यहां हैं योग के वे आसन, जो आपकी किडनियों के कार्यों को भी बेहतर बना सकते हैं

Updated on: 28 June 2022, 15:17 pm IST

योग संपूर्ण जीवन पद्धति है और ये आपके पूरे शरीर पर काम करता है। इसलिए आज आपको उन योगासनों के बारे में जानना चाहिए जो आपकी किडनी के लिए फायदेमंद हैं।  

kidney heart health ko support karti hain
किडनी से जुड़ी परेशानियों के पेशेंट भी कर सकते हैं ये योग। चित्र : शटरस्टॉक

किडनी आपके शरीर का एक बेहद महत्वपूर्ण अंग है। यह आपके शरीर में ब्लड प्यूरीफायर की तरह काम करती है। पूरी दुनिया में लगभग 700 मिलियन लोग क्रोनिक किडनी रोग से प्रभावित हैं। ऐसा अनुमान है कि भारत में 75 लाख से अधिक रोगी क्रोनिक किडनी रोग (सीकेडी) से पीड़ित हैं। देश में हर साल औसतन लगभग 200,000 नए रोगियों में अंतिम चरण में किडनी खराब हो जाती है। यह एक बड़ी संख्या है और  फिट लाइफस्टाइल को बनाए रखने में असफल होने पर ये लोग जल्द ही अवसाद, उच्च रक्तचाप, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, हृदय रोग और पैरों में सूजन जैसी समस्याओं से परेशान हो सकते हैं। 

किडनी से जुड़ी बीमारियों के मरीज सोचते हैं कि वे कोई बुनियादी व्यायाम नहीं कर सकते क्योंकि उनकी स्थिति ‘सामान्य’ नहीं है। हालांकि, यह सच नहीं है, और यहां तक ​​​​कि 15 से 20 मिनट की छोटी अवधि के लिए नियमित व्यायाम उन्हें बेहतर महसूस करने में मदद कर सकता है। ताइवान के नेशनल यांग-मिंग विश्वविद्यालय के एक हालिया अध्ययन से पता चलता है कि गुर्दे की बीमारी वाले मरीजों में शारीरिक गतिविधि की एक हेल्दी लाइफस्टाइल दे सकती है।

अपेक्षा एकबोटे, डायलिसिस नेटवर्क नेफ्रोप्लस की मुख्य आहार विशेषज्ञ ने हेल्थशॉट्स  टीम से बात करते हुए किडनी रोगियों को फिट रहने के लिए योग को प्रभावी बताया। 

यदि आप भी अपनी किडनी को हेल्दी बनाए रखना चाहती हैं तो ये योग मुद्राएं आपके लिए फायदेमंद रहेंगी: 

भुजंगासन (कोबरा मुद्रा)- Cobra pose

 फर्श पर सपाट लेट जाएं। दोनों हाथों को शरीर के पास रखें, हथेलियां फर्श के संपर्क में हों और कोहनियां कूल्हों को स्पर्श करें। गहरी सांस लें, शरीर के ऊपरी हिस्से को जमीन से ऊपर उठाएं, पीछे की ओर झुकें और दोनों हाथों का उपयोग करके संतुलन बनाएं। इस मुद्रा को 15 से 30 सेकेंड तक बनाए रखें, फिर सांस छोड़ें और प्रारंभिक सपाट स्थिति में वापस फर्श पर आ जाएं।

oorja badhane ke liye yoga
आपको ऊर्जा प्रदान करेंगे ये योग आसान। चित्र : शटरस्टॉक

सेतु बंधासन (ब्रिज पोज)- bridge pose

पीठ के बल सीधे लेटकर आसन की शुरुआत करें। अब अपने घुटनों और कोहनियों को मोड़ें। अपने पैरों को फर्श पर कूल्हों के पास और अपने हाथों को सिर के दोनों ओर मजबूती से रखें। अपने दोनों हाथों और पैरों को जमीन पर सहारा देते हुए धीरे-धीरे अपने शरीर को हवा में ऊपर उठाने की कोशिश करें। इस धनुषाकार मुद्रा को 20-30 सेकंड के लिए पकड़ें और धीरे-धीरे अपने शरीर को एक खड़ी मुद्रा में लाएं।

bridge pose ke fayde
आपके मन मस्तिष्क समेत किडनी के लिए भी फायदेमंद है ब्रिज पोज़। चित्र : शटरस्टॉक

पश्चिमोत्तानासन (seated forward bend)

एक समतल, समतल सतह पर फर्श पर बैठ जाएं। दोनों पैरों को पूरी तरह आगे की ओर तानें, पैरों को सीधे ऊपर की ओर इशारा करते हुए। गहरी सांस लें और दोनों हाथों को सिर के ऊपर उठाएं। फिर सांस छोड़ते हुए शरीर को आगे की ओर मोड़ें और घुटनों को छूने की कोशिश करें, रीढ़ की एक आरामदायक मुद्रा बनाए रखें। दोनों हाथों के अंगूठे और तर्जनी से बड़े पैर की उंगलियों को पकड़ें। इस मुद्रा में 10 सेकेंड तक रहें, फिर धीरे-धीरे हाथों को छोड़ दें, धड़ को ऊपर उठाएं और वापस प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।

यह पोजीशन आपकी किडनी को मज़बूत बनाने में मदद करती है, चित्र: शटरस्टॉक

नौकासन (नाव मुद्रा)- Boat pose

पीठ को नीचे की ओर करके जमीन पर सपाट लेटकर शुरुआत करें। दोनों भुजाओं को शरीर के दोनों ओर रखें। श्वास पैटर्न को नियंत्रित करने के लिए कुछ चक्रों के लिए धीरे-धीरे श्वास लें और छोड़ें। फिर दोनों पैरों को ऊपर उठाते हुए अपने शरीर के ऊपरी हिस्से को जमीन से ऊपर उठाएं।

दोनों हाथों को शरीर और घुटनों के बीच फैलाकर सीधे आगे की ओर रखें। बेहतर मांसपेशियों के लचीलेपन और संतुलन को प्राप्त करने के लिए कम से कम 5 मिनट के लिए नाव की तरह इस स्थिति में रहें। सांस छोड़ते हुए शरीर को आराम दें, धीरे-धीरे इसे वापस जमीन पर लाएं। नौकासन का नियमित रूप से अभ्यास करते हुए, इस अभ्यास के अधिकतम लाभ प्राप्त करने और शरीर में रक्त परिसंचरण में काफी सुधार करने के लिए नाव की मुद्रा को 5 मिनट से बढ़ाकर 20 मिनट करें।

boat pose aapke pet ki charbi ko kam karta hai
बोट पोज या नौकासन आपके पेट की चर्बी को कम करता है। चित्र: शटरस्टॉक

सुप्त बद्धकोणासन (तितली मुद्रा में झुकना)-Bound Angle Pose

फर्श पर सपाट लेट जाएं। धीरे से अपने घुटनों को मोड़ें और अपने पैरों को अपने दोनों पैरों के बाहरी किनारों के साथ फर्श पर लाएं। लेटने की स्थिति में, अपनी एड़ी को अपने कमर के करीब लाने की कोशिश करें। आप अपनी भुजाओं को बगल में, अपनी जघों पर टिका कर रख सकते हैं या उन्हें अपना सिर ऊपर उठाकर जोड़ सकते हैं। अब पूरे आसन के दौरान स्वाभाविक रूप से सांस लेते हुए 1-2 मिनट तक इसी मुद्रा में रहें। मुद्रा से बाहर निकलने के लिए, धीरे-धीरे अपने घुटनों को सीधा करें, एक तरफ मुड़ें और फिर धीरे-धीरे उठें।

Sudaul jangh ke liye butterfly pose
किडनी के लिए बटरफ्लाइ पोज। चित्र: शटरस्‍टॉक

“देश भर में किडनी केयर एंड मैनेजमेंट  के लिए  स्पेशल न्यूट्रीशनिस्ट  के रूप में काम कर रही एफबोटे कहती हैं, “ मेरा सुझाव है कि शारीरिक गतिविधियों को गुर्दे की बीमारी वाले रोगियों की  ​​​​देखभाल में अनिवार्य रूप से शामिल किया जाना चाहिए।

किसी भी शारीरिक गतिविधि से पहले अपने नेफ्रोलॉजिस्ट से बात करना अनिवार्य है जो यह बताएं कि आप कौन से व्यायाम सुरक्षित रूप से कर सकते हैं और आपके द्वारा की जाने वाली शारीरिक गतिविधि की समय सीमा क्या होनी चाहिए। यदि आप किडनी संबंधी या अन्य बीमारियों से ग्रसित हैं तो डॉक्टर की सलाह के अनुसार इसे धीरे-धीरे शुरू करें और फिर अवधि और इंटेंसिटी बढ़ाएं। किसी भी चीज़ की अति से बचें। अगर आपको बेचैनी, अत्यधिक थकान, सांस फूलना आदि जैसे लक्षण महसूस हों तो तुरंत रुक जाएं।

यह भी पढ़ें:डियर न्यू मॉम, आपके पार्टनर को भी करना पड़ सकता है पोस्टपार्टम डिप्रेशन का सामना

शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें