ये 5 पोजीशन आपको पीरियड के दर्द से राहत दिलाने में मदद करेंग, सुबह या शाम कभी भी कर सकती हैं अभ्यास

पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए यह सबसे आम स्थिति है। बस अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने घुटनों के नीचे एक तकिया और अपने सिर के नीचे एक और तकिया रखें। यह आपके पेल्विक क्षेत्र को खोलने में मदद करेगा और बेहतर रक्त प्रवाह में मदद कर सकता है।
asan dimag ko shant karte hain.
यह मुद्रा विशेष रूप से आपकी पीठ में पीरियड के दर्द को शांत करने मेंं मदद करती है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 7 Jul 2024, 07:00 pm IST
  • 146

पीरियड क्रैंप (periods cramp) आपको बहुत ज्यादा परेशान करने वाले हो सकते है। पीरियड में कई लोगों को बस नॉर्मल दर्द होता है तो कई लगों को बहुत ज्यादा क्रैंप होते है उन्हें इतना दर्द होता है की उनके लिए उठना, बैठना, चलना भी मुश्किल हो जाता है। इस दर्द से राहत पाने के लिए कई लोग दवा का सहारा ले लेते है तो कुछ लोगों को दवा नहीं लेनी होती है। इसके कारण वे उस दर्द को सहते है।

जब आप पीरियड्स के क्रैंप से जूझ रहे होते हैं, तो थोड़ी-सी राहत भी मददगार होती है। इसलिए हमने ऐसी पोजीशन के कुछ नाम चुने है जो दर्द को कम करने में मदद कर सकती हैं। हर पोजीशन को अलग-अलग जगाहों को आरम देने के लिए डिज़ाइन किया गया है जो असुविधा पैदा कर सकते हैं। इन पोजीशन (pose for period cramps) को आर जहां है वहीं रहकर कर सकते है। इसके लिए आपको कोई खास सामान की जरूरत भी नहीं है।

period ke dauran kai hormone nikalte hain.
पीरियड के दर्द को कम करने के लिए आप ये 5 योगासन कर सकते है। चित्र- अडोबी स्टॉक

पीरियड के दर्द से राहत के लिए 5 पोजीशन (5 yoga poses to relieve cramps)

1 क्लासिक क्रैम्प पोज़ (Classic Cramp Pose)

पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए यह सबसे आम स्थिति है। बस अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने घुटनों के नीचे एक तकिया और अपने सिर के नीचे एक और तकिया रखें। यह आपके पेल्विक क्षेत्र को खोलने में मदद करेगा और बेहतर रक्त प्रवाह में मदद कर सकता है।

2 चाइल्ड पोज़ (Child pose)

चाइल्ड पोज़ सबसे व्यापक रूप से इस्तेमाल की जाने वाली और आम योग मुद्रा है। यहां तक कि जो लोग योग नहीं करते है, वे भी इसे आराम से कर सकते है। यह मुद्रा विशेष रूप से आपकी पीठ में पीरियड के दर्द को शांत करने मेंं मदद करती है।

अपने घुटनों को फर्श पर रखकर, अपने हाथों को जितना हो सके फर्श पर फैलाते हुए खुद को आगे की ओर मोड़ें। आपको अपने माथे और छाती को चटाई पर टिकाना होगा और अपनी बाहों को जितना हो सके उतना आगे बढ़ाना होगा।

अपनी पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों को धीरे-धीरे खींचते हुए अपने कूल्हों को आराम दें। इससे आपको पीरियड के दर्द से राहत पाने मे मदद मिल सकती है।

3 कैट काउ पोज (cat cow pose)

कैट-काउ ऐसा पोज है जो आपकी पीठ के साथ-साथ आपके पेट की मांसपेशियों पर भी प्रभाव डालती है। यह पोज आपके शरीर में रक्त प्रवाह को बढ़ाने में मदद करती है और दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकती है।

घुटने और दोनों हाथों के पंजो को फर्श पर रखें जिससे आप एक जानवर की मुद्रा में आ जाएंं, फिर धीरे-धीरे अपनी पीठ को ऊपर की ओर देखते हुए ऊपर की ओर झुकाएं और अपने पेट को ज़मीन की ओर झुकाएं। कुछ सेकंड के लिए रुकें और फिर छोड़ें और कैट पोज़ में आ जाएं।

कैट पोज़ करने के लिए, फिर से चारों पैरों पर खड़े होकर शुरू करें और धीरे-धीरे अपनी पीठ को मोड़ें, ज़मीन की ओर देखें और अपनी ठुड्डी को अंदर की ओर झुकाएं। कुछ सेकंड के लिए रुकें और फिर छोड़ें। दर्द से राहत पाने के लिए 5 से 20 बार दोहराएं।

Iss yogasan ko regular karein Wrist ko milti hai majbooti
कैट-काउ ऐसा पोज है जो आपकी पीठ के साथ-साथ आपके पेट की मांसपेशियों पर भी प्रभाव डालती है। चित्र : शटरस्टॉक

4 स्पाइनल ट्विस्ट (Spinal twist)

जब आपको ऐंठन महसूस हो रही हो, तो दर्द को कम करने के लिए सबसे अच्छा है स्पाइनल ट्विस्ट। यह मुद्रा आपके पेट के अंगों को धीरे-धीरे खींचती है और मालिश करती है।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

इसे करने के लिए, अपनी पीठ के बल लेट जाएं और दोनों पैरों को सीधा फैलाएं। अपने दाहिने घुटने को मोड़ें और इसे अपने बाएं पैर के ऊपर से क्रॉस करें, अपने पैर को ज़मीन पर फ्लैट रखें।

5 पैरों को उल्टा करना (Inverted Leg Pose)

यह पोज़ पीठ के निचले हिस्से और पैल्विक में तनाव को दूर करने में मदद करने के लिए जानी जाती है, जो अक्सर आपके पीरियड के दौरान बढ़ सकती है। इस मुद्रा को करने के लिए, अपनी पीठ के बल फर्श पर लेटकर अपने कूल्हों को दीवार से सटाकर शुरुआत करें। अपने पैरों को ऊपर उठाएं ताकि वे दीवार के सामने सीधे खड़े हों। आपका शरीर 90 डिग्री का कोण बनाएगा।

यह पोज़ आम तौर पर सर्कुलेशन को पुनर्जीवित करने और आपके नर्वस सिस्टम को फिर से सक्रिय करने में मदद करती है। इससे आपके शरीर को एक अच्छा स्ट्रेच भी मिल सकता है।

ये भी पढ़े- मानसून में अंडरआर्म्स इचिंग से परेशान हैं, तो इन 8 टिप्स के साथ रखें अपने अंडरआर्म्स को क्लीन और फ्रेश

  • 146
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख