वैलनेस
स्टोर

जानिए क्यों ऑन द स्पॉट रनिंग आपके घुटनों और मांसपेशियों के लिए हानिकारक है

Published on:28 July 2021, 09:00am IST
महामारी के बीच वर्कआउट करने का एक ही तरीका हो सकता है - ऑन द स्पॉट रनिंग, लेकिन यहां बताया गया है कि यह आपकी फिटनेस के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 85 Likes
ऑन द स्पॉट रनिंग आपके लिए हानिकारक साबित हो सकती है. चित्र : शटरस्टॉक
ऑन द स्पॉट रनिंग आपके लिए हानिकारक साबित हो सकती है. चित्र : शटरस्टॉक

इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि दौड़ने से कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। नियमित रूप से दौड़ना हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है, क्योंकि यह बॉडीवेट एक्सरसाइज है, मांसपेशियों को मजबूत करता है, हार्ट हेल्थ में सुधार करता है और स्वस्थ वजन बनाए रखने में मदद करता है। किसी को ऑन द स्पॉट रनिंग करनी चाहिए या नहीं, ट्रेडमिल पर, या बाहर खुले में, इस पर बहस कई वर्षों से चल रही है।

जब ऑन द स्पॉट रनिंग की बात आती है, तो कुछ ऐसे कारक होते हैं जिन पर आपको विचार करना चाहिए।

पहले जानिए कि कैसे की जाती है ऑन द स्पॉट रनिंग (On the spot running)

आप एक सपाट सतह पर खड़े हो जाएं और अपने पैरों को घुटने की ऊंचाई तक उठाएं। फिर आप अपने पैरों को ज़मीन पर रखें और अपनी एड़ी पर रोल करें। टांगों को ऊपर उठाते हुए हाथों को घुमाएं, पीठ और कंधों को सीधा रखें।

तो, ऑन द स्पॉट रनिंग करनी चाहिए या नहीं?

हमें इसके कुछ नुकसान दिखाई दे रहे हैं, जानिए क्या हैं ये

ऑन द स्पॉट रनिंग करने का एक सही तरीका होता है. चित्र : शटरस्टॉक
ऑन द स्पॉट रनिंग करने का एक सही तरीका होता है. चित्र : शटरस्टॉक

1. जोड़ों का दर्द :

कई बार ऑन द स्पॉट रनिंग घर पर ही किया जाता है। इसलिए, जब यह मूवमेंट संगमरमर या ग्रेनाइट जैसी कठोर सतह पर किया जाता है, तो ग्राउंड रिएक्शन फोर्स कम हो जाता है, जो हड्डियों को मजबूत करने में सहायक होता हैं। इसलिए, ऑन द स्पॉट रनिंग से ग्राउंड रिएक्शन फोर्स की सुविधा नहीं हो सकती है, जिससे जोड़ों पर प्रभाव बढ़ जाता है, और दर्द और परेशानी होती है।

2. मांसपेशियों पर बढ़ा हुआ तनाव:

ऑन द स्पॉट रनिंग कुछ मांसपेशियों पर तनाव डाल सकती है, खासकर अगर इसे लंबे समय तक किया जाए। आपको कूल्हों और जांघ की मांसपेशियों, पिंडलियों और टखनों में दर्द का अनुभव हो सकता है।

3. कैलोरी बर्न करना:

ऑन द स्पॉट रनिंग बाहर दौड़ने जितना प्रभावी नहीं हो सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि बाहर हवा का प्रतिरोध अधिक कैलोरी जलाने में मदद करता है।

4. एक्ज़र्शन (Exertion):

चाहे ऑन द स्पॉट रनिंग हो या खुले में दौड़ना, समान प्रयास स्तर को बनाए रखना महत्वपूर्ण है। प्रयास का अनुमान ‘एक्ज़र्शन’ से लगाया जाता है, जिसका अर्थ है कि आप किसी गतिविधि को कितना कठिन मानते हैं, भले ही आपका शरीर उस गतिविधि पर कैसी भी प्रतिक्रिया दे।

बारिश या ठंड के दिन बाहर दौड़ने की तुलना में ऑन द स्पॉट रनिंग कम कठिन होगी, भले ही आप अधिक कैलोरी जलाते हों या आपकी हृदय गति तेज हो।

ऑन द स्पॉट रनिंग आपको कई समस्याओं में डाल सकती है. चित्र : शटरस्टॉक
ऑन द स्पॉट रनिंग आपको कई समस्याओं में डाल सकती है. चित्र : शटरस्टॉक

जानिए कुछ टिप्स जिन्हें आप ऑन द स्पॉट रनिंग के समय ध्यान रख सकती हैं

यदि आपने अपने डेली फिटनेस रूटीन में ऑन द स्पॉट रनिंग को शामिल किया है, तो चोटों से बचने के लिए निम्नलिखित टिप्स अपनाएं:

अपनी दिनचर्या को धीरे-धीरे बनाएं और सुनिश्चित करें कि आप सही फॉर्म का उपयोग कर रही हैं। अगर आपको कोई चोट लगती है या आपको लगता है कि आपने खुद को बहुत मुश्किल से पुश दिया है तो दौड़ना बंद कर दें।

एक उचित वार्म-अप, मांसपेशियों में रक्त के प्रवाह में सुधार कर सकता है और कठोरता को कम कर सकता है, संभावित रूप से चोट के जोखिम को कम कर सकता है।

मजबूत और आरामदायक जूतों की एक जोड़ी के साथ अपने कसरत को शक्ति दें जो अच्छे आर्च समर्थन प्रदान करते हैं। साथ ही ढीले और हल्के कपड़े पहने जो आपको दौड़ने के लिए जगह दें।

तो लेडीज, अगली बार जब आप ऑन द स्पॉट रनिंग करें तो इन सुझावों और बातों का ध्यान रखें!

यह भी पढ़ें : हॉट योगा 101: आपकी ताकत, क्षमता और फोकस को बढ़ाने में मददगार हो सकता है योग का ये वेरिएशन

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।