एसिडिटी और गैस की समस्या से तुरंत छुटकारा दिलाएंगे ये 4 योगासन

एसिडिटी और गैस शायद सुनने में छोटी समस्या लगें, लेकिन इनमें होने वाली तकलीफ वही समझ सकता है, जो इस समस्या से पीड़ित हो। ये योगासन अपना कर दूर करें ये समस्याएं।

yogasan
गैस और एसिडिटी के लिए आजमाएं ये योग चित्र: शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated on: 8 October 2022, 16:58 pm IST
  • 133

गैस और एसिडिटी की समस्या आम है, लेकिन कई बार यह इतनी गंभीर हो जाती है कि घरेलू नुस्खे काम करने में लंबा समय ले लेते हैं। गैस और एसिडिटी के लिए सबसे बड़ा योगदान तीखा, मसालेदार और अत्यधिक मीठे खाद्य पदार्थों का सेवन है। इसके अलावा धूम्रपान, चाय और कॉफी भी इस समस्या को बढ़ा देते हैं। तो अगर यह समस्या आपको बहुत ज्यादा परेशान करती है तो कुछ सरल योग आसनों को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लें।

एसिडिटी और गैस की समस्या को दूर करने में योग बहुत मददगार हो सकता है। एनसीबीआई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन) ने एक चिकित्सा शोध अध्ययन प्रकाशित किया है जो स्पष्ट रूप से उन कई लाभों को प्रदर्शित करता है जो ध्यान और योग से पाचन तंत्र से संबंधित समस्याओं पर हो सकते हैं, जिसमें एसिडिटी भी शामिल है। इसके अतिरिक्त, शोध में गैस की समस्याओं को शामिल किया गया है।

plow pose
नियमित रूप से हलासन करने पर हो जाती है पेट की चर्बी कम। चित्र:शटरस्टॉक

वहीं, एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि योग का अभ्यास पाचन संबंधी कई समस्याओं और उनके लक्षणों को रोकने में फायदेमंद हो सकता है। गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स डिजीज (GERD) सबसे आम स्थितियों में से एक है जिसमें पेट में गैस होती है और एसिडिटी की समस्या होती है। शोध से पता चला है कि कपालभाति और अग्निसार क्रिया के नियमित अभ्यास से GERD बढ़ाने में मदद मिल सकती है। GERD के रोगियों में, इससे गंभीर लक्षणों में सुधार हो सकता है। इसलिए यह माना जा सकता है कि योग गैस और एसिडिटी के लिए फायदेमंद हो सकता है।

एसिडिटी और गैस को चुटकियों में दूर करने के लिए अपनाएं ये योगासन

1. अर्धमत्स्येन्द्रासन

जब आप अर्धमत्स्येन्द्रासन में होते हैं, तो आपके पेट पर दबाव पड़ता है, जिससे रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है और पाचन तंत्र को बेहतर ऑक्सीजन मिलती है। एसिडिटी की समस्या दूर होती है, साथ ही शरीर से गंदगी और अन्य मलबा बाहर निकल जाता है।

इस तरह करें योगासन-

  • जमीन पर बैठें और अब दोनों पैरों को आगे फैलाएं।
  • बाएं पैर को इस तरह मोड़ें कि एड़ी कूल्हे के किनारे को छुए।
  • दाएं पैर को बाएं घुटने के पास जमीन पर टिकाएं।
  • बायें हाथ को दाहिने घुटने के ऊपर रखें और दाहिने पैर के पंजों को बायें हाथ से पकड़ें।
  • दाहिनी भुजा को कमर के किनारे से लेकर पीठ के पीछे ले जाकर नाभि को पीछे से छूने का प्रयास करें।
  • अपने सिर को दाईं ओर मोड़ें और पीछे देखने की कोशिश करें।
  • जब आप पीछे मुड़कर देखें, तो देखें कि आप किस प्रकार श्वास छोड़ते हैं।
    आसन अपने अनुसार करें।
  • यह आधा चक्र हुआ। इसी क्रिया को दूसरी तरफ से दोहराएं तब यह एक चक्र होगा।

2. वज्रासन

वज्रासन को भोजन के तुरंत बाद करने पर भी किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती बल्कि, यह भोजन के पाचन में मदद करता है, साथ ही गैस और एसिडिटी की संभावना को काफी कम करता है। योग से जुड़े एक शोध में साफ तौर पर सामने आया है कि वज्रासन योग पाचन संबंधी समस्याओं को दूर करने में मदद करता है। मदद मिल सकती है। शोध में बताया गया है कि यह रक्त प्रवाह को बढ़ा सकता है, जो कब्ज, एसिडिटी, बवासीर, आंतों की गैस आदि में फायदेमंद हो सकता है। इस तरह वज्रासन को योग में एसिडिटी और गैस के लिए गिना जा सकता है।

yoga digestion ke liye
वज्रासन का नियमित अभ्यास करें। चित्र : शटरस्टॉक

इस तरह करें योगासन-

  • सबसे पहले चटाई बिछाकर घुटनों के बल बैठ जाएं।
  • सुनिश्चित करें कि दोनों पैरों के पैर की उंगलियां एक साथ हों। एड़ियों को अलग रखें।
  • अब नितंबों को टखनों पर टिकाएं और हथेलियों को घुटनों पर रखें।
  • सिर और पीठ को सीधा रखें।
  • घुटनों को आपस में जोड़ लें।
  • इसके बाद आंखें बंद कर सामान्य रूप से सांस लेते रहें।
  • इस स्थिति में कम से कम दस मिनट तक बैठने की कोशिश करें।
  • अगर वज्रासन करते समय घुटनों में दर्द हो तो इस आसन को बलपूर्वक न करें।

3. बालासन

बालासन से एसिडिटी की समस्या भी दूर हो जाती है। बालासन आसन से पेट के अंदरूनी अंगों की अच्छी तरह से मालिश की जाती है, जिससे सभी अंग अपना काम ठीक से कर सकें।

इस तरह करें योगासन-

  • रीढ़ को सीधा रखते हुए वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाएं।
  • जैसे ही आप सांस लें, अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाएं।
  • सांस छोड़ते हुए दोनों हाथों को सीधा रखते हुए और माथा जमीन पर रखते हुए कमर के ऊपरी
  • हिस्से को आगे की ओर झुकाएं।
  • 30 सेकंड से कुछ मिनट तक इस मुद्रा में बने रहें।
  • फिर वज्रासन मुद्रा में वापस आ जाएं।
yoga-for-digestion
बालासन के अभ्यास से भी एसिडिटी की परेशानी दूर होती है। चित्र:शटरकॉक

4. हलासन

हलासन को एसिडिटी और गैस के लिए योगसूची में शामिल किया जा सकता है। इस आसन को करते समय शरीर हल की तरह दिखता है, जिसके कारण इसे हलासन कहते हैं। एनसीबीआई द्वारा प्रकाशित एक शोध में, हलासन को कब्ज, अपच और अन्य पाचन समस्याओं के लिए फायदेमंद पाया गया है।

इस तरह करें योगासन –

  • सबसे पहले चटाई पर पीठ के बल लेट जाएं।
  • हाथों को शरीर के पास रखें और हथेलियां जमीन की तरफ रखें।
  • इसके बाद सांस भरते हुए अपने पैरों को ऊपर उठाएं और 90 डिग्री का कोण बनाएं।
  • अगर टांगों को उठाने में दिक्कत होती है तो आप कमर को अपने हाथों से सहारा दे सकते हैं।
  • फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए पैरों के पंजों को जमीन से छूने की कोशिश करें।
  • अब हाथों को कमर से हटाकर पहले की तरह जमीन पर सीधा रखें।
  • इस मुद्रा में सामान्य रूप से सांस लेते रहें।
  • इसके बाद आराम से सामान्य स्थिति में लौट आएं।

  • 133
लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें