प्रदूषण के कारण गंभीर हो सकता है अस्थमा, बचना है तो हर रोज करें भस्त्रिका प्राणायाम

मौसम बदलने और बढ़ते प्रदूषण के कारण अस्थमा की समस्या और भी ज्यादा गंभीर हो सकती है। भस्त्रिका प्राणायाम का नियमित अभ्यास इसे कंट्रोल करने में आपकी मदद कर सकता है। 

asthma ke liye yog
अस्थमा की समस्या को दूर करने के लिए भस्त्रिका के अभ्यास के दौरान पेट और फेफड़ों में हवा भरी और खाली की जाती है। चित्र : शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 15 October 2022, 09:30 am IST
  • 125

मौसम बदल रहा है। कभी सर्दी, तो कभी गर्मी के कारण सांस की समस्या हो सकती है। जिन लोगों को अस्थमा या दमा की समस्या है, मौसम में बदलाव आने पर उनकी समस्या और बढ़ जाती है। प्रदूषण के कारण भी अस्थमा का जोखिम बढ़ जाता है। उनकी सामान्य सांस लेने की गति बढ़ जाती है। इससे उन्हें फिजिकल एक्टिविटी में भी दिक्कत होने लगती है। सही उपचार नहीं होने पर यह जानलेवा भी हो सकता है। दवा के साथ-साथ यदि नियमित रूप से योगासन और प्राणायाम किया जाए, तो अस्थमा से बचाव हो सकता है। इसमें सबसे प्रभावी भस्त्रिका प्राणायाम (Bhastrika Pranayam for Asthma) है।

 भस्त्रिका प्राणायाम (Bhastrika Pranayam or Bellow Breath)

‘योगासन करें स्वस्थ रहें’ किताब में योगाचार्य सुरेश सिन्हा बताते हैं कि यदि सही तरीके से भस्त्रिका प्राणायाम किया जाए, तो सांस संबंधी कई समस्याओं से बचाव हो सकता है। इसके अलावा पाचन तंत्र भी मजबूत हो सकता है।

भस्त्रिका प्राणायाम को बेलोज ब्रीथ के नाम से भी जाना जाता है। यह हीटिंग ब्रीदिंग प्रोसेस है। इससे ऐसा लगता है कि हवा के स्थिर प्रवाह के साथ आग को हवा दी जा रही है। असल में भस्त्रिका एक संस्कृत शब्द है। इस शब्द का मतलब होता है धौंकनी। इस अभ्यास के दौरान पेट और फेफड़ों में हवा भरी और खाली की जाती है।

क्या है भस्त्रिका प्राणायाम करने का सही तरीका 

1आसन लगाकर बैठ जाएं

सुरेश सिन्हा बताते हैं कि सबसे पहले किसी आसन में बैठ जाएं। सिर एवं रीढ़ की हड्डी को सीधी रखें। आंखों को बंद कर लें। शरीर को स्थिर रखें। बाएं हाथ को बाएं घुटने पर रखें। दायें हाथ को दोनों भौहों के बीच मस्तक पर रखें।

2 सांस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया 

दायां नथुना बंद कर लें। बाएं नथुने से जल्दी-जल्दी 15-20 बार सांस लें और छोड़ें। सांस लेने और छोड़ने पर पेट का सिकुड़ना और फैलना लयबद्ध तरीके से होना चाहिए। इसके बाद लंबी सांस लें। सांस अंदर रोक लें। बायां नथुना भी बंद कर लें।

3 जालंधर बंध या मूलबंध लगायें 

जालंधर (चेहरे को नीचे झुका लें और ठुड्ढी को गर्दन से लगा लें) या मूलबंध (एड़ी से पेट तक दबाव देते हुए वायु को बलपूर्वक धीरे-धीरे ऊपर की ओर खींचा जाता है) लगा लें। जब तक संभव हो सके सांस रोके रखें।

deep breathing ke fayade
तेजी से सांस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

4 रेचक के माध्यम से सांस बाहर करें

फिर बाएं नथुने से रेचक (तेजी से सांस छोड़ना) करते हुए सांस बाहर करें। इस क्रिया को दायें नथुने से करें। इस तरह एक आवृति पूरी हो जाती है। इस तरह से तीन आवृति करें।

 5 लंबी सांस लेकर रोकें

इसके बाद दोनों हाथों को घुटनों पर रखें। दोनों नथुनों से 20 बार सांस लें और छोड़ें। फिर लंबी सांस लेकर रोकें। आगे पूर्व में की गई प्रक्रिया को दोहरायें। हर नाक से तीन आवृति करें।

यहां हैं भस्त्रिका प्राणायाम से मिलने वाले फायदे

इस प्राणायाम से फेफड़े अनावश्यक हवा और बैक्टीरिया मुक्त हो जाते हैं। यानी वे शुद्ध हो जाते हैं।

इसके नियमित अभ्यास से अस्थमा के लक्षणों को कंट्राेल किया जा सकता है। 

गले की हर तरह की जलन और पुराने कफ दूर होते हैं।

जठराग्नि उत्तेजित होती है। जिससे पाचन शक्ति बढती है।

भस्त्रिका प्राणायाम से मन स्थिर और शांत होता है।

बरतें सावधानियां

इस आसन में फेफड़े पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है। इसलिए कभी भी सांस पर बहुत अधिक जोर न लगाएं। शुरुआत में भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास धीरे-धीरे करें। शरीर ज्यादा नहीं हिलना चाहिए। चेहरे पर भी अधिक दबाव नहीं पड़ना चाहिए।

श्वास व्यायाम आप को बेहतर महसूस करने में मदद कर सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक
शुरुआत में भस्त्रिका प्राणायाम का अभ्यास धीरे-धीरे करें। चित्र : शटरस्टॉक

फिर उसकी गति में बढ़ोतरी करें। यदि किसी तरह की कोई बीमारी है, तो इस प्राणायाम को न करें। 

यह भी पढ़ें :- संपूर्ण व्यायाम है सूर्य नमस्कार, सुबह नहीं मिला समय तो शाम को करें अभ्यास  

  • 125
लेखक के बारे में
स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें