क्या ज्‍यादा पसीना आने का मतलब है बेहतर कसरत और ज्यादा फैट लॉस? जानिए क्‍या है वास्‍तविकता

आपको लग सकता है कि ज्यादा पसीना मतलब ज्यादा अच्छा वर्कआउट, लेकिन यह आपका भ्रम है। फिट और अनफिट दोनों ही लोगों को ज्‍यादा पसीना आ सकता है। ऐसा होने के अलग-अलग कारण भी हो सकते हैं। इस बारे में जानने के लिए आगे पढ़ें।
Paseena aapke baalo ke liye acha nahi hota hai
रोजाना बालों को धोना और शैंपू करना आपके बालों को खराब कर सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published: 20 Apr 2021, 10:30 am IST
  • 78

हम में से ज्‍यादातर लोगों का मानना होगा कि ज्यादा पसीने का मतलब है एक बेहतर कसरत, और ज्यादा फैट लॉस। वर्षों से, किसी भी तरह, पसीना हमारे वर्कआउट्स और कैलोरी बर्न की प्रभावशीलता का आकलन करने के लिए एक पैरामीटर बन गया है। हालांकि, क्या ऐसे दावों में कोई सच्चाई है? जी नहीं.. पसीने की मात्रा एक अच्छी कसरत या ज्यादा फैट लॉस का संकेत नहीं है। यह एक भ्रम है।

फिर, पसीना वास्तव में क्या दर्शाता है?

असल में, पसीना हमारे शरीर का तापमान नियंत्रित करने का तरीका है। यह एक प्राकृतिक घटना है, जिसके माध्यम से हमारे मुख्य शरीर के तापमान में वृद्धि के जवाब में शरीर ठंडा हो जाता है। हालांकि, यह समझना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, क्योंकि कुछ लोगों को दूसरों की तुलना में अधिक पसीना आता है।

पसीना आपके शरीर का ताापमान कंट्रोल करने का मैकेनिज्‍म है। चित्र: शटरस्‍टॉक
पसीना आपके शरीर का ताापमान कंट्रोल करने का मैकेनिज्‍म है। चित्र: शटरस्‍टॉक

आमतौर पर अधिक पसीने की ग्रंथियों वाले लोगों को ज्यादा पसीना आता है, बजाय उनके जिनकी पसीने की ग्रंथियां कम हैं। इसके लिए योगदान देने वाले कुछ अन्य कारक तापमान, ह्यूमिडिटी, जेनेटिक्स, वजन, पानी का सेवन, लिंग, आयु और फिटनेस स्तर हैं।

इसलिए, कभी-कभी अनफिट लोगों में भी ज्यादा पसीना आ सकता है। ऐसा होने के अलग-अलग कारण हो सकते हैं। जो फिट है, उसके शरीर की शीतलन प्रक्रिया बेहतर होती है, जिससे उन्हें कठिन और लंबे समय तक काम करने की क्षमता मिलती है। दूसरी ओर, जो लोग अनफिट हैं या भारी हैं, उन्हें भी अधिक पसीना आ सकता है, बॉडी मास के कारण, जिसे ठंडा करने की आवश्यकता होती है।

पसीना, कैलोरी और वसा के बीच संबंध

कई सालों से, पसीने और कैलोरी की मात्रा या फैट लॉस के बीच यह सहसंबंध बनाया गया है। इसके पीछे कोई सबूत या सच्चाई नहीं है। पसीना किसी भी औसत दर्जे की कैलोरी को नहीं जलाता है, लेकिन यह पानी के वजन को कम कर सकता है।

व्‍यायाम आपकी ओवरऑल हेल्‍थ के लिए जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक
व्‍यायाम आपकी ओवरऑल हेल्‍थ के लिए जरूरी है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हालांकि, यह नुकसान केवल अस्थायी है। जैसे ही हम पानी पी लेते हैं, हम तुरंत इस वजन को वापस ग्रहण कर लेते हैं। इसलिए, गर्म वातावरण में काम करने या भारी कपड़े पहनने से खुद को अधिक पसीना लाने के लिए मजबूर करने से अतिरिक्त वसा हानि नहीं होगी।

तो कोई फैट लॉस कैसे कर सकता है?

फैट लॉस का एकमात्र तरीका है पौष्टिक आहार लेना और लो कैलोरी मेन्टेन करना। इसके साथ ही, नियमित कसरत की जरूरत है। स्ट्रेंथ ट्रेनिंग / रेजिस्टेंस ट्रेनिंग, एरोबिक्स, रनिंग, साइकिलिंग, यहां तक ​​कि योगा – जैसे बहुत सारे विकल्प हैं। बस हमें यह पता लगाने की जरूरत है कि हमारे लिए क्या काम करता है।

पसीना आने या पर्याप्त पसीना न आने के स्वास्थ्य संबंधी खतरे

यह एक तथ्य है कि हमारे शरीर का 60-75 प्रतिशत हिस्सा पानी से बना है। अत्यधिक पसीने के साथ मिलकर अपर्याप्त पानी के सेवन से हाइपरथर्मिया हो सकता है। ओवरहीटिंग (हीट स्ट्रोक), इलेक्ट्रोलाइट्स की अत्यधिक हानि, किडनी लॉस, हृदय संबंधी स्थिति और मांसपेशियों में धीरज और शक्ति में गिरावट हो सकती है।

सुबह फलों का सेवन आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है। चित्र: शटरस्‍टॉक
सुबह फलों का सेवन आपकी सेहत के लिए फायदेमंद है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसलिए, विशेष रूप से गर्मी के मौसम में खुद को हाइड्रेट रखना महत्वपूर्ण है।

जबकि कई कारक हैं जो यह निर्धारित करते हैं कि हम एक कसरत के दौरान कितना पसीना बहाते हैं। यह निश्चित रूप से यह नहीं बताता है कि आपका कितना अच्छा वर्कआउट हुआ है या आपने कितना फैट बर्न किया। केवल यह इंगित करता है कि हम सक्रिय थे और अपनी फिटनेस यात्रा में हमने एक कदम आगे बढ़ाया। हम अच्छे परिणाम पाने के लिए सही रूटीन फ़ॉलो करना चाहिए। अंत में, फिटनेस एक यात्रा है, डेस्टिनेशन नहीं।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

यह भी पढ़ें – क्या झुक कर पैर की उंगलियां छूना भी मुश्किल है? तो इन 8 योगासनों की मदद से दूर करें शरीर की जकड़न

  • 78
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख