वेट लॉस से लेकर बेहतर पाचन तक, ज़मीन पर बैठ कर खाने के हैं कई सेहत लाभ

Published on: 25 January 2022, 11:00 am IST

अक्सर कहा जाता है कि फर्श पर बैठकर भोजन करना, कुर्सी पर बैठकर करने से अच्छा है। क्या वाकई यह आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए चमत्कार कर सकता है?

zameen per baith kr khana
फर्श पर बैठना एक आरामदेह योग मुद्रा के रूप में जाना जाता है। चित्र : शटरस्टॉक

वह समय याद है जब आपकी दादी-नानी आपको कुर्सी पर या बिस्तर पर बैठकर खाने के बजाय खाना खाते समय फर्श पर बैठने के लिए कहती थीं? दरअसल फर्श पर बैठकर खाना या जमीन पर बैठकर खाना भारतीय परंपरा का एक हिस्सा है।

लेकिन आजकल, लोग खाने की मेज के आदी हो गए हैं या यहां तक ​​कि अपने भोजन के लिए सोफे पर लेटना भी पसंद करते हैं। लेकिन हम आपको बता दें कि फर्श पर बैठकर भोजन करना सामाजिक-आर्थिक कारकों के बारे में नहीं था। यह आपके बेहतर स्वास्थ्य का हिस्सा है!

योग से कम नहीं है आपका फर्श पर बैठना 

 इस प्राचीन परंपरा की जड़ें योग और आयुर्वेद में हैं और यह विज्ञान समर्थित स्वास्थ्य लाभों के साथ भी आती है। आयुर्वेद के अनुसार खाना खाते समय फर्श पर बैठने का मतलब सुखासन या क्रॉस लेग्ड पोजीशन में बैठना है।  नतीजतन, यह भोजन करते समय योग करने जैसा है और यह आपको आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने की ओर ले जाता है।

अपच से बचने के लिए फर्श पर बैठ कर भोजन करें। चित्र : शटरस्टॉक

आइए जानें कि खाने के लिए फर्श पर बैठने से कैसे स्वास्थ्य पर फर्क पड़ता है

मणिपाल हॉस्पिटल्स वरथुर, बेंगलुरु की चीफ क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट वाणी कृष्णा कहती हैं, “खाने के दौरान फर्श पर बैठने से शरीर की मुद्रा में सुधार होता है, और क्योंकि आप क्रॉस-लेग्ड मुद्रा में बैठे हैं, यह हृदय को खून पंप करने और प्रसारित करने में मदद करता है।”

एक्सपर्ट से जानिए जमीन पर बैठकर खाने के फायदे 

  1. वजन घटाने में मदद करता है (weight loss)

 वजन बढ़ना आमतौर पर अधिक खाने से या जब आप अपने द्वारा उपभोग की जाने वाली कैलोरी को बर्न करने में विफल होते हैं, तो ट्रिगर होता है। वजन कम करने की कुंजी आपके द्वारा उपभोग किए जाने वाले भोजन के हर पहलू पर ध्यान केंद्रित करती है – जैसे आप कितनी मात्रा में खाते हैं और भोजन की खुशबू और स्वाद। 

वाणी कृष्णा कहती हैं,  “फर्श पर बैठकर भोजन करने से वेजस नर्व को पेट से मस्तिष्क तक संकेत भेजने में मदद मिलती है कि आपका पेट भरा हुआ है या नहीं। इसलिए आप धीमी गति से खाते हैं और बहुत अधिक खाने से खुद को रोक सकते हैं।”

  1. ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करता है (Improves blood circulation)

जब आप सुखासन में बैठते हैं तो इससे पैरों का रक्त संचार कम हो जाता है और अतिरिक्त रक्त हृदय के माध्यम से अन्य अंगों में जाने लगता है। जिससे पाचन के लिए आवश्यक गतिविधि बढ़ जाती है। यह तनाव को भी दूर करता है और मन को एकाग्र करता है और सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाता है। 

 याद रखें, यदि आप कुर्सी पर बैठते हैं, तो यह संभव नहीं है क्योंकि इस स्थिति में आपके पैर आपके दिल के नीचे होते हैं और यह आपके पैरों में रक्त संचार को निर्देशित करता है, जबकि आप फर्श पर क्रॉस लेग करके बैठते हैं।

  1. पाचन को बढ़ावा देता है (Boost digestion)

जब आप फर्श पर बैठते हैं और खाते हैं, आगे झुककर, तो मूल मुद्रा में लौटने से पाचक रसों को स्रावित करने में मदद मिलती है। वाणी कृष्ण कहती हैं, “ऐसा माना जाता है कि जब कोई व्यक्ति भोजन करने के लिए फर्श पर क्रॉस लेग की स्थिति में बैठता है, तो यह मस्तिष्क को एक संकेत भेजता है जो शरीर को पचाने के लिए तैयार करता है।”

  1. मुद्रा में सुधार (Improve posture)

भोजन करते समय सही मुद्रा बनाए रखना वास्तव में बहुत महत्वपूर्ण है। भोजन करते समय एक सही मुद्रा आपकी मांसपेशियों, जोड़ों, घुटने, पीठ, गर्दन और हाथों पर अत्यधिक तनाव की संभावना को कम करने में आपकी मदद करेगी।  

फर्श पर बैठने के दौरान आपकी मुद्रा अपने आप ठीक हो जाती है, जिससे आपकी पीठ सीधी हो जाती है, आपकी रीढ़ लंबी हो जाती है और आपके कंधे पीछे की ओर धकेल दिए जाते हैं ।

  1. बेहतर फ्लेक्सिबिलिटी (Improved flexibility)

 क्रॉस लेग्ड बैठना भी आपके शरीर के फ्लेक्सिबिलिटी के स्तर को लाभ पहुंचा सकता है।  वाणी कृष्णा कहती हैं, “फर्श पर बैठने से घुटनों, कूल्हों, रीढ़, छाती और टखनों में खिंचाव आता है और शरीर अधिक मजबूत और लचीला बनता है।”  सिर झुकाने और पीछे की ओर लौटने की निरंतर गति आपकी मूल शक्ति का भी समर्थन करती है।

pharsh par baithane se aapake lacheelepan ke star mein sudhaar ho sakata hai
फर्श पर बैठने से आपके लचीलेपन के स्तर में सुधार हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. आपकी उम्र बढ़ा सकता है जमीन पर बैठना (Increases life expectancy)

यह सुनने में थोड़ा अविश्वसनीय लग सकता है लेकिन यह सच है! फर्श पर बैठना आपके जीवन में कुछ और साल जोड़ सकता है।  

यूरोपियन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव कार्डियोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, जो लोग क्रॉस लेग्ड स्थिति (सुखासन या पद्मासन) में फर्श पर बैठे थे और बिना किसी सहारे के उठने में सक्षम थे, उनके लंबे समय तक जीवित रहने की संभावना है। इसके पीछे कारण यह था कि उस पोजीशन से उठने के लिए काफी ताकत और लचीलेपन की जरूरत होती है।

  1. आपके दिमाग को आराम देता है (Relaxes your mind)

सुखासन आपके ध्यान को बेहतर बनाता है और ध्यान के लिए एक आदर्श स्थिति है। यह उस मुद्रा के कारण है जिसमें यह स्वाभाविक रूप से आपको रखता है। यह स्वचालित रूप से आपको किसी भी चीज़ के प्रति अधिक चौकस बनाता है। जो आप करने जा रहे हैं, जिससे मन से तनाव दूर होता है। 

तो, इस आसन में खाने से आप खाने की क्रिया के प्रति अधिक चौकस रहते हैं।  ऐसा माना जाता है कि इन मुद्राओं में बैठने से शरीर में ऑक्सीजन का प्रवाह बढ़ सकता है।

तो सोचना क्या है? आज ही से अपने परिवार को फर्श पर बैठने की आदत डालिए और स्वस्थ भोजन कीजिए।

यह भी पढ़े : प्रेगनेंसी में भी रहना है हेल्दी और कूल, तो इन 2 योगासनों का जरूर करें अभ्यास

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें