दिन भर एक्टिव और एनर्जेटिक बने रहने के लिए एक्सपर्ट बता रहीं हैं 5 सबसे आसान योगासन

दिन भर काम में लगे रहने पर थकान और ऊर्जा विहीन महसूस होता है। यहां हैं एक्सपर्ट के बताये 5 योगासन जो आपको दिन भर एनर्जेटिक बने रहने में मदद करेंगे।
Yoga-to-increase-height
योग आसन से दिन भर एनर्जेटिक फील किया जा सकता है। चित्र शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Updated: 23 Oct 2023, 09:11 am IST
  • 125

महिलाएं मल्टीटास्कर कहलाना चाहती हैं। इसके लिए वे हर काम को पूरा करना चाहती हैं। वह भी परफेक्शन के साथ। नतीजा होता है थकान और एनर्जी लेवल का लो होना। सही खानपान के साथ यदि वे कुछ जरूरी योग भी कर लें, तो वे दिन भर एनर्जेटिक बनी रह सकती हैं। सेलेब्रिटी योग और होलिस्टिक वेलनेस एक्सपर्ट  अन्शुका परवानी अपनी इन्स्टाग्राम पोस्ट में 5 सरल आसन (Yoga asanas for Energy) बताती हैं, जिन्हें आप नियमित रूप से करके दिन भर एनर्जेटिक बनी रह सकती हैं।

ऊर्जावान बनाये रखने वाले योग (Yoga asanas for Energy)

अन्शुका कहती हैं कि ढिलाई बरतने की बजाय महिलाएं अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दें। वे समय निकाल कर प्रतिदिन कुछ ऐसे योग करें, जो दिन भर उन्हें ऊर्जावान बनाये रखें। यहां आसनों का एक क्रम दिया गया है, जो पूरे शरीर पर काम करेगा। इससे आप तरोताजा और ऊर्जावान महसूस कर पाएंगी।

1 वृक्षासन (Vrikshasana or Tree Pose)

यह आसन तंत्रिका तंत्र को शांति और आराम देता है। पैरों को मजबूत करता है। यदि आप साइटिका के दर्द से पीड़ित हैं, तो यह एक बेहतरीन मुद्रा है।

कैसे करें वृक्षासन

पैरों को आराम से अलग करके खड़े हो जाएं।
अपनी दृष्टि एक बिंदु पर टिकाएं और उस बिंदु पर ध्यान केंद्रित करें।
सांस छोड़ें, और दाएं पैर को मोड़ें और बाईँ जांघ के अंदर रखें।
एड़ी पेरिनेम को छूना चाहिए।
बाएं पैर पर संतुलन बनाए रखें और धीरे-धीरे सांस लेते हुए दोनों हाथों को ऊपर उठाएं।
अपने हाथों की हथेलियों को मिलाएं।
10-20 सेकंड के लिए सामान्य श्वास के साथ आसन को बनाए रखें।
सांस छोड़ें और बाहों और दाएं पैर को नीचे लायें।
विपरीत पैर के साथ इसी क्रम को दोहराएं।

बद्धकोणासन (Baddha Konasana or Cobblers Pose)

यह आसन रक्त परिसंचरण में सुधार करता है। यह घुटने की मांसपेशियों को फैलाता है और पेल्विक रीजन और आंतरिक जांघों को लाभ पहुंचाता है।

कैसे करें बद्धकोणासन

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

पीछे की बजाय सीधे सिटिंग बोंस के ऊपर बैठें।
घुटनों को मोड़ें और उन्हें अपने साइड की ओर खुला रहने दें।
पैरों के तलवों को एक साथ खींचें। हाथों का उपयोग उन्हें खोलने के लिए करें जैसे किसी किताब का पन्ना खोला जाता है।
अपने स्टेरनम या चेस्ट के माध्यम से उठाने के लिए कंधे के ब्लेड को ऊपरी पीठ के खिलाफ दबाएं। धड़ के साथ लिफ्ट खोजने में मदद के लिए टखनों को पकड़ें।
मुद्रा से बाहर निकलने के लिए धीरे-धीरे पैरों को छोड़ें। स्टाफ पोज में आयें।

परिव्रत सुखासन (Parivrtta Sukhasana or Crossed Legged Twist)

रीढ़, कंधों और छाती में लचीलापन बढ़ाता है। पेट के अंगों को उत्तेजित करता है। कूल्हे, घुटने और टखने की मांसपेशियों को फैलाता है।

कैसे करें परिव्रत सुखासन

आरामदायक क्रॉस-लेग स्थिति में आएं।
सीधे बैठें। दाहिने हाथ को बाएं घुटने पर ले आएं।
रीढ़ को सीधा रखते हुए बाएं हाथ को कंधे की ऊंचाई तक उठाएं। हाथ को ऊपर की ओर उठाएं। फिर हाथ को हिप के ठीक बगल में रखते हुए नीचे करने के लिए मुड़ें।
बाएं कंधे पर देखें। आंखों को बाईं ओर एक बिंदु पर टिका दें जहां तक आप देख सकती हैं।

Padmasana benefits
इस आसन के लिए पहले सीधे बैठें । चित्र शटरस्टॉक।

समान रूप से सांस लेना जारी रखें।
सांस लेते हुए कमरे के सामने की ओर देखें। बायां हाथ उठाएं और बाएं हाथ को उपर की ओर फैलायें। बायीं ओर नीचे की ओर खिंचाव महसूस करें। गहरी सांस लें।
सांस छोड़ते हुए बाएं हाथ को दाहिने घुटने पर गिरायें। भुजाओं के ऊपर आगे की ओर मोड़ें।
पूरक करते हुए छोड़ें और बैठने के लिए वापस ऊपर आएं। पैरों को बदलें और दूसरी तरफ अनुक्रम दोहराएं।

नौकासन (Naukasana or Boat Pose)

यह पैर और बांह की मांसपेशियों को टोन करता है। पेट की मांसपेशियों को मजबूत करता है और पाचन विकारों को ठीक करता है।

कैसे करें नौकासन

चटाई पर पीठ के बल लेट जाएं।
गहरी सांस लें और धीरे-धीरे सांस छोड़ें। छाती और पैरों को जमीन से ऊपर उठाएं।
उंगलियों को पैरों की ओर करते हुए भुजाओं को आगे की ओर रखें।
जमीन पर बैठने की कोशिश करें इससे शरीर नाव के आकार का हो जाता है।
सामान्य स्थिति में लौट आएं

5 विपरीत करणी (Viparita Karani)

सोने से पहले इस आसन का अभ्यास करने से पीठ में खिंचाव होता है। यह एक बहुत उपचारात्मक मुद्रा है, जो चिंता और अवसाद से निपटने में मदद करती है।

कैसे करें विपरीत करणी आसन 

समतल सतह पर लेट जाएं।
कूल्हों को जितना हो सके दीवार के करीब ले जाएं। अपने पैरों को दीवार पर तब तक चलाने की कोशिश करें जब तक कि आपका शरीर एल आकार का न हो जाए।
समायोजन करें, ताकि इस मुद्रा में आराम महसूस कर सकें।

sinus ke liye savasana
इस आसन में सबसे पहले लेट जाएं, फिर पैरों को दीवार से लगाने की कोशिश करें। चित्र:शटरस्टॉक

सिर के नीचे एक तकिया या अपनी पीठ के तल पर तौलिया का उपयोग करें।

यह भी पढ़ें :- Yoga for hair growth: क्या शीर्षासन करने से बाल बढ़ने लगते हैं? जानिए बालों के लिए कैसे काम करते हैं योगासन

  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख