फॉलो
वैलनेस
स्टोर

स्टेमिना बढ़ाना है तो HIIT वर्कआउट के बाद खाएं ये 5 फूड, वेट मेंटेन करना भी होगा आसान

Published on:21 October 2020, 10:54am IST
एक बेहतरीन HIIT सेशन के बाद अपने शरीर को दें प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट। हम बताते हैं 5 बेस्ट फूड जो आपको हिट वर्कआउट के बाद खाने चाहिए।
विदुषी शुक्‍ला
  • 68 Likes
ये हाई फाइबर डाइट आपके पेट का ख्‍याल रखेगी। चित्र: शटरस्‍टॉक

हर व्यक्ति एक्सरसाइज अलग- अलग उद्देश्य से करता है। किसी को मांसपेशियों बढ़ानी होती हैं, किसी को वजन कम करना होता है तो कोई सिर्फ फिटनेस के लिए जिम जाता है। हर लक्ष्य के अनुसार अलग- अलग एक्सरसाइज और अलग- अलग डाइट भी होती हैं। अगर वजन कम करना है या फैट बर्न करना है तो आपको कैलोरी डेफिसिट बनाना पड़ेगा। अगर मसल्स गेन का उद्देश्य है तो प्रोटीन अधिक खाना होगा। यानी कोई भी डाइट आपके लक्ष्य के अनुसार होती है और उसमें फेर बदल नहीं किया जाता।

तो अगर आपका उद्देश्य अपनी स्ट्रेन्थ यानी ताकत और स्टैमिना बढ़ाना है, तो वेट लॉस या मसल्स गेन डाइट से काम नहीं चलेगा।
हिट वर्कआउट हाई इंटेंसिटी यानी बहुत अधिक मेहनत वाला होता है, जिसमें आपकी सभी मांसपेशियां इन्वॉल्व होती हैं। यही नहीं आप HIIT सेशन के दौरान बहुत सारी कैलोरी बर्न करते हैं। अगर आप इसके साथ सही पोषण नहीं लेंगी तो आपका शरीर खोई हुई ऊर्जा पा नहीं पाएगा और पोषण के लिये मसल्स ब्रेक डाउन करने लगेगा।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

तो हम आपको बताते हैं वे 5 फूड जो आपको हिट वर्कआउट सेशन के बाद खाने चाहिए-

वजन घटाने के लिए अंडे बनेगे आपके साथी। चित्र: शटरस्‍टॉक

1. अंडे हैं सबसे जरूरी

वर्कऑउट के बाद अंडे सबसे अच्छा और पौष्टिक भोजन हैं, जिसे आपको अपने रूटीन में जरूर शामिल करना चाहिए। अंडे पोषण का भंडार होते हैं। एक अंडे में 7 ग्राम प्रोटीन और 5 ग्राम गुड फैट होता है।
जर्नल न्यूट्रिशन के अनुसार अंडों में नौ एमिनो एसिड होते हैं जो मांसपेशियों के लिए बहुत आवश्यक होते हैं। अंडे मसल्स की रिकवरी मे मददगार होते हैं। अंडों में विटामिन बी भी होता है जो एनर्जी बनाने में सहायक होता है।
अंडों को वर्कआउट के बाद खाना अधिक फायदेमंद होता है।

2. ब्लूबेरी

यह स्वादिष्ट फल गुणों का भंडार होता है। ब्लूबेरी में डाइटरी फाइबर, विटामिन्स, प्रोटीन और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं।
कोई भी एक्सरसाइज करने के बाद शरीर में ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस होता ही है, जिससे फ्री रेडिकल्स बढ़ जाते हैं। यही कारण है कि डाइट में एंटीऑक्सीडेंट जरूर शामिल होने चाहिए।
जर्नल ऑफ हेल्थ रिसर्च में प्रकाशित स्टडी के अनुसार वर्कआउट करने के बाद ब्लूबेरी खाने से मसल रिकवरी रेट बढ़ जाता है।
आप पोस्ट वर्कआउट स्मूदी में ब्लूबेरी का प्रयोग कर सकती हैं या खाली खा भी सकती हैं।

वर्कआउट से होने वाली मसल्‍स इंजरी को रिपयेर करती है ब्‍लूबेरी। चित्र: शटरस्‍टॉक

3. एवोकाडो

एवोकाडो आपकी मांसपेशियों के लिए बहुत फायदेमंद है। वेट लॉस से लेकर स्टैमिना बढ़ाने तक यह फल आपको बहुत से फायदे देता है। एवोकाडो में मैग्नीशियम होता है जो मसल्स रिकवरी के लिए आवश्यक होता है। इसमें आपके दैनिक जरूरत का 14 प्रतिशत पोटैशियम होता है, जिससे शरीर में पानी की कमी नहीं हो पाती।
साथ ही एवोकाडो में फोलेट, विटामिन सी, विटामिन के और बी 6 होता है जो शरीर में एक्सरसाइज के कारण आये ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मददगार है।

एवोकाडो आपकी मांसपेशियों के लिए बहुत फायदेमंद है। चित्र- शटरस्टॉक।

4. हरी पत्तेदार सब्जियां

पालक, मेथी, पत्तागोभी, केल, और ब्रोकली जैसी हरी सब्जियां आपकी डाइट में जरूर होनी चाहिए। हरी सब्जियों में विटामिन, मिनरल्स, फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो आपके शरीर को रिकवरी के लिए जरूरी होते हैं। इनमें कैलोरी भी कम होती हैं।

5. प्रोटीन पाउडर

हिट वर्कआउट के बाद आपके शरीर को सबसे अधिक जरूरत प्रोटीन की ही होती है। डाइट के माध्यम से ढेर सारा प्रोटीन लेना जरूरी है, लेकिन प्रोटीन पाउडर का भी बहुत महत्व है। प्रोटीन पाउडर सीधे-सीधे प्रोटीन आपके शरीर में पंहुचाता है और इसका सेवन आसान भी है। आप अपने पोस्ट वर्कआउट ड्रिंक में दो स्कूप प्रोटीन पाउडर मिला सकती हैं। यह मसल्स की रिकवरी बढ़ाएगा।

प्रोटीन पाउडर सीधे-सीधे प्रोटीन आपके शरीर में पंहुचाता है। चित्र- शटरस्टॉक।

याद रखें, फिटनेस के लिए एक्सरसाइज सिर्फ 40 प्रतिशत ही महत्वपूर्ण होती है, बाकी 60 प्रतिशत होती है आपकी डाइट। सही पोषण लेना बहुत जरूरी है। इसलिए अपने एक्सरसाइज गोल्स के अनुसार ही डाइट को भी चुनें।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विदुषी शुक्‍ला विदुषी शुक्‍ला

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते।