योगाभ्यास शुरू करने वाली हैं, तो पहले जान लें कि क्या करें और क्या नहीं

Published on: 10 June 2022, 22:00 pm IST

योग सिर्फ व्यायाम ही नहीं है, बल्कि यह संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार करने वाली जीवनशैली भी है। तो अगर आप योग की शुरूआत कर रहीं हैं, तो इन जरूरी बातों के बारे में जानना जरूरी है। 

yoga
योग और आसन करने से पहले कुछ बातों को ध्यान में रखना जरूरी है। चित्र: शटरस्टॉक

21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International yoga day 2022) है। इस अवसर पर बड़ी संख्या में लोग योग करेंगे। योग का फायदा तब और बढ़ जाता है, जब इसे नियमित तौर पर किया जाता है और कुछ नियमों का पालन किया जाता है। इसलिए यह जरूरी है कि आप भी उन नियमों (Yogasana do’s and Don’ts) के बारे में जान लें, जो योगाभ्यास के समय आपको हमेशा याद रखनी चाहिए।      

योग करें पर ध्यान रखें 

आयुष मंत्रालय भी प्रत्येक नागरिक से योग करने का आह्वान करता है और योग करते समय कुछ जरूरी बातों को ध्यान में रखने के लिए कहा जाता है। 

मंत्रालय के अनुसार, योगासनों का अभ्यास खाली पेट करना चाहिए। 

कमजोरी महसूस होने पर गुनगुने पानी में थोड़ी मात्रा में शहद मिलाकर पीना चाहिए। 

योगाभ्यास शुरू करने से पहले मूत्राशय और आंतें खाली होनी चाहिए। 

मन को शांत करने के लिए अनुकूल वातावरण में ही योग करना चाहिए।

शरीर और सांस के प्रति जागरुक होकर योगाभ्यास धीरे-धीरे और आराम से किया जाना चाहिए।

 यदि आप भी योग करती हैं या अंतरराष्ट्रीय योग दिवस से नियमित योगासन करने की योजना बना रही हैं, तो योग से जुड़े कुछ नियमों के बारे में जानना बहुत जरूरी है। आयुष मंत्रालय ने अपनी साइट पर योग कब नहीं करें, के बारे में विस्तार से बताया है। इसकी जानकारी बेहद जरूरी है।

 इन स्थितियों में न करें योगाभ्यास 

1 यदि आपको काम के कारण थकावट महसूस हो रही है या किसी प्रकार की बीमारी है, तो योगासन न करें। बहुत जल्दबाजी या बहुत तनाव की स्थिति में भी योग नहीं करना चाहिए।

 2 यदि आपको पीरियड्स हो रहे हैं, तो इस दौरान नियमित योगाभ्यास विशेषकर आसनों से बचना चाहिए। इसकी बजाय रिलेक्सेशन टेक्निक और प्राणायाम किया जा सकता है। इस दौरान योग करने से आपको शरीर की दूसरी समस्याएं हो सकती हैं।

 3 भोजन के तुरंत बाद योग नहीं करना चाहिए। यदि आपने भरपेट खाना खाया है, तो कम से कम 2 – 3 घंटे बाद ही योग करें। योगाभ्यास हमेशा खाली पेट ही करना चाहिए।

yogasana
तनाव होने या जल्दबाजी में कभी योग और अासन न करें। चित्र:शटरस्टॉक

4 कभी भी योगाभ्यास के तुरंत बाद न नहाएं। कम से कम 30 मिनट तक इंतजार करें और फिर नहाएं। योग के तुरंत बाद न ही पानी पिएं और न ही खाना खाएं।

 5 बीमारी, सर्जरी, या किसी प्रकार की मोच या फ्रैक्चर के दौरान योगाभ्यास से बचना चाहिए। विशेषज्ञों से सलाह लेने के बाद ही योग को फिर से शुरू किया जा सकता है।

 6 योगासन के बाद बहुत अधिक बॉडी स्ट्रेचिंग वाली एक्सरसाइज न करें।

 7 बहुत गर्मी पड़ने या बहुत ठंड होने पर या वातावरण में बहुत अधिक नमी मौजूद होने पर योग का अभ्यास न करें।

 8 योग ग्रंथों के अनुसार, आध्यात्मिक साधक के लिए यम या संयम का पालन करना आवश्यक है। आध्यात्मिक विकास के लिए नियमों का पालन करना जरूरी है।

 9 योगासन के साथ-साथ अहिंसा, सत्य, अस्तेय (चोरी नहीं करना), ब्रह्मचर्य या वैवाहिक निष्ठा, अपरिग्रह (गैर लोभ), धैर्य, क्षमा, लक्ष्य तक पहुंचने की दृढ़ता, दया, करुणा, ईमानदारी, मिताहार (मापा हुआ आहार) को भी अपने व्यक्तित्व में शामिल करने की कोशिश करनी चाहिए।

 10 यदि आप प्रेगनेंट हैं या आपको किसी तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हैं, तो डॉक्टर की सलाह के बाद ही सही योगासन करना चाहिए। कोई भी आसन या प्रणायाम बिना किसी योग विशेषज्ञ के निर्देश के बिना नहीं करना चाहिए।

 

स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें