और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

वेट लॉस में मददगार है रेस वॉकिंग, हम बता रहे हैं रेस वॉकिंग के बारे में सब कुछ

Published on:24 April 2021, 12:19pm IST
लेडीज, हम सभी जानते हैं कि वॉकिंग स्वास्थ्य के लिए कितनी फायदेमंद है। इसलिए, अब समय आ गया है कि आप अपने वर्कआउट में रेस वॉकिंग को शामिल करें।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 91 Likes
रेस वॉकिंग के दौरान आपको कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक
रेस वॉकिंग के दौरान आपको कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

हम सभी उन हाई-ऑक्‍टेव स्पोर्ट्स से बेहद प्रभावित रहते हैं, जो टोंड बॉडी और बैलेंस का वादा करते हैं। मगर क्या हमारे लिए यह सब करना संभव है? शायद नहीं! पर अच्छी खबर यह है कि कुछ ऐसे स्पोर्ट्स हैं, जिन्हें आप किसी भी उम्र में कर सकती हैं। जिससे आपकी कैलोरीज तो बर्न होंगी ही, साथ ही मांसपेशियां भी टोंड हो जाएंगी। जी हां… हम रेस वॉकिंग के बारे में ही बात कर रहे हैं।

रेस वॉकिंग में आपकी कई मांसपेशियों की कसरत एक साथ होती है, जो इसे फिट रहने के लिए एक बेहतरीन एक्सरसाइज बनाते हैं। यह आपकी कैलोरीज तेज़ी से घटाती है और ह्रदय स्वास्थ्य को बढ़ावा देती है।

पर रेस वॉकिंग के कुछ नियम हैं:

रेस वॉकिंग रेगुलर वॉकिंग की तरह नहीं है, इसे करने के लिए आपको कुछ चीजें ध्यान में रखनी चाहिए:

रेस वॉकिंग वेट लॉस में मददगार है। चित्र: शटरस्‍टॉक
रेस वॉकिंग वेट लॉस में मददगार है। चित्र: शटरस्‍टॉक

1. स्ट्रेट लेग या नी रूल (straight leg or knee rule) : याद रखें कि आपके पैर को घुटने के बल सीधा रखना होगा, और कूल्हे के नीचे से गुजरने तक इसे सीधा रखना होगा। यह है, जो दौड़ को अन्य चलने वाली शैलियों से अलग बनाता है। क्योंकि उस स्थिति में, घुटने को फ्लेक्स किया जाता है या थोड़ा झुकाया जाता है।

2. कॉन्टैक्ट रुल : दौड़ने में, एक पैर हर समय जमीन पर रहता है। इसका मतलब यह है कि वॉकर का अग्रगामी पैर जमीन के साथ संपर्क बनाता है। ठीक इससे पहले कि पिछला पैर जमीन से उठ जाए। यही है जो इसे दौड़ने से अलग बनाता है।

3. आपकी बाहों की पोजिशन : आपकी बाहों की स्थिति अत्यंत महत्वपूर्ण है। आपकी बांहों को, कोहनी पर 85-90 डिग्री तक झुकना चाहिए। अपनी बाहों को हल्के से घुमाएं, कंधों से दूरी बनाए रखें। आपके हाथ आपके शरीर के करीब होने चाहिए और आपके धड़ को पार नहीं करना चाहिए।

रेस वॉकिंग:

यदि आप दौड़ने के लाभ लेना चाहती हैं, तो आपको तीव्रता को बढ़ावा देना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह आपकी हृदय गति को बढ़ाता है और आपके शरीर को मेहनत करवाता है!

सुबह का व्‍यायाम आपको दिन भर तरोताजा रखता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
सुबह का व्‍यायाम आपको दिन भर तरोताजा रखता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यहां बताया गया है कि आपको इसका अभ्यास कैसे करना चाहिए

नियमित वॉकिंग के पांच से 10 मिनट के वॉर्म-अप से शुरुआत करें। जैसा कि हमने ऊपर उल्लेख किया है, दौड़ का समय शरीर में विभिन्न मांसपेशियों को एक बार में लक्षित करता है।

इसलिए आप स्ट्रेचिंग और लचीलेपन के लिए इसे 5 से 10 मिनट तक कर सकती हैं। पांच मिनट के लिए अपनी कसरत को रोकें और फिर अंत में करने से पहले पांच से 10 मिनट की स्ट्रेचिंग करें।

न करें ये गलतियां

चूंकि यह आपके लिए एक नया अभ्यास है, इसलिए गलतियां होना तय है। सुनिश्चित करें कि आपको हर समय जमीन पर एक पैर रखना है। साथ ही, आपके सामने के पैर का घुटना झुकना नहीं चाहिए। यह आपकी गति पर असर डाल सकता है। यदि आप अपने हाथ का गलत उपयोग कर रही हैं।

यह भी पढ़ें – वजन घटाना है तो व्‍यायाम के बाद खाएं एक कटोरी मूंग की दाल, हम बता रहे हैं इसके 5 स्‍वास्‍थ्‍य लाभ

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।