नमक स्वादानुसार नहीं, हेल्थ अनुसार होना चाहिए, जानिए क्या है सोडियम और मोटापे का कनैक्शन

जब आप अपनी वेट लॉस जर्नी पर होती हैं, तो आपका हर उस छोटी से छोटी चीज़ का ध्यान रखना चाहिए, जो इसे सफल या असफल बना सकती हैं। और नमक ऐसा ही एक खाद्य पदार्थ है।

reduce body water weight
सोडियम की मात्रा कम करने से वाटर वेट को कम करने में मदद मिलेगी। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Published on: 26 April 2022, 08:00 am IST
  • 100

जीवन में नमक होना जरूरी है। पर कितना, इसकी मात्रा अकसर स्वाद के हवाले कर दी जाती है। टेबल पर नमक की शीशी रखना भी टेबल मैनर का हिस्सा बन गया है। जबकि यही नमक आपके मोटापे का कारण बन सकता है। असल में नमक और उसमें मौजूद सोडियम की अधिकता बॉडी वॉटर वेट में इजाफा करती है। जिसके परिणामस्वरूप आपका वजन बढ़ता जाता है। इसे मेडिकल टर्म में एडिमा (edema) कहा जाता है। हैरान हैं न? आइए जानते हैं नमक (Salt) और आपके मोटापे (Obesity) यानी बॉडी वॉटर (Body water weight) के बारे में विस्तार से। 

पहले समझिए क्या है बॉडी वाटर वेट (What is body water weight)

शरीर में 60% तक पानी मौजूद होता है, जो स्वस्थ और सक्रिय शरीर के लिए अधिक महत्वपूर्ण है। जल ही जीवन है यह बात सर्वमान्य है। परंतु शरीर में ज्यादा मात्रा में पानी होना भी आपके लिए नुकसानदेह हो सकता है। और नमक इसका एक बड़ा कारण है। खाने में अधिक नमक का अर्थ है अधिक वॉटर वेट। जिससे सूजन, मांसपेशियों में ऐंठन से लेकर वजन बढ़ने और घटने तक की समस्या उत्पन्न हो सकती है। 

बॉडी वाटर वेट की समस्या आम समस्याओं में से एक है। परंतु इसे समय रहते नियंत्रित न करने से यह आपके लीवर किडनी और हार्ट को प्रभावित कर सकती हैं। यदि आप भी इस समस्या से परेशान है, तो चिंता न करें, हम बताएंगे आपको इससे नियंत्रित रखने के 5 आसान उपाय।

कैसे पता चलेगा की शरीर में बढ़ रहा है वॉटर वेट (Body water weight symptoms)

ब्लाटिंग की समस्या, खासकर एब्डोमिनल एरियाज को प्रभावित करती हैं।

पैर, एड़ियों और उंगलियों में सूजन की समस्या।

जोड़ों में जकड़न की समस्या।

वजन का घटना और बढ़ना।

चेहरे में सूजन हो सकती है।

water weight se hoga jodo mein dard
वॉटर वेट से होता है जोड़ों में दर्द। चित्र : शटरस्टॉक

क्या हो सकते हैं बॉडी वॉटर वेट बढ़ने के कारण (Body water weight causes)

  1. लंबे समय तक एक ही पोजीशन में बैठे रहना

लंबे समय तक एक ही पोजीशन में खड़े रहने या बैठे रहने से आपके शरीर में वाटर वेट बढ़ सकता है। ग्रेविटी हमारे शरीर के खून को नीचे की ओर आकर्षित करती है। इसलिए एक पोजीशन में रहने की जगह खुद को सक्रिय रखने से ब्लड तेजी से और अच्छी तरह से पूरे शरीर मे सर्कुलेट हो पाता है।

  1. ज्यादा नमक खाना

आपके खाने में प्रयोग होने वाला नमक शरीर में सोडियम की मात्रा को बढ़ा देता है। साथ ही सॉफ्ट ड्रिंक्स में भी सोडियम की पर्याप्त मात्रा मौजूद होती है। जब आप अपने दैनिक आहार में नमक या जंक फूड का सेवन बढ़ा देती हैं, तो सोडियम इंटेक सामान्य से ज्यादा हो जाता है। जिससे बॉडी वॉटर वेट बढ़ने लगता है। 

  1. कमजोर हृदय

शरीर में पानी का वजन बढ़ते जाना कमजोर हृदय स्वास्थ्य का भी संकेत हो सकता है। कमजोर हार्ट शरीर में खून को ठीक तरह सर्कुलेट नहीं कर पाता जिसके कारण वाटर वेट बढ़ने जैसी समस्या हो सकती है।

  1. दवाइयों के साइड इफेक्ट

कई दवाइयां ऐसी है, जिसका साइड इफेक्ट बॉडी में वॉटर वेट बढ़ने जैसी समस्या हो सकती हैं। कीमोथेरेपी और ब्लड प्रेशर के ट्रीटमेंट में यह समस्या ज्यादातर देखने को मिलती है।

विशेषज्ञ से जानिए बॉडी वॉटर वेट से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

न्यूट्रीफाई बाई पूनम डाइट एंड वैलनेस क्लिनिक एंड एकेडमी की डायरेक्टर डॉ पूनम दुनेजा, बताती हैं कि शरीर में पानी की अधिक मात्रा लिवर, किडनी और हार्ट को प्रभावित करने के साथ ही एडिमा की संभावना भी बढ़ा देती है। एडिमा शरीर में तरल पदार्थों के जमा होने के कारण हुई सूजन को कहते हैं। 

डॉक्टर पूनम दुनेजा के अनुसार एडिमा होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे नींद की कमी अधिक मात्रा में नमक का सेवन, और स्थिर शरीर। 

Excess salt brain ke liye harmful hai
ज्यादा नमक का सेवन बन सकता है वॉटर वेट का कारन। चित्र-शटरस्टॉक.

मेडिकेशन की जगह अपनी आदतों में कुछ जरूरी बदलाव लाने से इस समस्या से निजात पा सकती हैं। रोजाना व्यायाम का अभ्यास, समय पर सोने, योग करने के साथ खाने में जरुरी पोषक तत्व लेने से मदद मिलेगी। इसके साथ ही वे बॉडी वॉटर वेट कम करने के लिए कुछ उपाय भी सुझाती हैं – 

इस तरह बॉडी वॉटर वेट को कर सकती है कम 

  1. सबसे पहले नमक कम करें 

डॉ पूनम दुनेजा के अनुसार खाना बनाने के लिए प्रयोग किए जाने वाले नमक में आमतौर पर 75% तक सोडियम की मात्रा होती है। सोडियम पानी को आकर्षित करता है। जिसकी वजह से शरीर ज्यादा मात्रा में पानी स्टोर कर लेता है। 

बॉडी में वाटर वेट बढ़ने से सूजन और वजन बढ़ने जैसी समस्याएं हो सकती हैं। शरीर को 1 दिन में केवल 2,300 मिलीग्राम सोडियम की जरूरत होती है। ऐसे में अधिक मात्रा में नमक के सेवन से परहेज रखना जरूरी है। कई खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से नमक पहले से मौजूद होते हैं। व्यंजनों को बनाने में कम नमक का इस्तेमाल करें।  

  1. आहार में शामिल करें पोटेशियम और मैग्नीशियम युक्त फूड्स

डॉ पूनम दुनेजा ने बताया कि पोटेशियम हमारे पाचन तंत्र को मजबूत रखता है। साथ ही यह मांसपेशियों की मजबूती के लिए भी जरूरी है। यह शरीर में सोडियम के लेवल को भी नियंत्रित रखने में मदद करते हैं। डार्क चॉकलेट, नट्स और ग्रेन्स में पर्याप्त मात्रा में मैग्नीशियम पाया जाता है। पोटेशियम से भरपूर केला, एवोकाडो, टमाटर, दही, ग्रीन टी, शकरकंद, कॉफ़ी, हरी पत्तेदार सब्जियां, पालक जैसे पदार्थों को अपने आहार में शामिल कर आप शरीर का वॉटर वेट कम कर सकती हैं।

  1. व्यायाम और योग का अभ्यास करें

बॉडी वाटर वेट को कम करने के लिए शरीर को सक्रिय रखना जरूरी है। विशेषज्ञ इसके लिए नियमित रूप से योग और व्यायाम का अभ्यास करने की सलाह देती हैं। वर्कआउट करने के दौरान आपके शरीर से पसीना बहता है। जिससे शरीर से एक्स्ट्रा पानी बाहर निकल जाता है।

exercise water weight me kregi madd
एक्सरसाइज करने से वॉटर वेट की समस्या में मिलेगी मदद. चित्र शटरस्टॉक
  1. खाने में कम कार्बोहाइड्रेट लें

कार्बोहाइड्रेट और कार्ब्ज शरीर में पानी को जमा करते हैं। यदि हम पूरे दिन में लिए गए कार्बोहाइड्रेट का प्रयोग नहीं कर पाते, तो बचे हुए कार्ब्ज ग्लाइकोजन मॉलिक्यूलस के रूप में शरीर मे स्टोर हो जाते है। 1 ग्राम ग्लाइकोजन मॉलिक्यूलस में 3 ग्राम पानी मौजूद होता है। जिसके कारण बॉडी में वॉटर वेट की समस्या उत्पन्न हो सकती है। इस समस्या से बचने के लिए खाने में ब्रेड, राइस और पास्ता जैसे हाई कार्ब्ज फूड्स की जगह कार्ब्ज और प्रोटीन युक्त फूड्स अंडा, मीट और सोयाबीन का सेवन कर सकती हैं।

  1. खुद को हाइड्रेटेड रखें

पर्याप्त मात्रा में पानी पीना भी वाटर वेट को कम करने में मदद करता है। डिहाइड्रेशन में पानी की कमी होने से शरीर पानी को स्टोर करके रखता है। साथ ही पानी किडनी को साफ रखने के साथ एक्स्ट्रा पानी और सोडियम को बाहर निकालने का काम करता है।

यह भी पढ़ें:  Habits to Stay Happy : अपनाएं ये 3 आदतें, जो सुखी जीवन की कुंजी हैं

  • 100
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory