फार्टिंग से परेशान हैं, तो गैस से तुरंत राहत पाने के लिए ट्राई करें ये 3 योगासन

बदल रहे लाइफस्टाइल में गैस और ब्लॉटिंग ऐसी समस्या है, जिससे हर व्यक्ति परेशान है। अगर आप भी फार्टिंग से बचना चाहते हैं, तो अब आपकी परेशानी इन योगासनों के माध्यम से दूर हो सकती है। जानिए गैस रिलीज करने वाले इन योगासनों को करने की विधि।

yoga ko banayein apni dincharya ka hissa
एसिडिटी, गैस और ब्लॉटिंग से बचने के लिए योग को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। वे आपको इस समस्या से तुरंत राहत दे सकते हैं। चित्र अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Updated on: 26 January 2023, 17:11 pm IST
  • 142
इस खबर को सुनें

योग हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है। मस्तिष्क से लेकर पैरों की उंगलियों तक। शरीर का हर हिस्सा योग के माध्यम से चार्ज और स्वस्थ रह सकता है। आए दिन हम कई तरह की बीमारियों से घिरे रहते हैं। खासतौर से एसिडिटी, गैस और ब्लॉटिंग एक ऐसी समस्या है, जिससे देर तक बैठकर काम करने वाले लो ज्यादा परेशान रहते हैं। मगर परेशान न हों, क्योंकि योग में कुछ ऐसे आसन भी हैं जो आपकाे इस समस्या (yoga poses to relieve gas) से तुरंत राहत दे सकते हैं।

कई समस्याओं का कारण बन सकती हैं गैस

शरीर से गैस रिलीज न होने के कारण कई बार सीने में जलन, पेट या पीठ में अचानक होने वाला असहनीय दर्द और खट्टे डकार आने लगते हैं। इससे बचने के लिए हम जल्दबाजी में एसिडिटी की दवाई ले लेते हैं। जो उस समस्या को वहीं रोक देती है और हम स्वस्थ महसूस करने लगते हैं। अगर आप इस समस्या को पूर्ण रूप से जउ़ से खत्म करना चाहते हैं, तो इन योगासनों को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। इससे आप स्वस्थ और फिट फील करेंगी। इस बात में वाह लाइफ की फाउंडर सुमिता गुप्ता हमें आप उन योगासनों का परिचय दे रही है, जो इंस्टेंट गैस रिलीज में मददगार साबित हो साकते हैं।

यहां हैं 3 योगासन जो आपको तुरंत गैस और एसिडिटी से राहत दिला सकते हैं (yoga poses to relieve gas)

1. पवनमुक्तासन (Gas release pose)

वेलनेस कोच सुमिता गुप्ता के अनुसार पीठ के बल किए जाने वाले इस आसन को पवनमुक्तासन कहा जाता है। इसे करने से शरीर में मौजूद वायु की समस्या दूर होती है। इसके अलावा पीठ दर्द, कमर दर्द, हाई ब्लड प्रैशर और अनियमित मासिक धर्म से राहत मिलती है। इससे हमारी पाचन क्रिया दुरूस्त रहती है और मांसपेशियों को भी मज़बूती मिलती है।

pawanmuktasana
पीठ के बल किए जाने वाले इस आसन को पवनमुक्तासन कहा जाता है। इसे करने से शरीर में मौजूद वायु की समस्या दूर होती है। चित्र अडोबी स्टॉक

कैसे करें पवनमुक्तासन

इसके लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं। फिर हाथों और पैरों को पूरी तरह से सीधा कर लें।

अब आंखों को बंद कर लें और रिलेक्स फील करें।

गहरी सांस भरते हुए अपने सिर को उपर की उठाएं और बैठने की मुद्रा में आ जाएं।

धीरे धीरे अपनी चिन को घुटने पर रखें। अब सांस छोड़ते हुए दोबारा ज़मीन पर लेट जाएं।

2.मकरासन (Crocodile pose)

सुमिता गुप्ता बताती हैं कि मकरासन का अर्थ है मगरमच्छ जैसी आकृति। इसे पेट के बल लेटकर किया जाता है। जो गैस और एसिडिटी की समस्या से मिनटों में राहत पहुंचा सकता है। इस योगासन के ज़रिए आप खुद को हल्का और तनाव मुक्त महसूस करते हैं। इसके अलावा ये आसन अनिद्रा की समस्या को भी दूर करने में एक कारगर उपाय है।

bhujangasan ke fayade
लंबे समय तक योग को दिनचर्या में शामिल करने से स्वास्थ्य लाभ होते है। चित्र : अडोबी स्टॉक

कैसे करें मकरासन

इसे करने के लिए सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं।

अब दोनों हाथों से एलबो का एक स्टैंण्ड बना लें। अपनी चिन को उसके मध्य टिका दें।

आंखों को बंद कर लें और पैरों के बीच में थोड़ी सी दूरी रखें।

अब एक एक कर पैरों की एड़ी को मोड़े और घुटने के पास ले जाएं।

इस प्रक्रिया को आप आठ से दस बार कर सकते हैं। आप चाहें, तो कुछ देर के लिए पैरों को बिना हिलाएं भी
विश्राम की मुद्रा में लेट सकते हैं।

इससे एसिडिटी की समस्या का निवारण आसानी से हो जाता है।

3.शलभासन (Locust pose)

अगर आप एसिडिटी से पोशान है, तो शलभासन को ज़रूर अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। ये देखने और सुनने में जितना आसानी लगता है, उतना सिंपल नहीं है। टिड्डी आसन के नाम से प्रचलित इस योग को सावधानीपूर्वक करें। इस आसन से पेट में गैस की समस्या का समाधान होता है। साथ ही पैल्विक एरिया के मसल्स भी मज़बूत बनते है। इसके अलावा ये आसान आपको मोटापे से भी छुटकारा दिलाता है।

yoga-for-digestion
जानिए गैसे और पीठ की अकड़न से राहत के लिए कैसे करना है शलभासन। चित्र शटरस्टॉक।

कैसे करें शलभासन

इसमें पेट के बल लेट जाएं। हाथ की मुट्ठी बनाकर उसे थाइज़ के नीचे की ओर रखें

अब आप अपनी चिन को जमीन पर लगाएं ताकि आपके नाक पर कोई दबाव न बन पाए।

पैर सीधे रखें और एक के बाद एक पैर उठाएं और नीचे रखें।

इसके बाद कुछ देर के लिए पैरों को जमीन से उपर उठा लें।

इस तरह से शलभासन का एक चक्र पूरा हो जाता है। इसे आप 5 से 6 बार दोहराएं।

ये भी पढ़ें- अल्जाइमर के रिस्क को कम करने में कारगर हैं ये योगासन, जानें इन्हें करने की विधि

  • 142
लेखक के बारे में
ज्योति सोही ज्योति सोही

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें