5 गलतियां जो बोसु बॉल के इस्तेमाल में ज्यादातर लोग करते हैं, जानिए इनसे बचने का तरीका 

Updated on: 1 June 2022, 09:18 am IST

जिम में मौजूद कुछ चीजें आपकी फिटनेस के लिए कमाल कर सकती हैं। पर उन्हीं का अगर गलत इस्तेमाल किया जाए तो आपको गंभीर चोट भी लग सकती है।

saavdhaani se karen bosu ball ka istemaal
सावधानी से करें बोसु बॉल का

यदि आप इंस्टाग्राम के प्रशंसक हैं और यह देखना पसंद करते हैं कि आपका पसंदीदा सेलेब या फिटनेस इन्फ्लुएंसर शेप में बने रहने के लिए क्या कर रहा है, तो आपने हाल ही में ट्रेंड में आया एक अंतर देखा होगा। अब योग में विभिन्न एक्सेसरीज़ और प्रॉप्स का उपयोग किया जाने लगा है, आसान एक्सरसाइज को इंटरेस्टिंग और मनोरंजक बनाने के लिए इनका इस्तेमाल किया जाता है। जिम में इस्तेमाल होने वाली ऐसी ही एक जिम एक्सेसरी है बोसु बॉल (Bosu Ball) , जिसका इस्तेमाल हर फिटनेस फ्रीक बढ़-चढ़ कर कर रहा है। पर आज हम यहां उन गलतियों (Bosu Ball Mistakes) की तरफ आपका ध्यान खींचने वाले हैं, जो किसी के लिए भी जोखिम कारक हो सकती हैं। 

यूथ फिटनेस आइकॉन कृति सेनन (Kriti sanon) से लेकर उर्वशी रौतेला (Urvashi Rautela) तक सभी अभिनेत्रियों ने इस बोसु बॉल (Bosu Ball) को अपना जिम फ्रेंड बना लिया है। बनाएं भी क्यों नहीं, आखिर बोसु बॉल जैसा एक छोटा सा प्रॉप उन्हें कम समय में मनचाहा शेप पाने में मदद जो करने लगा है।

ज़रूरी है कि बोसु गेंद का सही इस्तेमाल करने के लिए आप पर्याप्त सावधानी बरतें। इसके लिए प्रशिक्षित ट्रेनर की सहायता लें वरना आपको गंभीर चोट भी लग सकती है।

इसका गलत तरीके से किया गया इस्तेमाल पीठ की हड्डी टूटने से लेकर कूल्हे के निचले हिस्से और शरीर के जोड़ों व मांसपेशियों को प्रभावित कर सकता है। इसलिए आप बोसु बॉल (Bosu Ball) को बिना प्रशिक्षक के इस्तेमाल न करें।

इसलिए, यदि आपके फिटनेस मंत्र में बोसु बॉल का इस्तेमाल शामिल है, तो हम चाहते हैं कि आप उन सामान्य गलतियों को पढ़ें, जो लोग बोसु गेंद के साथ कर बैठते हैं। ताकि आप इन गलतियों को न कर के इसका अधिकतम लाभ उठा सकें।

क्या है बोसु बॉल?

बोसु बॉल एक मल्टी पर्पस सेमी-सर्कल बॉल है, जिसमें स्ट्रेचिंग, बैलेंसिंग और रिकवरी वर्कआउट से लेकर स्ट्रेंथ ट्रेनिंग और प्लायोमेट्रिक ट्रेनिंग तक कई फंक्शन्स हैं। अपने शेप और स्ट्रक्चर के हिसाब से इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

exercise se rahegaa dimaag bhee active
एक्सरसाइज में करें वेरिएशन को ऐड

यहां 5 सामान्य गलतियां हैं, जो बोसु बॉल इस्तेमाल करते हुए अकसर लोग कर देते हैं

1 उद्देश्य न समझ पाना : 

आपको बोसु गेंदों के उपयोग के उद्देश्य के बारे में स्पष्ट होना चाहिए। जबकि यह स्टेबिलिटी, फ्लेक्सिबिलिटी और स्ट्रेचिंग के लिए बहुत अच्छा है, हाई इन्टेसिटी वाले एक्सरसाइज़ करने के लिए यह सही नहीं और ऐसा करने पर दुर्घटनाओं की संभावना बढ़ जाएगी। इसके अलावा, गेंद का इस्तेमाल करते हुए बहुत भारी वजन उठाने से मांसपेशियों पर स्ट्रेच आएगा जिससे वे जल्दी थक जाएंगी।

2 छोटी मांसपेशियों को इग्नोर करना 

फिटनेस विशेषज्ञ मीनाक्षी मोहंती बताती हैं, “बोसु बॉल छोटी मांसपेशियों पर भी काम करती हैं, जिन्हें आमतौर पर नियमित कसरत में नजरअंदाज कर दिया जाता है। इसके इस्तेमाल का तरीका सीखना चाहिए, न कि केवल विशेषज्ञों के लिए किए गए अभ्यासों को करना चाहिए। शुरू करने का एक अच्छा तरीका यह है कि आगे बढ़ने से पहले बॉल पर खड़े होकर अभ्यास करें।”

3 बिना ट्रेनर उपयोग करना 

एक गलत मुद्रा या मूवमेंट आपका संतुलन बिगाड़ सकता है और आप गिर भी सकती हैं, जिससे गंभीर चोट लग सकती है। विशेषज्ञ की देखरेख के बिना, विशेष रूप से शुरुआती दौर में, गेंद का उपयोग करके वेट ट्रेनिंग करना शरीर में मौजूद मांसपेशियों की चोट की वजह बन सकता है।

4 गेंद को बिना किसी सहारे के रखना 

गेंद को हर समय लंबवत मज़बूत सतह के पास रखा जाना चाहिए, जिससे ट्रेनी अपना संतुलन खोने की स्थिति में पकड़ सकें। इसके साथ व्यायाम या वेट ट्रेनिंग करते हुए यह ध्यान रखें कि आपने इसका सही तरीके से इस्तेमाल करना सीख लिया होगा।

5 सही साइड का इस्तेमाल करें

इस बारे में सुझाव देते हुए मीनाक्षी मोहंती कहती हैं कि “बोसु गेंद, फ्लैट साइड अप या डोम साइड अप, दोनों तरफ से इस्तेमाल किया जा सकता है। आपको अपने ट्रेनर की सलाह से यह तय करना होगा कि आपके लिए अधिक उपयोगी क्या होगा जिससे चोट भी कम लगे।

Ye activity ko badhata hai
यह आपकी ऐक्टिविटी को बढ़ाता है। चित्र:शटरस्टॉक

इसका सही उपयोग करने पर मिल सकते हैं कुछ सुपर एक्साइटिंग बेनिफिट्स

स्टेबिलिटी बढ़ाता है :


फ्री वेट उठाते समय बोसु गेंद मांसपेशियों को मैक्सिमम सपोर्ट प्रदान करती है। यह न केवल लचीलापन बढ़ाती है, बल्कि कोर मसल्स की भी ट्रेनिंग करती है। जिससे अधिक प्रभावी कसरत हो पाती है और  व्यायाम अधिक चुनौतीपूर्ण हो जाते हैं, गेंद यह सुनिश्चित करती है कि चोटों से मांसपेशियों का बचाव किया जाए।

लचीलापन बढ़ता है 

मीनाक्षी मोहंती कहती हैं, “बोसु बॉल का गुंबद, पीठ की मांसपेशियों को खींचते हुए मांसपेशियों को लचीलापन प्रदान कर सकता है। दूसरी ओर, जब गुंबद नीचे की ओर हो और गेंद एक कोण पर खड़ी हो, तो इसका उपयोग पैर की मांसपेशियों को स्ट्रेच करने के लिए किया जा सकता है। यह  स्ट्रेच मसल्स को लचीला बनाता है।

वेरिएशन एक्सरसाइज को दिलचस्प बनाती है 

बोसु बॉल एक ही व्यायाम को कई तरह से करने का अनुभव दे सकती है। जिससे एक्सरसाइज इंट्रेस्टिंग हो जाती है। यह कसरत में विविधता लाती है और इसे उबाऊ नहीं होने देती।

यह भी याद रखें 

बोसु बॉल का इस्तेमाल करके एक्सरसाइज करने से पहले किसी फ़्लैट सर्फेस पर वर्कआउट का अभ्यास करें। बिगीनर्स या घायल लोगों को अपनी फिटनेस यात्रा शुरू करने से पहले किसी विशेषज्ञ से सलाह ज़रूर लेनी चाहिए।

तो डियर लेडीज़, आप भी बोसु गेंद के साथ अपने वजन घटाने की रोचक यात्रा शुरू कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें: डियर लेडीज, आपका एंटी एजिंग फ्रेंड है शहतूत, यहां जानिए इस छोटे से फल के 6 फायदे

 

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें