सुबह या शाम : अपनी जरूरतों के हिसाब से जानिए आपको कब करना चाहिए व्यायाम

सुबह सनलाइट के साथ और शाम को सनसेट के बाद, दोनों ही वक्त आपका शरीर अलग-अलग तरह से रिएक्ट करता है। जिस तरह खाने का सही समय पता होना जरूरी है, उसी तरह अपनी आवश्यकताओं के अनुसार ही आपको वर्कआउट का टाइम चुनना चाहिए।
एक्सरसाइज के लिए समय निकालना व्यस्त शेड्यूल और व्यक्तिगत प्राथमिकताओं के चलते एक बहुत बड़ा संघर्ष होता है। चित्र : शटरस्टॉक
संध्या सिंह Published: 30 May 2024, 17:00 pm IST
  • 123

कुछ लोग अर्ली राइजर होते हैं और वे सुबह जल्दी उठकर एक्सरसाइज करना पसंद करते हैं। जबकि कुछ के लिए नाइट आउल या निशाचर शब्द इसलिए इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि सनसेट के बाद ज्यादा कम्फर्टेबल और एनर्जेटिक महसूस करते हैं। लेकिन क्या समय का व्यायाम के परिणामों पर कोई प्रभाव पड़ता है? क्या कोई एक निश्चित समय आपके व्यायाम के प्रभावों को घटा या बढ़ा सकता है? जवाब है हां, जानना चाहते हैं कैसे, तो इस लेख को अंत तक पढ़ें।

वर्कआउट टाइम के लिए किया गया शोध

फ्रंटियर में दिन के कुछ खास समय में ट्रेनिंग को फिट करने के लाभ को निर्धारित करने के लिए, एक छोटे से अध्ययन में 27 सक्रिय महिलाओं और 20 पुरुषों को लिया गया और 12 सप्ताह के दौरान उनकी फिटनेस प्रगति को देखा गया।

प्रतिभागियों ने एक ही बेसलाइन फिटनेस स्तर से शुरुआत की। अध्ययन ने ताकत की प्रगति, पेट की चर्बी घटाने और अन्य स्वास्थ्य संकेतकों के विभिन्न उपायों की निगरानी की। शोधकर्ताओं ने यह सुनिश्चित किया कि प्रतिभागियों ने एक समान मैक्रोन्यूट्रिएंट वाले डाइट का पालन किया हो।

how to avoid workout acidity
अपने शरीर को समझकर आप अरने वर्कआउट का समय निर्धारित कर सकते है। चित्र : एडॉबीस्टॉक

क्या रहे सुबह व्यायाम करने के लाभ

सक्रिय लोगों के इस अध्ययन में, महिला प्रतिभागियों ने सुबह 6 से 8 बजे के बीच अपनी स्ट्रेंथ ट्रेनिग को पूरा किया। इसमें जंप स्क्वाट जैसे व्यायामों से निचले शरीर की शक्ति में सुधार हुआ, बल्कि कूल्हे और पेट की चर्बी में भी कमी देखी गई।

अध्ययन में स्पष्ट बताया गया कि शरीर के वजन में बदलाव न होने पर भी शरीर की संरचना में ये अनुकूल परिवर्तन हुए, इस बात को भी समझना जरूरी है।

मूड और अपर बॉडी पर काम करता है ईवनिंग वर्कआउट

शाम को वर्कआउट 6:30 से 8:30 बजे करने के मामले में, इस समूह की महिला प्रतिभागियों को ऊपरी शरीर की ताकत, शक्ति और सहनशक्ति बढ़ाने में बेहतर सफलता मिली।

शारीरिक संरचना के संदर्भ में, शाम को व्यायाम करने वाली महिलाओं ने भी कुल शरीर की वसा में कमी का अनुभव किया, लेकिन सुबह की कसरत करने वाली महिलाओं की तुलना में ये थोड़ा कम था।

इसके बजाय, उन्हें समग्र मांसपेशियों की वृद्धि में बेहतर सफलता मिली, जिसे फिटनेस लक्ष्यों को देखते समय ध्यान में रखना उपयोगी हो सकता है। अध्ययन में देखा गया कि, शाम को व्यायाम करने से ऊपरी शरीर की मांसपेशियों के प्रदर्शन में सुधार हो सकता है, और संभवतः मूड में सुधार हो सकता है।

पुरुषों के लिए, जिन्होंने शाम को व्यायाम किया, उन्होंने सुबह के फिटनेस ग्रुप के समान शरीर की संरचना में समान परिवर्तन का अनुभव किया, लेकिन शाम को व्यायाम करने से ब्लड प्रेशर में अधिक महत्वपूर्ण कमी आई।

glowing skin ke liye karein cardio
ट्रेनिंग सेशन में कम से कम एक बार स्वयं नियमित रूप से कुछ मिनटों के लिए वार्मअप वर्कआउट करें। चित्र- अडोबी स्टॉक

वेट लॉस के लिए कब करें वर्कआउट?

कई लोगों के लिए, एक्सरसाइज के लिए समय निकालना व्यस्त शेड्यूल और व्यक्तिगत प्राथमिकताओं के चलते एक बहुत बड़ा संघर्ष होता है। लेकिन शोध से पता चलता है कि आपके व्यायाम की दिनचर्या का समय वास्तव में आपके वजन घटाने की गति को प्रभावित कर सकता है।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

यह केवल व्यक्तिगत पसंद के बारे में नहीं है, यह सर्कैडियन रिदम से भी संबंधित है, जिसे हमारी आंतरिक घड़ियों के रूप में भी जाना जाता है। प्रकाश और अंधेरे से प्रभावित ये जैविक चक्र मेटाबॉलिज्म और ऊर्जा के स्तर सहित विभिन्न शारीरिक कार्यों को व्यवस्थित करते हैं।

हमारी सर्कैडियन रिदम इस बात में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं कि हमारा शरीर पूरे दिन ऊर्जा का उपयोग कैसे करता है। इस रिदम को समझकर, हम बेहतर वजन प्रबंधन के लिए अपने वर्कआउट को संभावित रूप से अनुकूलित कर सकते हैं।

ये भी पढ़े- वेट लॉस फ्रेंडली फ्रूट है कीवी, इन 7 तरह से आपके लिए वजन घटाना हो जाता है आसान

  • 123
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख