Post exercises acidity : एक्सरसाइज के बाद पेट में जलन और भारीपन का अनुभव होता है, तो हमेशा याद रखें ये 6 टिप्स

शरीर को एक्सरसाइज के लिए तैयार किए बिना एक्सरसाइज करना एसिडिटी और हार्टबर्न का कारण बन सकता है। ऐसे में पोस्ट वर्कआउट एसिडिटी को अवॉइड करने के लिए इन 6 टिप्स को फॉलो करना जरूरी है।
how to avoid workout acidity
जानें पोस्ट वर्कआउट को कैसे अवॉयड करना है। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Updated: 23 Oct 2023, 09:21 am IST
  • 129

इंटेंस वर्कआउट और एक्सरसाइज करने के बाद शरीर में कई चीजों का अनुभव होता है, उन्हीं में से एक है एसिड रिफ्लक्स। अक्सर एक्सरसाइज के बाद आपको पेट में जलन, एसिडिटी और भारीपन महसूस होता होगा। अब आप सोच रही होंगी ऐसा कैसे हो सकता है।

हालांकि, वर्कआउट एसिडिटी से बचाव का एक बेहतरीन उपाय है। परंतु यदि शरीर को वर्कआउट के लिए पूरी तरह से तैयार किए बिना हाई इंटेंसिटी एक्सरसाइज करती हैं, तो एसिडिटी की समस्या हो सकती है। जैसे कि यदि आप भारी भोजन करने के बाद एक्सरसाइज करना शुरू कर देती हैं, तो एसिडिटी की समस्या होना बिल्कुल सामान्य है।

ऐसा नहीं है की पोस्ट एक्सरसाइज एसिड रिफ्लक्स अवॉइड नहीं किया जा सकता है, कुछ जरूरी चीजों को ध्यान में रखते हुए इसे आसानी से होने से रोका जा सकता है। तो चलिए जानते हैं, पोस्ट वर्कआउट एसिड रिफ्लक्स को अवॉइड करने के कुछ जरूरी टिप्स (how to avoid post workout acidity)।

हेल्थ शॉट्स ने इस विषय पर उजाला सिग्नस ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल के डॉक्टर शुचिन बजाज से सलाह ली। उन्होंने पोस्ट वर्कआउट एसिडिटी को अवॉइड करने के कुछ जरूरी उपाय बताए हैं तो चलिए जानते हैं इसे किस तरह अवॉइड करना है (how to avoid post workout acidity)।

Exercise
वर्कआउट एसिडिटी से बचाव के उपाय। चित्र : शटर स्टॉक

पहले जानें वर्कआउट के बाद क्यों होता है एसिड रिफ्लक्स

हाई इंटेंसिटी वर्कआउट करते हुए या झटकेदार और झकझोर देने वाली एक्सरसाइज करते वक्त पेट में मौजूद एसिड वापस अन्नप्रणाली में प्रवेश कर जाती है। इसकी वजह से एसिड रिफ्लक्स की स्थिति पैदा होती है। ऐसे में खट्टी डकार आना और कड़वा और खट्टा लिक्विड पेट से मुंह में वापस आ जाता है। एसिड रिफ्लक्स की स्थिति में अन्नप्रणाली की लाइनिंग प्रभावित होती है साथ ही हार्टबर्न होना शुरू हो जाता है।

वर्कआउट एसिडिटी को अवॉयड करने के लिए इन टिप्स का ध्यान रखें

1. वर्कआउट के पहले भारी भोजन न करें

एक्सरसाइज करने से पहले यानी कि प्री वर्कआउट मील को जितना हो सके उतना हल्का रखने की कोशिश करें। प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों से भरपूर स्नेक्स ले सकती हैं। खाने के कम से कम 30 मिनट के बाद वर्कआउट शुरू करें। यदि आप इसे फॉलो नहीं करती हैं, तो एसिडिटी का सामना करना पड़ सकता है।

2. वर्कआउट के पहले भूलकर भी न लें ये फूड्स और ड्रिंक्स

एक्सपर्ट के अनुसार कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे हैं जिन्हें वर्कआउट के पहले लेने से एक्सरसाइज के बाद एसिडिटी का सामना करना पड़ सकता है। स्पाइसी और एसिडिक फूड्स से दूर रहें। इसके अलावा कैफीन, अल्कोहल और कार्बोनेटेड ड्रिंक्स लेने के बाद एक्सरसाइज करने से पेट में जलन महसूस हो सकता है। इन ड्रिंक्स और फूड्स से वर्कआउट के पहले नहीं बल्कि वर्कआउट के तुरंत बाद भी परहेज करना जरूरी है।

यह भी पढ़ें : High Heels : दिन भर हाई हील पहनती हैं, तो इन 5 रिलैक्सिंग एक्सरसाइज से दें पैरों को आराम

3. हाइड्रेटेड रहना है सबसे जरूरी

डॉक्टर के अनुसार वर्कआउट के दौरान और वर्कआउट के बाद पर्याप्त मात्रा में पानी पीना न भूलें। यह एसिड रिफ्लक्स की स्थिति नहीं बनने देता। डिहाईड्रेशन एसिड रिफ्लक्स की स्थिति को बढ़ावा देता है, इसलिए अपने शरीर को पूरी तरह से हाइड्रेटेड रखना बहुत जरूरी है।

sehat ko fit rakhne k liye piyen zyada se zyada pani, chamkega chehra
एसिडिटी से बचाव के लिए खूब सारा पानी पियें। चित्र : एडोबी स्टॉक

4. वर्कआउट के तुरंत बाद बेड पर न लेटें

वर्कआउट के बाद हम सभी थक जाते हैं और सीधा बेड पर आकर लेट जाते हैं। जो एसिड रिफ्लक्स होने का एक सबसे बड़ा कारण है। डॉक्टर की माने तो वर्कआउट के लगभग 30 मिनट से 1 घंटे के बाद बेड पर लेटना चाहिए। यह आदत आपको एसिड रिफ्लक्स की स्थिति से बचा सकती है।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

5. बेकिंग सोडा हो सकता है मददगार

यदि घरेलू नुस्खे की बात करें तो वर्कआउट एसिडिटी से राहत पाने के लिए बेकिंग सोडा का इस्तेमाल कर सकती हैं। बेकिंग सोडा को पानी में मिलाकर लें। यह आपके अन्नप्राणाली में मौजूद एसिड को बाहर निकालने में मदद करता है और आपको एसिड रिफ्लक्स से राहत देता है।

6. ढीले और आरामदायक कपड़े पहने

डाइजेस्टिव एंडोस्कोपी सेंटर द्वारा प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार वर्कआउट एसिडिटी को अवॉइड करने के लिए एक्सरसाइज करते वक्त हमेशा ढीले और आरामदायक कपड़े पहनने की कोशिश करें। टाइट कपड़े आपके पेट के हिस्से में अधिक प्रेशर बनाते है, जिसके कारण हार्टबर्न की स्थिति पैदा हो सकती है। वहीं ढीले कपड़े आपके शरीर को खुलकर सांस लेने की आजादी देते हैं।

यह भी पढ़ें : <a title="Running in Asthma : अस्थमा से पीड़ित हैं और दौड़ना चाहती हैं, तो जानिए ये आपके लिए कैसे सुरक्षित हो सकता है” href=”https://www.healthshots.com/hindi/how-to/world-asthma-day-2023-5-tips-to-make-running-safe-for-asthma-patients/”>Running in Asthma : अस्थमा से पीड़ित हैं और दौड़ना चाहती हैं, तो जानिए ये आपके लिए कैसे सुरक्षित हो सकता है

  • 129
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख