जानिए कैसे आपकी हिप और लोअर बॉडी के फैट को कम करने में मददगार है डक वॉक

जो लोग स्क्वाट फॉर्म पसंद करते हैं और देर तक स्क्वाट कर पाते हैं। ऐसे लोगों के लिए डक वॉक एक्सरसाइज वजन कम करने का एक शानदार उपाय है। इससे लोअर बॉडी की ताकत बढ़ती है और पूरे शरीर में फ्लेक्सिबिलिटी का विकास होता है।

Duck walk
डक वॉक वजन कम करने का एक शानदार उपाय है। इससे लोअर बॉडी की ताकत बढ़ती है और पूरे शरीर में फ्लेक्सिबिलिटी का विकास होता है। चित्र शटर स्टॉक
ज्योति सोही Updated: 3 Feb 2023, 15:09 pm IST
  • 142

वर्कआउट से हमारी बॉडी को ताकत और हिम्मत मिलती है। अक्सर वज़न कम करने और फिट रहने के लिए डेली रूटीन में वॉक, योग या कुछ खास एक्सरसाइज (Exercise) को हम प्रयोग में लाते है। मगर फिर भी वज़न ज्यों का त्यों रहता है। हांलाकि स्लिम बॉडी (slim body) के लिए यूं तो कई प्रकार के व्यायाम है, जिनका इस्तेमाल सदियों से होता भी आ रहा है। मगर इन्हीं एक्सरसाइज़ की श्रृंखला में एक नाम डकवॉक (Duck walk) का भी है। जो शरीर को कई प्रकार के फायदे पहुंचाने का काम करती है। आइए जानते हैं इसके फायदे (4 benefits of duck walk) और इसे करने का तरीका।

पूरा वर्कआउट (workout) छाती और टांगों की मांसपेशियों (muscles) पर निर्भर करता है। इस प्रकार की एक्सरसाइज़ से मांसपेशियों की मज़बूती बढ़ती है। बतख के समान पैर आगे की ओर बढ़ाकर चलने से शरीर की काफी ताकत लगती है। इस प्रकार से चलने से बॉडी में जमा फैट बर्न होने लगता है। इस प्रकार चलने के लिए शरीर में बहुत ज्यादा एनर्जी की आवश्यकता होती है।

डक वॉक किसे कहते हैं, इस बात को समझाने के लिए हमारे साथ है स्टिड फास्ट नुट्रिशन के फाउंडर और फिटनेस एक्सपर्ट अमन पुरी, जो हमें बताएंगे कि डकवॉक के क्या फायदे हैं।

butt fat ke liye exercises
आपके बट के लिए अच्छी एक्सरसाइज़ है डकवॉक। चित्र : शटरस्टॉक

डक वॉक क्या है

सबसे पहले समझते हैं कि असल में डकवॉक क्या है। डक वॉक एक ऐसी वॉक है जिसमें आप स्क्वाट करने की स्थिति में चलते है। इसमें स्पीड कम रहती है। दोनों बाजूओं को आगे की ओर बढ़ाकर हाथ बांध लें और फिर धीरे धीरे कदमों से आगे बढ़ें। इस फॉर्म को डक वॉक कहकर पुकारा जाता है।

इसे करने के लिए हर एक्सरसाइज के मध्य 20 से 60 सेकंड के लिए डक वॉक ज़रूर करें। आप चाहें, तो डक वॉक को आप जंपिंग जैक और स्ट्रेंथ मूव्स के बीच कर सकते हैं।

1 शरीर में लाए लचीलापन

कई बार मांसपेशियां हमारी परेशानी का कारण बन जाती है। हम फिट रहने के लिए हाई इम्नेक्ट एक्सरसाईज करने लगते है। जो हमारी दिक्कतों को बढ़ाने का काम करती है। ऐसे में शरीर में फ्लेक्सिबिलिटी को बढ़ाने के लिए डक वॉेक करें। इससे शरीर के निचले हिस्से में स्टिफ हो चुकीं मसल्स को राहत मिलती है और मसल्स अपना काम उचित तरीके से करने लगते है।

2. बट को मिलती है मज़बूती

बतख की तरह चलने वाली इस एक्सरसाइज से आपके शरीर में ग्लूटस मैक्सिमस को मजबूती मिलती है। स्ट्रांग मांसपेशियों के चलते शरीर भारी चीजों को उठाने और रखने में समर्थ हो जाता है। इन मसल्स के साइज के हिसाब से ही बूटी का विकास होता है। साथ ही एक स्टडी में पाया गया है कि शरीर के प्रबल ग्लूट्स हमें हर तरह की चोट या इंजरी से बचाने का काम करने है।

3 बढ़ाए स्टेमिना

बतख की तरह चलने से आपके पैरों के मसल्स मज़बूत होने लगते हैं। इसके अलावा जब आप डक वॉक करते हैं, तो आपकी हार्ट बीट की स्पीड बढ़ने लगती है। इससे शरीर में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ जाती है। इससे स्टेमिना बिल्ट होने लगता है और आपको ऊर्जावान महसूस होने लगता है।

Ye aapke hips ko shape karega
फैट लॉस एक्सरसाइज़ आपकी योग यात्रा में एक नया जोड़ हो सकते हैं।चित्र:शटरस्टॉक

4 बैली फैट होगा दूर

अगर आप फ्लैट बेली चाहती हैं तो बत्तख की तरह से धीमी गति से चलने का प्रयास करें। इस लो इम्पैकट एक्सरसाइज की डेंसिटी बेहद हाई है। इस एक्सरसाइज के ज़रिए लोअर बैली सबसे ज्यादा प्रभावित होती है। लगातार इसे करने से बैली टाइट हो जाती है इससे आपकी बॉडी अधिक टोन्ड बन जाती है।

अपने संपूर्ण स्वास्थ्य को ट्रैक करें! हेल्थशॉट्स ऐप डाउनलोड करें

ये भी पढ़ें- आयुर्वेद के अनुसार इन 5 चीजों में छुपा है लंबे और स्वस्थ जीवन का राज़, मुश्किल नहीं है इन्हें फॉलो करना

  • 142
लेखक के बारे में
ज्योति सोही ज्योति सोही

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें