प्रेगनेंसी के दौरान फिट और मजबूत रहने के लिए काजल अग्रवाल बता रही हैं कुछ खास एक्सरसाइज़

Published on: 2 March 2022, 12:30 pm IST

अभिनेत्री काजल अग्रवाल का कहना है कि अगर आप जीवन के इस चरण में फिट और मजबूत रहना चाहती हैं तो गर्भावस्था के दौरान पिलाटीज (Pilates) और बैरे (Barre) व्यायाम करें।

गर्भावस्था में फिर और स्ट्रॉंग रहने के लिए एक्सरसाइज़। चित्र : शटरस्टॉक

गर्भावस्था एक महिला के जीवन की सबसे बड़ी खुशियों में से एक होती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि इसमें उतार – चढ़ाव नहीं आते। कई शारीरिक परिवर्तन होते हैं, जो कई बार आपके जीवन को अस्त-व्यस्त कर सकते हैं। मगर यदि आप आप ऐसे व्यक्ति हैं जो सक्रिय हैं और कोई जटिलता नहीं है, तो नियमित फिटनेस रूटीन का पालन करना महत्वपूर्ण है जिसमें एरोबिक और स्ट्रेंथ कंडीशनिंग शामिल हैं। आपको गर्भावस्था के दौरान व्यायाम के एक सेट पर ध्यान देना चाहिए।

एक इंस्टाग्राम पोस्ट में, काजल ने अपनी चल रही गर्भावस्था के दौरान फिट रहने के सीक्रेट्स के बारे में साझा किया। वह बताती है कि पिलाटीज़ और बैरे ने गर्भावस्था से पहले और उसके दौरान उसके शरीर को बेहतर तरीके से बदलने में मदद की है।

यदि आप इसका उत्तर ढूंढ रही हैं, तो काजल से जानिए उनके विचार “इस परिवर्तनकारी दृष्टिकोण ने मुझे मजबूत बनाया है। गर्भावस्था में एरोबिक कंडीशनिंग का लक्ष्य एक्सट्रीम फिटनेस तक पहुंचने की कोशिश किए बिना एक अच्छा फिटनेस स्तर बनाए रखना होना चाहिए।”

गर्भावस्था के दौरान कैसे फायदेमंद है पिलाटीज़?

1. आपके पेट की मांसपेशियों को मजबूत करता है

जब आप गर्भवती होती हैं, तो आपका शरीर रिलैक्सिन नामक एक हार्मोन छोड़ता है जिससे आपके शरीर में स्नायुबंधन अधिक लचीले हो जाते हैं। यह बदले में, पैल्विक दर्द और पीठ के निचले हिस्से की समस्याओं का कारण बन सकता है। जब आप अपने पेट की मांसपेशियों को मजबूत करने की दिशा में काम करते हैं, तो आपको इन अन्य मुद्दों के विकसित होने की संभावना कम होती है।

2. पीठ दर्द को कम करता है

पिलाटीज़ के नियमित अभ्यास से आप अपने पोस्चर में सुधार करना भी सीख जाते हैं। चूंकि आपका बच्चा बढ़ने के साथ-साथ आपकी मुद्रा में बदलाव आता है, इसलिए किसी विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में ही इसे अपनाएं है।

pregnancy mein exercise karein
प्रेगनेंसी में एक्सरसाइज़ करना ज़रूरी है। चित्र ; शटरस्टॉक

3. आपके पेल्विक फ्लोर को मजबूत बनाती है

आपके बच्चे के वजन के साथ-साथ गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन आपके पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को कमजोर कर सकते हैं। ऐसे में पिलाटीज़ करने से मांसपेशियां मजबूत होती हैं और मूत्र असंयम को रोकने में भी मदद मिलती हैं, जो गर्भावस्था के दौरान आम है।

4. आपकी सांस को नियंत्रित करने में मदद करती है

सभी प्रसवपूर्व पिलाटीज़ कक्षाओं में श्वास पर नज़र रखना महत्वपूर्ण है और यह मां और बच्चे दोनों के लिए सहायक साबित होता है। सांस पर नियंत्रण रखने से भी माताओं को प्रसव पीड़ा में मदद मिलती है। कभी-कभी, पेट बढ़ने के परिणामस्वरूप आपकी पीठ के ऊपरी हिस्से में अकड़न विकसित हो सकती है। अपनी बाहों को खोलने जैसे व्यायाम भी लचीलेपन को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।

5. स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद करती है

जबकि वजन बढ़ाना गर्भावस्था का एक हिस्सा है, मां और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए इसका नियंत्रित रहना महत्वपूर्ण है। इससे मां को गर्भावधि मधुमेह भी हो सकता है। इसलिए, रोजाना व्यायाम करने से स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद मिल सकती है, जिससे आपकी यात्रा आसान हो जाती है!

आप जो भी व्यायाम करना चाहें, कृपया पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें ताकि आपकी शारीरिक गतिविधियों का प्रकार, अवधि और तीव्रता आपकी आवश्यकताओं और क्षमता के अनुरूप हो।

यह भी पढ़ें : बदलते मौसम में बीमार होने से बचना है, तो इन 6 हेल्थ टिप्स का जरूर रखें ध्यान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें