क्या ज़्यादा वज़न होने ये बावजूद आप फिट हो सकती हैं? एक्सपर्ट दे रहे हैं इस सवाल का जवाब

Published on: 2 November 2021, 08:00 am IST

आपने भी कुछ ऐसे मोटे लोगों को देखा होगा जो शारीरिक रूप से बहुत चुस्त दिखाई देते हैं। यकीनन आपके मन में भी सवाल उठा होगा कि क्या मोटे लोग भी फिट कहो सकते हैं? तो हमारे विशेषज्ञ दे रहें इसका जवाब।

Shaadi se pehle fit rehne ke liye exercise
अपनी शादी से पहले फिट दिखने के लिए करें ये एक्सरसाइज। चित्र : शटरस्टोक

पॉपुलर कल्चर ने हमारे सोचने-समझने के तरीके को प्रभावित किया है। साथ ही, हमें यह मानने पर मजबूर कर दिया है कि जो लोग पतले – दुबले होते हैं, वही फिट हैं! वहीं अगर आपका वज़न ज़्यादा है तो आपके साथ कुछ गलत है। लेकिन क्या वाकई ऐसा है? क्या आपका वजन आपके फिटनेस स्तर का सही संकेत देता है? हम जानते हैं कि आप इस सवाल का जवाब जानना चाहते हैं।

यही कारण है कि हम यहां इन सभी सवालों के जवाब देंगे, लेकिन इससे पहले आइए बॉडी मास इंडेक्स के बारे में थोड़ा सा समझें।

बॉडी मास इंडेक्स क्या है?

आपने इस शब्द को कई बार सुना होगा, लेकिन बॉडी मास इंडेक्स या बीएमआई का वास्तव में क्या मतलब है? यह आपकी लंबाई और वजन का अनुपात है। जो निर्धारित करता है कि आपका वज़न आपकी लंबाई के मुताबिक है या नहीं, ये हेल्दी है या अनहेल्दी। हालांकि ज्यादातर मामलों में बीएमआई आपको बता सकता है कि आपका वजन ज्यादा है या नहीं। मगर यह आपके मसल मास या फिटनेस लेवल का पूरी तरह से पता नहीं लगा सकता है।

हर समय अपना वज़न न नापें। चित्र: शटरस्‍टॉक

यदि आप मोटापे से संबंधित बीमारियों जैसे मधुमेह, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग के जोखिम का पता लगाना चाहती हैं, तो बीएमआई के साथ अपनी कमर की चौड़ाई को मापें।

क्या अधिक वजन के साथ स्वस्थ होना संभव है?

यह थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन ऐसा संभव है। 1998 में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, अधिक वजन वाले लोगों को स्वस्थ माना जा सकता है। यदि उनकी कमर का आकार महिलाओं के लिए 35 इंच या पुरुषों के लिए 40 इंच से कम है। अगर वे उच्च रक्तचाप, डायबिटीज और उच्च कोलेस्ट्रॉल से पीड़ित नहीं हैं।

प्रसिद्ध पोषण विशेषज्ञ और लेखिका कविता देवगन ने इस पर हेल्थशॉट्स के साथ अपने विचार साझा किए। वे कहती हैं, “हां, आप अधिक वजन होने के बावजूद फिट रह सकते हैं। क्योंकि बहुत से लोगों में उनके वसा प्रतिशत की तुलना में अधिक मांसपेशी द्रव्यमान होता है। इसलिए इनका वजन ज्यादा होता है, लेकिन ये बिल्कुल फिट होते हैं। दूसरी ओर, बहुत से दुबले-पतले लोगों में कम मांसपेशियों और उच्च चर्बी हो सकती है, जो बेहद अस्वस्थ है और इससे हृदय रोग का खतरा बढ़ सकता है। ”

फिटनेस पर ध्यान दें

अंत में, आपका फिटनेस स्तर आपके वजन से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। जब तक कि आप मोटे न हों। न केवल कैलोरी बर्न करने के लिए बल्कि हृदय रोग, टाइप 2 मधुमेह, अवसाद, ऑस्टियोपोरोसिस और कई अन्य स्थितियों को रोकने के लिए अपने शरीर को हिलाने की कोशिश करें और जितना हो सके सक्रिय रहें।

मोटे हैं तो क्या हुआ आप फिट हो सकती हैं। चित्र: शटरस्टॉक

नियमित रूप से व्यायाम करने से आपके मूड को बढ़ाने, अपने आत्म-सम्मान में सुधार करने, चिंता के स्तर को कम करने और तनाव से निपटने में मदद मिल सकती है।

आपको बस यह ध्यान रखने की जरूरत है कि स्वस्थ भोजन और नियमित व्यायाम आपके स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। अगर आप थोड़ा वजन कम करते हैं, और बीएमआई में भारी बदलाव नहीं देखते हैं, तो चिंता न करें! राष्ट्रीय हृदय, फेफड़े और रक्त संस्थान के एक अध्ययन के अनुसार, शरीर के वजन में 5-10% की कमी भी बेहतर कोलेस्ट्रॉल, रक्त शर्करा और रक्तचाप के स्तर से जुड़ी हुई है।

यह भी पढ़ें : World Ayurveda Day : आयुर्वेद के बारे में ऐसे सवाल जिनके बारे में आप सभी जानना चाहते हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें