नेचुरल पेनकिलर भी हैं डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज, जानिए नियमित अभ्यास के और भी फायदे

डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज आपके लिए मददगार हो सकती है। इससे आपके पूरे शरीर को आराम पहुंचाता है। यह न केवल शारीरिक सेहत बल्कि मानसिक स्वास्थ्य को भी संतुलित रखता है।
swas vyayam hai pareshani se bachne ka upaay
श्वास व्यायाम है परेशानी से बचने का उपाय। चित्र: शटरस्‍टॉक
अंजलि कुमारी Updated: 23 Oct 2023, 09:09 am IST
  • 124

आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी, गलत खानपान की आदत और शारीरिक स्थिरता ने लोगों के शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य दोनों को कमजोर कर दिया है। ऐसे में शारीरिक बीमारियों के साथ एंग्जाइटी, डिप्रेशन, तनाव जैसी स्थिति लोगों के लिए आम हो गई है। लोगों ने इसे अपने जीवन का हिस्सा बना लिया है जिसके कारण लाइफ क्वालिटी पर असर पड़ता है। ऐसी स्थिति में डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज (Benefits of deep breathing) आपकी मदद कर सकती है। ये आपके पूरे शरीर को आराम पहुंचाता है। यह न केवल शारीरिक सेहत बल्कि मानसिक स्वास्थ्य भी संतुलित रखने में मदद करता है।

तो आज हेल्थशॉट्स के साथ जाने ब्रीदिंग एक्सरसाइज (breathing exercise) के कुछ महत्वपूर्ण फायदे। हालांकि, उचित परिणाम के लिए इसे अपनी नियमित दिनचर्या का हिस्सा बनाना बहुत जरूरी है।

यह भी पढ़ें : वेट लॉस के बाद फिर से बढ़ने लगा है वजन? तो जानिए इसे कैसे मेंटेन करना है 

यहां जाने ब्रीदिंग एक्सरसाइज के 5 फायदे (Benefits of deep breathing)

1. ब्लड प्रेशर को संतुलित रखती हैं

डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज एंग्जायटी को कम करते हुए हाइपरटेंशन की स्थिती में कारगर होता है। कॉम्पलेमेंट्री थेरेपी मेडिसिन एनालाइज्ड द्वरा 2019 में एक स्टडी की गई। स्टडी के अनुसार स्लो ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने वाले व्यक्ति के ब्लड प्रेशर में सुधार देखने को मिला। यह शरीर से हार्मफुल टॉक्सिन्स को बाहर निकालता है और ब्लड फ्लो को स्मूद कर देता है।

blood pressure ka rakhen dhyan
अपने ब्लड प्रेशर का रखें ध्यान । चित्र : शटरस्टॉक

2. इम्युनिटी बूस्ट करती हैं

डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज के माध्यम से आप फ्रेश ऑक्सीजन इनहेल करती हैं और टॉक्सिन्स एवं कार्बन डाइऑक्साइड को बाहर निकालती हैं। जब खून ऑक्सीजिनेटेड रहता है, तो शरीर के सभी ऑर्गन सही से फंक्शन करते हैं।

शरीर में टॉक्सिन फ्री और हेल्दी ब्लड सप्लाई इम्युनिटी को बूस्ट करते हुए शरीर में संक्रमण फैलाने वाले जर्म और बैक्टीरिया के प्रभाव को कम कर देते हैं। डीप ब्रीदिंग प्राकृतिक टॉक्सिन रिलीवर के रूप में काम करती है। इसके साथ ही ये पोषक तत्वों को अवशोषित करने की क्षमता को बढ़ा देती है।

3. बेहतर नींद प्राप्त करने में मदद करती हैं

सिंपल डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज का नियमित अभ्यास आपको बेहतर नींद प्राप्त करने में मदद करता है। धीमे धीमे गहरी सांस लें, यह आपके शरीर को डिटॉक्सिफाई होने का सिग्नल देता है और आपके शरीर को शांत और स्थिर रखता है। ऐसे में नींद की गुणवत्ता बढ़ती है और आपको बेहतर नींद प्राप्त करने में मदद मिलती है। वहीं जो व्यक्ति स्ट्रेस, एंजायटी, डिप्रैशन और इनसोम्निया जैसी स्थिति से पीड़ित है, उन्हें सोने से पहले हर रोज इसका अभ्यास करना चाहिए।

यह भी पढ़ें : खराब पोस्चर को ठीक कर सकती हैं प्लैंक एक्सरसाइज, स्टिफ बॉडी से राहत के लिए इन 5 तरह से करें प्लैंक

4. ऊर्जा शक्ति को बढ़ाती हैं

कंप्लीमेंट्री थेरेपी मेडिसिन एनालाइज द्वारा प्रकाशित स्टडी के अनुसार डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज का नियमित अभ्यास ब्लड फ्लो को इंप्रूव करता है। जिसकी वजह से ज्यादा से ज्यादा ऑक्सीजन ब्लड के साथ ट्रैवल करते हुए शरीर के हर अंग तक पहुंचते हैं। वहीं शरीर में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा ऊर्जा शक्ति को बढ़ा देती है।

अस्थमा में कारगर है डीप ब्रीदिंग। चित्र शटरस्टॉक

5. अस्थमा की स्थिति में भी हैं कारगर

ब्रीदिंग एक्सरसाइज अस्थमा की स्थिति में सुधार करने का एक प्राकृतिक तरीका है। कोचरेन द्वारा अस्थमा को लेकर 2019 में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार ब्रीदिंग एक्सरसाइज लंग्स के फंक्शन को इंप्रूव करते हुए अस्थमा में नजर आने वाले लक्षणों को कम करने में मदद करती है। वहीं अमेरिकन लंग्स एसोसिएशन द्वारा प्रकाशित एक स्टडी में बताया गया कि अस्थमा की स्थिति में डीप ब्रीदिंग की शुरुआत बिल्कुल धीमे-धीमे करें अचानक से गहरी सांस लेने से आपको परेशानी हो सकती है।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

6. नेचुरल पेनकिलर हैं ब्रीदिंग एक्सरसाइज

डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइज एंडोर्फिन रिलीज करता है, जिसे हम हैप्पी और गुड हॉर्मोन्स के नाम से जानते हैं। यह शरीर से दर्द को कम करने में मदद करता है और आपको रिलैक्स रखता है। इस तरह ब्रीथिंग एक्सरसाइज आपके लिए नेचुरल पेन किलर के तौर पर काम आ सकती हैं।

इसलिए यह जरूरी है कि सही तकनीक के साथ इनका नियमित अभ्यास करें। अगर आप पहली बार ब्रीदिंग एक्सरसाइज करने जा रही हैं, तो किसी प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में ही करें।

यह भी पढ़ें : World Obesity Day 2023 : सिर्फ ओवरईटिंग ही नहीं, इन 4 कारणों से भी वेट लाॅस नहीं कर पातीं कुछ महिलाएं

  • 124
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख