ऐप में पढ़ें

शरीर में जकड़न महसूस कर रही हैं? इन 7 योगासनों की मदद से बढ़ाएं अपना लचीलापन

Updated on: 26 October 2021, 10:10am IST
अपना लचीलापन वापस पाना चाहती हैं? तो अब योग का अभ्यास करने का समय आ गया है। इन योग मुद्राओं का नियमित रूप से अभ्यास करें और परिणाम देखें।
Regular exercise aapko energetic rakhega
नियमित व्यायाम आपको ऊर्जावान रहने में मदद करेंगे। चित्र : शटरस्टॉक

जैसे-जैसे हम बड़े होते हैं, उम्र बढ़ने के परिणामस्वरूप हमारा लचीलापन कम होने लगता है, जिससे हमारे शरीर में गति कम हो जाती है। लंबे समय तक बैठे रहना, खराब मुद्रा और तनाव अन्य कारकों में से हैं, जो इसमें योगदान कर सकते हैं। परंतु, यदि आप अपनी फ्लेक्सिबिलिटी वापस पाना चाहती हैं, तो योग करने से आपको मदद मिल सकती है।

यदि आप वास्तव में अपने लचीलेपन को बढ़ावा देना चाहती हैं, तो कुछ योग मुद्राओं का नियमित अभ्यास आपकी मांसपेशियों और जोड़ों में गतिशीलता बढ़ाने में मदद कर सकता है। वास्तव में, योग मांसपेशियों को मजबूत करने और तनाव और चिंता की भावनाओं को कम करने में आपकी मदद करेगा।

चलिये जानते हैं जकड़न दूर कर लचीलापन बढ़ाने वाली 7 योग मुद्राएं

1. सुसीरंध्रासन (Eye of the Needle Pose)

निर्देश :

पीठ के बल लेट जाएं और दोनों घुटनों को मोड़ लें।
अपने बाएं पैर को दायीं ओर क्रॉस करें, दोनों हाथों को अपने दाहिने पैर की जांघ के पीछे के चारों ओर पकड़ें और दाहिने घुटने को छाती की ओर लाएं।
30 सेकंड के लिए इस मुद्रा में रहें, फिर पैर की स्थिति को उलट दें और दोहराएं।

लाभ: यह मुद्रा ग्लूट्स, कूल्हों और पीठ के निचले हिस्से को फैलाती है। यह योग मुद्रा पैरों और कूल्हों में रक्त के प्रवाह और परिसंचरण को बढ़ाती है। ऐंठन से राहत देती है और चिंता को कम करती है।

2. उत्तानासन (Standing forward bend)

निर्देश:

एक सीध में खड़े रहें और अपने कूल्हे जोड़ों को घुमाते हुए आगे की ओर झुकें।
अपने घुटनों को सीधा रखें और अपनी हथेलियों को फर्श पर रखें, या अपने टखनों के पिछले हिस्से को पकड़ें।
30 सेकंड से 1 मिनट तक आगे की ओर झुके हुए इसी मुद्रा में रहें।

flexibility ke liye yoga
आगे झुकते हुए पोज देना सबसे आसान काम है जो आप लचीलेपन के लिए कर सकते हैं। चित्र-शटरस्टॉक।

लाभ: यह आसन मन को शांत करता है, हैमस्ट्रिंग, गैस्ट्रोकेनमियस, पिरिफोर्मिस मांसपेशियों, रीढ़ की मांसपेशियों और कई अन्य मांसपेशियों और संयोजी ऊतकों पर काम करता है और फैलाता है। साथ ही, यह तनाव को कम करता है।

3. अधो मुख श्वानासन (Downward-Facing Dog)

निर्देश:

अपने हाथों को जमीन पर मजबूती से रखें।
पैरों को कूल्हे की चौड़ाई के बराबर रखते हुए, अपने कूल्हों को ऊपर और पीछे फैलाएं।
5-10 सांसों के लिए रुकें।

लाभ: यह योग में सबसे आम और प्रसिद्ध मुद्रा में से एक है। यह एक शक्तिशाली शक्ति मुद्रा है जो कंधे, ऊपरी पीठ, कोर, निचली पीठ, ग्लूट्स और हैमस्ट्रिंग पर काम करती है।

yoga ke fayde
डॉग पोज यानी अधोमुखश्‍वानासन। चित्र: शटर स्‍टॉक

4. मलासन (Garland Pose)

निर्देश:

अपनी भुजाओं को बाजू और पैरों को अलग करके सीधे खड़े हो जाएं।
अब, बैठ जाएं और सुनिश्चित करें कि आप अपने पैरों पर हैं और अपने नितंबों को फर्श पर नहीं रखें।
अपने श्रोणि को अपनी एड़ी के ऊपर रखें।
पैरों को फर्श पर सपाट रखते हुए, अपनी हथेलियों को अपने पैरों के बगल में फर्श पर रखें या प्रार्थना की मुद्रा में उन्हें अपनी छाती के सामने जोड़ लें।
10 लंबी सांसों के लिए मलासन में रहें।

लाभ: मल मुद्रा कूल्हों और कमर को खोलती है, क्योंकि यह पैरों और टखनों को फैलाती है और मजबूत करती है। यदि आप गर्भवती हैं तो यह आपके टखनों, पीठ के निचले हिस्से और कूल्हों में सामान्य तनाव को दूर करने के साथ-साथ आपके पैरों की मांसपेशियों को सक्रिय करने का बहुत अच्छा तरीका है। मलासन पाचन में भी मदद कर सकता है

Garland pose hai fat free jaangh ka raaz
मालासन हैं फैट-फ्री जांघ का राज। चित्र:शटरस्टॉक

5. बिटिलासन मार्जरीआसन (Cat-Cow)

निर्देश:

अपने हाथों और घुटनों को एक बिल्ली की नकल करते हुए जमीन पर रखें। ऊपर देखने के लिए श्वास लें, अपनी रीढ़ को फैलाते हुए अपने पेट को जमीन की ओर नीचे करें। सांस छोड़ें और अपनी रीढ़ को छत की ओर झुकाएं और अपनी ठुड्डी को अपनी छाती से लगाएं। इस मूवमेंट को जारी रखें कम से कम 1 मिनट।

लाभ: यह मुद्रा शरीर को गर्म करती है और रीढ़ की हड्डी में लचीलापन लाती है। वास्तव में, यह पीठ, धड़, गर्दन को फैलाती है और पेट के अंगों को धीरे से उत्तेजित और मजबूत करती है। अपने पेट की चर्बी कम करने के लिए यह बेहतरीन प्रारंभिक आसन है।

6. वीरभद्रासन (Virabhadrasana)

निर्देश:

खड़े होना शुरू करें, फिर अपने दाहिने पैर को लगभग चार फीट आगे बढ़ाएं।
अपने बाएं पैर को अपने पीछे सीधा रखें और अपनी बायीं एड़ी को लगभग 45 डिग्री पर मोड़ें। अपनी बाहों को सीधे अपने सिर के ऊपर उठाएं, अपने कंधों को नीचे रखें।
अपने कंधे के ब्लेड को एक साथ और नीचे की ओर निचोड़ें, और अपने हाथों को ऊपर की ओर देखने के लिए अपनी ठुड्डी को ऊपर उठाएं।
अपनी मुद्रा को होल्ड करें और फिर बाईं ओर दोहराएं।

वीरभद्रासन। चित्र: शटरस्‍टॉक

लाभ: यदि आप लचीलेपन के लिए स्ट्रेच चाहते हैं, तो यह आपके आंतरिक योद्धा को गले लगाने का समय है। योद्धा एक महान आसन है जब आप अपनी सूंड पर ध्यान केंद्रित कर रहे होते हैं। मुद्रा की क्रिया आपकी मुख्य मांसपेशियों के भीतर शक्ति और गति की बेहतर श्रेणी दोनों का निर्माण करती है

7. बालासन (Child’s Pose)

निर्देश:

अपने घुटनों पर बैठें, अपने बड़े पैर की उंगलियों को छूएं, और आपकी एड़ी बाहर की तरफ निकली हुई हो।
अपने कूल्हों पर आगे की ओर मोड़ें और अपने हाथों को अपने सामने फैलाएँ, फिर अपने कूल्हों को वापस अपने पैरों की ओर नीचे करें।
धीरे से अपने माथे को फर्श पर रखें या अपना सिर एक तरफ कर लें। अपनी बाहों को फैलाकर रखें या उन्हें अपने शरीर के साथ आराम दें।
इस मुद्रा में 5 मिनट तक रहें और गहरी सांस लेते रहें।

लाभ: कोई भी मुद्रा करते समय यदि आप थक जाते हैं, तो आप चाइल्ड पोज में जा सकते हैं! यह आपके दिमाग को शांत करता है और पीठ की मांसपेशियों को फैलाता है।

आप इन पोज़ के साथ जल्दी से अपना लचीलापन वापस पा लेंगे, इसलिए बिना देर किए अभी से इनका अभ्यास शुरू कर दें।

यह भी पढ़ें : योग आपकी उम्र के साथ आपकी आंखों की रोशनी बढ़ाने में भी मददगार हो सकता है, जानिए जरूरी योगासन

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।