वैलनेस
स्टोर

दिन में कितने घंटे साइकिल चलाना आपकी सेहत के लिए है फायदेमंद? जानिये क्या कहता है अध्ययन

Published on:12 March 2021, 10:30am IST
साइकलिंग एक आसान और फायदेमंद एक्‍सरसाइज है। यह एक ही समय में आपके कई मांसपेशी समूहों को लक्षित करती है।
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ
  • 74 Likes
साइकिलिंग करना स्सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है. चित्र : शटरस्टॉक

बचपन में हम सबने साइकिल चलाई है। पर जैसे-जैसे हम बड़े होने लगते हैं साइकिल चलाना कहीं पीछे छूट जाता है और कार खरीदने और चलाने की चकाचौंध में हम कहीं खो जाते हैं। परंतु, आज भी एक्सपर्ट्स मानते हैं कि स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छी एक्सरसाइज साइकिलिंग ही है। तो, क्यों न एक बार फिर अपने बचपन में लौट चलें और अपनी व्यस्त दिनचर्या में से कुछ वक़्त निकालकर साइकिलिंग करें। ये आपको शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से तनाव मुक्‍त कर सकती है।

क्‍यों फायदेमंद है साइकिल चलाना

साइकिल चलाना अन्य एक्सरसाइज की तुलना में आसान है। इसमें चोट लगने का खतरा भी कम होता है। कुछ अन्य खेलों के विपरीत, साइकिल चलाने के लिए उच्च स्तर के शारीरिक कौशल की आवश्यकता नहीं होती। साइकिल चलाना मांसपेशियों के लिए एक अच्छी कसरत है और जब आप पेडल करते हैं तो, सभी प्रमुख मांसपेशी समूहों का उपयोग होता है। साथ ही, साइकिलिंग से सहनशक्ति, ताकत और एरोबिक फिटनेस बढ़ती है। इसके अलावा ये फिट रहने का एक मजेदार तरीका है और पर्यावरण के लिहाज से भी काफी अच्छा है।

क्‍या कहते हैं शोध

शोध बताते हैं कि आपको व्यायाम के माध्यम से सप्ताह में कम से कम 8,400 किलोग्राम (लगभग 2,000 कैलोरी) जलानी चाहिए। लेकिन, साइकिल चलाने से आप प्रति घंटे 1,200 किलो जूल (लगभग 300 कैलोरी) बर्न कर सकती हैं।

यदि आप दिन में दो बार साइकिल चलाते हैं, तो आप ज्यादा कैलोरीज लूज़ कर सकते हैं। ब्रिटिश शोध से पता चलता है कि हर दिन आधे घंटे साइकिल चलाने से एक साल में लगभग पांच किलोग्राम फैट बर्न हो सकता है।

वेट लॉस के लिए फायदेमंद है सायकलिंग। चित्र: शटरस्‍टॉक

आइए जानते हैं साइकिल चलाने के अन्‍य फायदे

ओबेसिटी और वजन पर नियंत्रण

साइकलिंग वजन को नियंत्रित करने या कम करने का एक अच्छा तरीका है। यह आपकी चयापचय दर को बढ़ाती है, मांसपेशियों का निर्माण करती है और शरीर में वसा को जलाने में मददगार है। यदि आप अपना वजन कम करने की कोशिश कर रही हैं, तो साइकिलिंग ज़रूर करनी चाहिए। साइकिल चलाना व्यायाम का एक आरामदायक रूप है और आप समय और तीव्रता को बदल सकते हैं।

हृदय रोग के जोखिम को कम करती है

हृदय रोगों में स्ट्रोक, उच्च रक्तचाप और दिल का दौरा शामिल हैं। नियमित रूप से साइकिल चलाना आपके हृदय, फेफड़ों और रक्तचाप को नियंत्रित करता है और हृदय रोगों के जोखिम को कम करता है।

20 से 93 वर्ष की आयु के 30,000 लोगों के साथ 14 वर्षों में किए गए एक डेनिश अध्ययन में पाया गया कि नियमित रूप से साइकिल चलाने से हृदय रोग से लोगों की रक्षा होती है। शोध से यह भी पता चलता है कि जो लोग काम करने के लिए साइकिल चलाते हैं, उनमें कार यात्रियों की तुलना में प्रदूषण का जोखिम दो से तीन गुना कम होता है। इसलिए उनके फेफड़ों की कार्यक्षमता में सुधार होता है।

मधुमेह से बचाव

मधुमेह के लिए शारीरिक गतिविधि में कमी को एक प्रमुख कारण माना जाता है। फिनलैंड में बड़े पैमाने पर शोध में पाया गया कि जो लोग प्रतिदिन 30 मिनट से अधिक साइकिल चलाते हैं, उनमें मधुमेह के विकास का 40 प्रतिशत कम जोखिम था।

हर सुबह साइकिलिंग आपकी बोंस के लिए अच्‍छा हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
हर सुबह साइकिलिंग आपकी बोंस के लिए अच्‍छा हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

हड्डियों में चोट और गठिया से बचाव

साइकिलिंग से ताकत, संतुलन और समन्वय में सुधार होता है। यह गिरने और फ्रैक्चर को रोकने में भी मदद कर सकता है। यदि आपको ऑस्टियोआर्थराइटिस है, तो साइकिल चलाना आपके लिए एक बहुत अच्छी एक्सरसाइज हो सकती है, क्योंकि यह एक कम प्रभाव वाला व्यायाम है जो जोड़ों पर थोड़ा तनाव डालता है।

मानसिक स्वास्थ्य में वृद्धि

नियमित रूप से साइकिल चलाने से मानसिक स्वास्थ्य रोग जैसे अवसाद, तनाव और चिंता को कम किया जा सकता है। सुबह-सुबह साइकिलिंग करने से मानसिक तनाव दूर हो सकता है और एक रिफ्रेशिंग दिन की शुरुआत हो सकती है।

तो एक दिन में कितनी देर साइकिल चलाना है फायदेमंद

अगर आप बहुत अरसे बाद फि‍र से साइकिल चलाना शुरू करने वाली हैं, तो शुरुआत में आधे घंटे यानी 30 मिनट से अधिक साइकिल न चलाएं। शोध बताते हैं कि एक घंटे साइकिल चलाने से आप लगभग 300 कैलोरी तक बर्न कर सकती हैं। उम्र बढ़ने के साथ आपको अपनी मांसपेशियों का मजबूत बनाना और भी जरूरी हो जाता है। इसलिए विशेषज्ञ प्रति 30 से 60 मिनट तक साइकिल चलाने का सुझाव देते हैं।

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।