Spot reduction: बैली, हिप्स या कमर, क्या संभव है शरीर की किसी एक जगह से फैट बर्न करना 

Updated on: 13 July 2022, 11:24 am IST

हो सकता है कि पेट या कूल्हों पर जमी चर्बी को घटाना आपका फिटनेस गोल हो, पर क्या यह वाकई संभव है कि कुछ खास व्यायामों से इसे कम किया जाए!

weight loss ke liye yogaasan
क्या स्पॉट रिडक्शन संभव है? चित्र : शटरस्टॉक

जिन लोगों ने अभी-अभी वर्कआउट करना शुरू किया है या जो वजन कम करने के आसान तरीके की तलाश में हैं, वे वजन घटाने के बारे में कई मिथ्स पर विश्वास कर लेते हैं। जिसकी वजह है अचानक से फिटनेस फ्रीक बनी दुनिया के बीच भारी मात्रा में वजन घटाने और फिटनेस के बारे में जानकारियों का होना। ऐसा ही एक मिथ है स्पॉट रिडक्शन (Spot reduction)। क्या आप भी मानती हैं कि स्पॉट पर वेट या मसल कम (spot weight loss or muscle reduction) करना संभव है और कपालभाति(kapalbhati) करने से आपके पेट की चर्बी (tummy fat) कम करने में मदद मिलेगी? वैसे आपको बता दें कि जब आप वर्कआउट(workout) करती हैं, तो पूरे शरीर में समान रूप से फैट कम होता है।

स्पॉट रिडक्शन क्या है?

स्पॉट रिड्यूसिंग शब्द का मतलब है शरीर के एक विशिष्ट क्षेत्र से वसा यानी फैट को जलाना। उदाहरण के लिए, एब्स, हिप्स या आर्म्स। बहुत अधिक कैलोरी और अपर्याप्त व्यायाम की प्रतिक्रिया में, शरीर वसा जमा करने लगता है। अब ऐसे में एकमात्र सवाल यह है कि क्या स्पॉट रिडक्शन शरीर की उन खास जगहों पर जमी चर्बी से छुटकारा पाने में मदद करता है? या क्या आप वाकई बॉडी के किसी निश्चित हिस्से से बॉडी फैट कम कर सकती हैं?

क्या स्पॉट रिडक्शन एक मिथ है?

हेल्थ शॉट्स ने इसका पता लगाने के लिए मशहूर न्यूट्रिशनिस्ट कविता देवगन से बात की। वे बताती हैं, “कोई भी खास व्यायाम वजन घटाने में तब तक मदद नहीं करेगा जब तक कि आवश्यक कैलोरी की कमी और मैक्रोन्यूट्रिएंट्स (उच्च प्रोटीन, कम कार्बोहाइड्रेट) को बनाए नहीं रखा जाता है।”

muskmelon khane se body wieght loose hota hai
फैट लॉस के लिए पूरी बॉडी का फैट कम करना ज़रूरी होता है, चित्र :शटरस्टॉक

उनके अनुसार, स्पॉट रिडक्शन काम नहीं करता, क्योंकि यह अक्सर वर्कआउट के साथ छोटी मांसपेशियों को टार्गेट करता है, जो कंप्लीट फिटनेस, ताकत या एनर्जी खर्च नहीं कराते। भले ही आपको फैट रिडक्शन फील हो।

इस बारे में क्या कहते हैं अध्ययन 

एक शोध में, पेशेवर टेनिस खिलाड़ियों के हाथ की मोटाई और उस पर जमा वसा की तुलना की गई। शोधकर्ताओं ने पाया कि यदि एक्सरसाइज़ से स्पॉट में कमी होती, तो टेनिस खिलाड़ी के खेलने वाले हाथ में, उनकी निष्क्रिय भुजा की तुलना में बहुत कम वसा होनी चाहिए थी पर ऐसा नहीं हुआ।

बेहतर विकसित मांसपेशियों के कारण एथलीटों के खेलने वाले हाथों की परिधि बड़ी होने के बावजूद, स्किनफोल्ड मोटाई के माप ने दोनों भुजाओं के बीच वसा के जमाव में कोई बदलाव नहीं दिखाया। 

क्यों मुश्किल होता है शरीर की किसी खास जगह से चर्बी घटाना  

हालांकि, चर्बी पूरे शरीर में हो सकती है, पर ऐसा लगता है वहां सबसे पहले जा कर जमा हो जाती है जहां से घटाना सबसे ज़्यादा मुश्किल है। आदमियों के लिए जहां ट्रिम करने के लिए सबसे चुनौतीपूर्ण जगह टमी/बेली फैट होता है, वहीं ज्यादातर महिलाओं के लिए, कूल्हे, नितंब और जांघ की चर्बी सबसे ज़िद्दी होती हैं। 

इसका सबसे सरल उपाय यह है कि शरीर की अतिरिक्त चर्बी को नियमित व्यायाम (एरोबिक और शक्ति प्रशिक्षण दोनों) और स्वस्थ आहार के साथ ही समाप्त किया जाए। यदि आप अपने इरादों पर टिके रहते हैं, तो आप जल्द ही अपनी फिटनेस को न सिर्फ देख पाएंगी, बल्कि भीतर से इसे महसूस भी कर पाएंगी।

यह भी पढ़ें: शरीर को स्वास्थ्य समस्याओं से बचाना है, तो नियमित रूप से बजाएं ताली

शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें