए जरूरी हैं!

Covid-19 mein in finess lesson ka paalan kare
कोविड-19 के दौर में इन फिटनेस लेसन का पालन करें। चित्र:शटरस्टॉक

आप सभी जानते हैं कि व्यायाम करना आपके लिए अच्छा है। हालांकि, कोविड -19 महामारी ने व्यायाम के महत्व और अपनी फिटनेस पर ध्यान केंद्रित करने पर फिर से जोर दिया है जैसा पहले कभी नहीं था। जब आप घर में बंद थे, तो आप में से कई लोगों ने नियमित रूप से कसरत करना शुरू कर दिया और सक्रिय रहने के लिए विभिन्न गतिविधियों को पाया।

कोविड -19 के दौरान फिटनेस और अपने स्वास्थ्य और कल्याण पर ध्यान केंद्रित करने के लिए ये एक्सरसाइज जरूरी था। इसने आपके लिए बहुत सी चीजों को परिप्रेक्ष्य में रखा है।

यहां कुछ फिटनेस लेसन दिए गए हैं, जो आप सभी को कोविड -19 महामारी से सीखने चाहिए

1. वर्कआउट करने से इम्यून सिस्टम की कार्यप्रणाली में सुधार होता है

शारीरिक गतिविधि और वर्कआउट करने से फेफड़ों और वायुमार्ग से बैक्टीरिया को बाहर निकालने में मदद मिल सकती है। इससे सर्दी, फ्लू और अन्य बीमारियों के होने की संभावना कम हो जाती है। नियमित व्यायाम से आपके शरीर के एंटीबॉडी और रोग से लड़ने वाली श्वेत रक्त कोशिकाओं (WBC) में परिवर्तन हो सकता है। यह एंटीबॉडी और डब्ल्यूबीसी को अधिक तेजी से प्रसारित करने का कारण बनता है।

exercise aapke immune system ko majboot karta hai
लगातार व्यायाम आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है। चित्र:शटरस्टॉक

यह बीमारियों का जल्द पता लगाने में सहायता करता है और गंभीर संक्रमण को रोकने में मदद कर सकता है। शारीरिक गतिविधि का अभ्यास प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है, वायरल संचारी रोगों के लिए बेहतर प्रतिक्रिया का सुझाव देता है।

2. वर्कआउट करने से पुरानी बीमारियों का खतरा कम हो सकता है या उनका मुकाबला करने में मदद मिल सकती है

पर्याप्त व्यायाम और नियमित शारीरिक गतिविधि की कमी विभिन्न पुरानी स्थितियों और बीमारियों के प्राथमिक कारणों में से एक है। यह दिखाया गया है कि नियमित रूप से व्यायाम करने से हृदय स्वास्थ्य, इंसुलिन संवेदनशीलता और शरीर की संरचना में सुधार होता है। इसे करने से रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।

नियमित रूप से व्यायाम करना विशेष रूप से टाइप 2 मधुमेह, हृदय रोग, उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम या पीसीओएस (PCOS), और कई प्रकार के कैंसर जैसी कुछ पुरानी स्वास्थ्य स्थितियों को कम करने या रोकने में फायदेमंद साबित हुआ है। ये सभी स्थितियां दुर्भाग्यपूर्ण कोविड-19 संक्रमण के लिए जोखिम कारक साबित हो सकती हैं। इसलिए, नियमित रूप से कसरत करने से कोविड-19 वायरस के गंभीर संक्रमण के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है।

3. वर्कआउट करने से मूड और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार होता है

मानसिक स्वास्थ्य दुनिया भर में एक बड़ी चिंता का विषय रहा है, खासकर महामारी के दौरान। हमारे सामाजिक जीवन और भावनात्मक स्वास्थ्य में गिरावट एक ऐसी चीज है जिसका हम में से अधिकांश लोग सामना कर रहे हैं। कोविड -19 के बारे में आसन्न भय को नहीं भूलना चाहिए, जो चिंताजनक रहा है। हालांकि, व्यायाम और शारीरिक गतिविधि मूड के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मददगार साबित हुई है।

यह अवसाद, तनाव और चिंता की भावनाओं को कम करने के लिए दिखाया गया है। जब आप व्यायाम करते हैं, तो आपका शरीर एंडोर्फिन के उत्पादन को बढ़ाता है, जिसका आपके मन और मनोदशा पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। नियमित व्यायाम करने से मस्तिष्क की कार्यक्षमता में भी सुधार होता है और याददाश्त भी सुरक्षित रहती है।

Fitness aapke mood ko acha rakhta hai
फिटनेस आपके मूड को अच्छा रखता है। चित्र : शटरस्टॉक

4. आप कहीं भी वर्कआउट कर सकते हैं

चल रहे कोविड -19 महामारी और परिणामी अलगाव और लॉकडाउन से एक बड़ी सीख यह है कि हम मनुष्य के रूप में परिस्थितियों से बच सकते हैं। जबकि कई लोग कसरत करने और बेहतर महसूस करने के लिए घर पर जिम स्थापित करते हैं, आपको ऐसा करने की आवश्यकता नहीं है।

कसरत के उपकरण जैसे डम्बल, योगा मैट, रेजिस्टेंस बैंड आदि में छोटे निवेश से आपको अपने फिटनेस स्तर को पूरा करने वाले प्रभावी वर्कआउट करने में मदद मिल सकती है। आपको वास्तव में फैंसी उपकरण और जिम सदस्यता की आवश्यकता नहीं है। चाहे आप क्वारेंटाइन में हों, या छुट्टी पर हों, फिटर और बेहतर महसूस करने के लिए कसरत करना संभव है।

प्रौद्योगिकी को अपनाना सीखना और ऑनलाइन फिटनेस कार्यक्रमों की दुनिया बहुत आगे बढ़ सकती है। अब तक, हमने सीखा है कि हम कसरत के लाभों को प्राप्त कर सकते हैं, चाहे हम कहीं भी हों, जब तक हमारे पास इच्छाशक्ति हो।

5. तलाशने के लिए बहुत सारी शारीरिक गतिविधियां हैं

महामारी ने दुनिया भर में लोगों को सक्रिय रहने और व्यायाम करने के लिए अलग-अलग घरेलू कसरत की कोशिश करते देखा। जबकि जिम और कसरत स्टूडियो बंद थे, कई लोगों ने योग, पिलाटिस, तबाटा, ज़ुम्बा इत्यादि जैसे विभिन्न प्रकार के घर पर व्यायाम किए।

इसके अतिरिक्त, बागवानी, घर के काम, सीढियां चढ़ना, बच्चों के साथ खेलना, फोन कॉल के दौरान चलना, स्टैंडिंग डेस्क का उपयोग करना आदि जैसी गतिविधियां भी पूरे दिन सक्रिय रहने का एक शानदार तरीका हो सकती हैं। वास्तव में, महामारी के दौरान शौक चुनना और विभिन्न कक्षाओं में खुद को नामांकित करना बहुत बड़ा रहा है।

Ghar par kare effective exercise
घर पर करें प्रभावी एक्सरसाइज। चित्र:शटरस्टॉक

लंबे मैराथन, रॉक-क्लाइम्बिंग, डांस क्लासेस, हुला हूप ट्रेनिंग आदि जैसी चीजें आज़माना कुछ ऐसी गतिविधियां हैं जो उतनी ही फिटनेस-उन्मुख हैं जितनी कि वे मज़ेदार हैं। अलग-अलग चीजों को आजमाना और उन्हें दिलचस्प रखना आपकी फिटनेस के साथ-साथ आपकी रचनात्मकता और मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी एक मूल्यवान विकल्प हो सकता है। यह एक ऐसी चीज है जिस पर आप सभी को टिके रहना चाहिए।

चलते चलते

यदि आप सुन रहे हैं, तो आप पहले से ही जानते हैं कि स्वस्थ भोजन करना और खुद को फिट रखना वायरस के खिलाफ आपका सबसे बड़ा कवच है। हालांकि ऐसा लग सकता है कि चीजें अभी आपके नियंत्रण से बाहर हैं। लेकिन आप जो कर सकते हैं वह आपके स्वास्थ्य और फिटनेस का प्रभार है। आपके पास अपने स्वास्थ्य का निर्माण करने की क्षमता है और इसे करने का यह सही समय है।

यह भी पढ़ें: क्या वाकई तीन दिन में वेट लाॅस कर सकता है आर्मी या मिलिट्री डाइट प्लान?

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें