Sitting posture : बैठते समय की जाने वाली ये 4 गलतियां खराब कर देती हैं आपका पॉश्चर, इन एक्सरसाइज से करें ठीक

वर्क फ्राम हॉम या फिर ऑफिस में बैठकर 9 घंटे काम करना हो, तो आप अलग-अलग तरीके से बैठते हैं। पर बैठने के दौरान कुछ गलतियां आपकी पॉश्चर को खराब कर दर्द का कारण भी बन सकती हैं। बैटने के कारण कई बार हमारा पॉश्चर खराब हो जाता है।
kya hai sahin sitting posture
खराब पॉश्चर आपके आत्मविश्वास को भी प्रभावित करता है। चित्र-अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 11 Jul 2023, 09:29 am IST
  • 145

कई बार बैठने का सही पॉश्चर न पता होने के कारण या गतिहीन जीवन शैली के कारण हमारा बैठने की मुद्रा (sitting) खराब हो जाती है। महामारी के बाद वर्क फ्राम हॉम का कल्चर बहुत तेजी से बढ़ा है। जिसके कारण हमारा काफी समय बैठने में ही गुजरता है। जो लोगो ऑफिस में काम करते हैं, वे भी डेस्क जॉब के कारण ज्यादा समय बैठे ही रहते हैं। अगर सही से न बैठा जाए, तो यह पूरे शरीर को प्रभावित करता है। जिसका असर पाचन क्रिया, बोन और मसल्स पर भी नजर आता है। जबकि खराब पॉश्चर आपके आत्मविश्वास को भी प्रभावित करता है। इसलिए जरूरी है कि आप बैठते समय की जाने वाली आम गलतियां से बचें। साथ ही अपने वर्कआउट रुटीन में कुछ ऐसी एक्सरसाइज (Exercise to improve posture) भी शामिल करें, जो पॉश्चर में सुधार कर सकती हैं।

यहां हैं बैठने के दौरान की जाने वाली गलतियां और पॉश्चर में सुधार लाने वाली एक्सरसाइज

1 झुके हुए या गोल कंधे

कंधों का झुकना या गोल होना एक आम आसन समस्या है जिससे मांसपेशियों में असंतुलन, गर्दन और कंधे में दर्द और गतिशीलता में कमी हो सकती है।

इस पॉश्चर को सही करने का व्यायाम

शोल्डर ब्लेड स्क्वीज़

अपने पैरों को फर्श पर सपाट करके सीधे बैठें या खड़े रहें

अपनी भुजाओं को बगल में रखें

धीरे से अपने कंधे के ब्लेड को एक साथ दबाएं, कल्पना करें कि आप उनके बीच एक पेंसिल पकड़ने की कोशिश कर रहे हैं

अपने कंधों को ढीला रखें और कंधे उचकाने से बचें

अच्छी मुद्रा बनाए रखते हुए 5 सेकंड तक कंधों को दबाएं रखें

व्यायाम की मुद्रा से वापस आएं और 10-15 बार दोहराएं

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें
फॉरवर्ड हेड पोस्चर, जिसे “टेक्स्ट नेक” भी कहा जाता है, तब होता है जब सिर कंधों के सामने स्थित होता है। चित्र : शटरस्टॉक

2 फॉरवर्ड हेड पोस्चर

फॉरवर्ड हेड पोस्चर, जिसे “टेक्स्ट नेक” भी कहा जाता है, तब होता है जब सिर कंधों के सामने स्थित होता है, जिससे गर्दन और पीठ के ऊपरी हिस्से की मांसपेशियों पर तनाव बढ़ जाता है। आगे की ओर सिर की मुद्रा को सही करने में मदद करने में मदद करने के लिए व्यायाम

इस पॉश्चर को सही करने का व्यायाम

चिन टक्स

अपने पैरों को फर्श पर सपाट करके सीधे बैठें या खड़े रहें

धीरे से अपनी ठुड्डी को पीछे लाकर पीछे खींचें ताकि आपका सिर आपके कंधों के साथ एक सीध में हो जाए

अपनी आँखें आगे की ओर रखें और अपने सिर को ऊपर या नीचे झुकाने से बचें

अच्छी मुद्रा बनाए रखते हुए 5 सेकंड के लिए ठुड्डी को टक स्थिति में रखें

व्यायाम का मुद्रा से वापस आएं और 10-15 बार दोहराएं

3 पैरों को क्रास करना

लंबे समय तक बैठने के दौरान अपने पैरों को क्रॉस करने से कूल्हों और पैल्विक में असंतुलन हो सकता है, साथ ही पीठ के निचले हिस्से पर संभावित तनाव भी हो सकता है।

इस पॉश्चर को सही करने का व्यायाम

एंकल सर्कल

अपने पैरों को फर्श पर सपाट करके सीधे बैठें

एक पैर को जमीन से ऊपर उठाएं और अपने पैर को अपने सामने फैलाएं

अपने टखने को पहले घड़ी की दिशा में और फिर घड़ी का विपरित दिशा में घुमाएं

प्रत्येक दिशा में 10 बार ऐसे ही घुमाएं

अपने पैर को वापस फर्श पर टिकाएं और दूसरे पैर से व्यायाम दोहराएं

galat posture personality kharab kar deta hai
गलत बॉडी पोस्चर पर्सनैलिटी को खराब कर सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

4 डेस्क पर झुक के बैठना

लंबे समय तक डेस्क पर झुकने से खराब मुद्रा, गर्दन और पीठ की मांसपेशियों पर तनाव और संभावित दीर्घकालिक असुविधा हो सकती है। ऑफिस में लंबे समय तक बैठने से ये समस्या हो सकती है।

इस पॉश्चर को सही करने का व्यायाम

ऊपर के पीठ का स्ट्रैच

अपने पैरों को फर्श पर सपाट करके सीधे बैठें

अपनी उंगलियों को आपस में मिलाएं और अपनी भुजाओं को अपने सामने फैलाएं, हथेलियां दूर हों

अब पीठ के ऊपरी हिस्से और कंधों को गोल करें, अपनी ठुड्डी को अपनी छाती की ओर झुकाते हुए अपने हाथों को आगे की ओर ले जाएं

अपनी पीठ के ऊपरी हिस्से और अपने कंधे के ब्लेड के बीच हल्का स्ट्रेच महसूस करते हुए, 10-15 सेकंड के लिए स्ट्रेच बनाए रखें

आराम करें और सीधी स्थिति में लौट आएं

ये भी  पढ़े- Walking Benefits : ब्रेन कनेक्टिविटी में सुधार कर बुजुर्गों को मेमोरी लॉस से बचाता है टहलना, शोध ने किया दावा

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख