OMAD Diet Plan : क्या दिन भर में बस एक बार खाना वेटलाॅस में मददगार हो सकता है? आइए चेक करते हैं

वेट लॉस के लिए लोग आजकल तरह-तरह के डाइट प्लान फॉलो करते हैं। ऐसा ही एक डाइट प्लान है ओएमएडी (OMAD)। क्या है ये डाइट प्लान और क्या यह वाकई काम करता है? आइए जानते हैं।
kya hota hai omad diet
OMAD का अर्थ होता है ‘One Meal a Day’ इसे "23:1 उपवास" के रूप में भी जाना जाता है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 8 Jun 2023, 08:00 am IST
  • 145
मेडिकली रिव्यूड

इंटरमिटेंट फास्टिंग, कीटो डाइट इन सब डाइट प्लान के बारे में तो आपने सुना ही होगा। इसी श्रृंखला में अब एक और डाइट प्लान जुड़ गया है। जिसका नाम है ओएमएडी (OMAD) यह भी वास्तव में इंटरमिटेंट फास्टिंग का ही एक रूप है। OMAD का अर्थ होता है ‘One Meal a Day’ इसे “23:1 उपवास” के रूप में भी जाना जाता है। इसमें आपको पूरे दिन में सिर्फ एक बार ही भोजन करना होता है। जहां व्यक्ति एक ही भोजन में अपने पूरे दिन के लिए आवश्यक कैलोरी का उपभोग करता है और शेष 23 घंटों के लिए उपवास करता है यानी कुछ भी नहीं खाता।

23 घंटे में व्यक्ति कुछ भी कैलोरी नही लेता है। लेकिन ऐसे पेय पदार्थ जिनमें कैलोरी नहीं होती, उन्हें लेने की अनुमति होती है। जैसे पानी, चाय या ब्लैक कॉफी। चूंकि एक ही मील में पूरे दिन की कैलोरी का सेवन किया जाता है इसलिए ये सुनिश्चित करना जरूरी है कि आप अपने पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करें।
हर व्यक्ति के कैलोरी का सेवन उसकी जरूरतों के हिसाब से अलग-अलग हो सकता है। लेकिन यह आमतौर पर 1,200 से 2,500 के बीच होता है।

ओएमएडी डाइट प्लान पर क्या कहती है एक्सपर्ट

OMAD डाइट प्लान के बारे में और ज्यादा जानने के लिए हमने बात की डायटीशियन और वेट लॉस एक्सपर्ट शिखा कुमारी से। शिखा कुमारी एक सर्टिफाइड डायटीशियन हैं और सोशल मीडिया पर लोगों को डाइट और वेट लॉस के बारे में जानकारी देती हैं।

शिखा कुमारी कहती हैं कि वजन घटाने के लिए ओएमएडी (OMAD) आहार एक प्रभावी तरीका हो सकता है, क्योंकि सीमित खाने के कारण यह स्वाभाविक रूप से कैलोरी के सेवन को कम करता है। जब आप एक ही भोजन में अपनी सभी दैनिक कैलोरी का उपभोग करते हैं और शेष घंटों के लिए उपवास करते हैं, तो इससे समग्र कैलोरी सेवन में कमी आ सकती है।

omad intermittent fasting ka ek roop hai
हर व्यक्ति के कैलोरी का सेवन उसकी जरूरतों के हिसाब से अलग-अलग हो सकता है।

वजन घटाने के लिए ओएमएडी डाइट प्लान के हो सकते हैं ये 5 लाभ

1 कैलोरी सेवन में कटौती होती है

शिखा कुमारी कहती हैं कि अपने सभी दैनिक कैलोरी को एक भोजन में इकट्ठा करके, आप स्वाभाविक रूप से अपने समग्र कैलोरी सेवन को सीमित करते हैं। जिससे कैलोरी की कमी हो सकती है और वजन कम हो सकता है।

2 फैट बर्निंग में वृद्धि

उपवास के दौरान, जब आपका शरीर उपवास की स्थिति में होता है, तो यह ऊर्जा के लिए शरीर में संग्रहीत वसा पर अधिक निर्भर हो सकता है। संभवतः इससे आपका फैट बर्न होने में मदद मिलती है।

3 आसान भोजन योजना

दिन के केवल एक बार भोजन करने से आपको भोजन को बनाना और उसकी योजना बनाना आसान हो सकता है। इससे आपको बार-बार खाने की योजना बनाने की जरूरत नही पड़ती है। इससे आपके समय और ऊर्जा की भी बचत हो सकती है।

शिखा कुमारी नें बताया कि यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि तेजी से वजन घटाना हमेशा टिकाऊ या स्वस्थ नहीं होता है। ओएमएडी आहार से जुड़े कुछ विचार और संभावित जोखिम भी हो सकते हैं। आइए अब उनके बारे में भी जान लेते हैं।

iske kuch dushprabhav bhi ho sakte hai
ओएमएडी आहार से जुड़े कुछ विचार और संभावित जोखिम भी हो सकते हैं।

दिन भर में सिर्फ एक बार खाने के कुछ जोखिम भी हो सकते हैं

1 पोषक तत्वों की कमी हो सकती है

अपने दैनिक भोजन को एक भोजन तक सीमित करने से आपके शरीर के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्वों को प्राप्त करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि आपका भोजन अच्छी तरह से संतुलित है और पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, स्वस्थ वसा, विटामिन और खनिज प्रदान करता है।

2 भूख और क्रेविंग की समस्या

ओएमएडी डाइट का पालन करने से तीव्र भूख और क्रेविंग हो सकती है, खासकर उपवास के दौरान। यह डाइट को बनाए रखना मुश्किल बना सकता है, जिससे संभावित रूप से आप अधिक बार खा सकते है और अधिक खाने का चक्र हो सकता है।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

3 ऊर्जा और फोकस में कमी

कुछ व्यक्तियों को उपवास की अवधि के दौरान ऊर्जा के स्तर में गिरावट और ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई का अनुभव हो सकता है, जो दैनिक गतिविधियों और उत्पादकता को प्रभावित कर सकता है।

ये भी पढ़े- बर्नआउट नहीं होने देते छोटे-छोटे ब्रेक्स, यहां हैं वर्कप्लेस स्ट्रेस से बचाने वाले 5 सुपर इफैक्टिव टिप्स

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख