वैलनेस
स्टोर

मैंने हर रोज 20 मिनट स्किपिंग शुरू की और वज़न के साथ-साथ मेरी एंग्जायटी भी कम हुई

Updated on: 10 December 2020, 13:51pm IST
स्किपिंग यानी रस्सी कूदना न सिर्फ आपके वजन को नियंत्रित करता है, बल्कि यह आपके मानसिक स्वास्‍थ्‍य के लिए भी बहुत अच्छा है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 81 Likes
वॉर्मअप आपको चोटिल होने से बचाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

लॉकडाउन ने हमारे मानसिक और शारीरिक दोनों ही सेहत को नुकसान पहुंचाया है। लॉकडाउन की शुरुआत में हम घर से काम करने, वर्कआउट करने, कुछ नया सीखने के लिए उत्साहित थे, लेकिन वक्त के साथ-साथ यह खुमार उतर गया। असल में इस दौरान हमने स्ट्रेस, एंग्जायटी, खुद के लिए और दूसरों के लिए चिंता और डर झेला है। और सबसे बड़ी समस्या थी हमारी दिनचर्या डिस्टर्ब हो जाना। इस सबका रिजल्ट हुआ वेट गेन और तनाव।

फ़िर एक दिन बोर होते हुए मैंने घर में पड़ी स्किपिंग रोप निकाली और 10 मिनट स्किपिंग की। इसके बाद मेरे मूड में जो फर्क मुझे नज़र आया, उसने मुझे हर दिन स्किपिंग करने के लिए प्रेरित किया।

स्किपिंग मेरे लिए वरदान साबित हुई

स्किपिंग की सबसे अच्छी बात यह है कि न तो इसके लिए इक्विपमेंट की ज़रूरत है और न टाइम की। कुछ मिनटों का समय निकालकर आप स्किपिंग कर सकती हैं और यह बहुत फायदेमंद वर्कऑउट होता है।

एक महीने स्किपिंग करने से न केवल मेरे वजन में कमी आई, बल्कि मेरे मूड पर भी उसका पॉज़िटिव इफ़ेक्ट रहा।

वेट लॉस और स्किपिंग

स्किपिंग एक बेहतरीन कार्डियो है, यह हार्ट रेट को बढ़ाता है, कैलोरी बर्न करता है और एक्स्ट्रा फैट को खत्म करता है। यह कहना गलत नहीं होगा कि स्किपिंग रनिंग जितनी ही इफेक्टिव है। मुझे रनिंग बहुत पसंद है और मैं हर शाम कम से कम एक घण्टे जरूर दौड़ती थी। फिर मेरी लाइफ में आया लॉकडाउन। मेरे ही नहीं, हम सभी के लाइफ में क्वारंटीन ने बहुत बदलाव किया है।

ज्यादातर खिलाड़ी अपने वर्कआउट की शुरूआत रस्सी कूदने से करते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

स्किपिंग ने मेरे रूटीन में रनिंग की जगह ले ली है। दिन में सिर्फ 20 मिनट स्किपिंग करने से मेरे स्टेमिना में फ़र्क आया है।

अमेरिकन कॉउन्सिल ऑफ़ एक्सरसाइज के अनुसार यदि एक 70 किलो का व्यक्ति 30 मिनट स्किपिंग करे तो वह 420 कैलोरी बर्न करता है। रनिंग में इतनी ही कैलोरी बर्न करने के लिए 8.5 मील दौड़ना होगा इतने ही वक्त में। तो अब आप समझ गए होंगे कि कैसे स्किपिंग आपके वेट लॉस गोल्स को पाने के लिए परफेक्ट एक्सरसाइज है। यह एक फुल बॉडी वर्कआउट है।

घुटनों की समस्या है तो स्किपिंग चुनें

मैंने अपने अनुभव से यह जाना है कि रनिंग के मुकाबले स्किपिंग घुटनों के लिए बेहतर है। और यह सिर्फ मेरे साथ ही नहीं हुआ। ईस्ट कैरोलीना यूनिवर्सिटी की स्टडी में पाया गया कि घुटनों के दर्द की समस्या दौड़ने से स्किपिंग के मुकाबले 30% ज्यादा होती है।

रस्‍सी कूदने से फैट तेजी से बर्न होता है। चित्र: शटरस्‍टाॅॅक

आप भी स्किपिंग अपने रूटीन में शामिल करके देखें। यह न केवल एक्टिव और फिट रहने का आसान तरीका है, बल्कि आपके मूड को भी सही रखता है। कोविड-19 के स्ट्रेस को दूर रखने के लिए आप स्किपिंग का सहारा ले सकती हैं। और साथ ही स्किपिंग से आपका वेट भी कम हो जाएगा।

यह भी पढ़ें – इन 7 योगासनों पर भरोसा कीजिए, ये मेटाबॉलिज्म दुरुस्त कर तेजी से करेंगे वेट लॉस

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।