Yoga for diabetes in 2023 : इस साल डायबिटीज को करना है कंट्रोल तो हर रोज करें इन 5 योगासनों का अभ्यास

डायबिटीज होने पर ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है। दवा के साथ कुछ योगासन किये जाएं, तो ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित रह सकता है।
diabetes mein fruits khaane mei bartein saavdhaani
फ्रुक्टोज की उच्च मात्रा फलों में पाई जाती है। इसे लिवर आसानी से एब्जॉर्ब करके ग्लूकोज में परिवर्तित कर देता है। चित्र : एडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Updated: 20 Oct 2023, 10:02 am IST
  • 125

इन दिनों डायबिटीज मेलिटस(Diabetes Mellitus) सभी आयु वर्ग के लोगों में आम है।यह एंडोक्राइन ग्लैंड के कारण होने वाला रोग है। यह एक लंबे समय तक चलने वाला मेटाबोलिक डिजीज है, जिसमें प्राथमिक समस्या शरीर द्वारा शुगर का उपयोग सही तरीके से नहीं हो पाता है। इंसुलिन हार्मोन की कमी होने पर ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है। खान की गडबडियों, मोटापा और शारीरिक गतिविधि की कमी के कारण ऐसा होता है। मधुमेह तनाव से भी संबंधित है। दवा के साथ-साथ यदि कुछ योगासनों का सहारा लिया जाये, तो डायबिटीज को नियंत्रित (Yoga for Diabetes) किया जा सकता है। डायबिटीज के लिए जरूरी योगासन के बारे में जानने के लिए हमने बात की योग थेरेपिस्ट और डिवाइन सोल योग के डायरेक्टर डॉ. अमित खन्ना से।

यहां हैं 5 योगासन जो डायबिटीज (Yoga for Diabetes) को नियंत्रित कर सकते हैं

1 कटि-चक्रासन (Kati-Chakrasana)

डॉ. अमित बताते हैं, ‘ यह एक सामान्य खड़ी मुद्रा( Standing Pose) है, जिसमें स्पाइन को थोडा-सा ट्विस्ट किया जाता है।
कैसे करें कटि-चक्रासन (How to do Kati-Chakrasana)
अपने पैरों को कंधे की चौड़ाई से अलग करके खड़े हो जाएं। वजन दोनों पैरों पर समान रूप से होना चाहिए।
श्वास लें, भुजाओं को कंधे के स्तर तक उठायें।
दाहिने कंधे के ऊपर देखें। गर्दन को सीधा रखें जैसे रीढ़ की हड्डी का शीर्ष एक निश्चित बिंदु है, जिसके चारों ओर सिर घूमता है।
15 सेकंड के लिए स्थिति को बनाए रखें और प्रारंभिक स्थिति में वापस आकर श्वास लें।
दूसरी तरफ दोहराएं।
सावधानी:
यदि हाल ही में रीढ़ की हड्डी या पेट की सर्जरी हुई है या स्लिप डिस्क की समस्या है, तो कृपया इससे बचें।’

2 पवनमुक्तासन(Pavanmuktasana)

जैसा कि नाम से पता चलता है, यह आसन उदर क्षेत्र से अतिरिक्त हवा या गैस को बाहर निकालने में उपयोगी है।

कैसे करें पवनमुक्तासन (How to do Pavanmuktasana)

पीठ के बल सीधे लेट जाएं।
दोनों घुटनों को मोड़ें और जांघों को छाती के पास लाएं।
अंगुलियों को आपस में फंसा लें और घुटनों के नीचे की पिंडली को पकड़ लें।
सांस छोड़ें और सिर को तब तक उठाएं जब तक कि आपकी ठोड़ी घुटनों को न छू ले और आराम करें।
सिर को वापस जमीन पर ले आएं। सांस छोड़ते हुए पैरों को फर्श पर नीचे करें।
सावधानी:

पेट की चोट, हर्निया और साइटिका की स्थिति में यह अभ्यास न करें। गर्दन का स्पॉन्डिलाइटिस हो तो गर्दन को ऊपर उठाने से बचें।

3 सर्वांगासन (Sarvangasana)

डॉ. अमित बताते हैं, ‘इस आसन का शरीर के लगभग सभी अंगों और अंगों पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है।
कैसे करें सर्वांगासन (How to do Sarvangasana)
पीठ के बल लेट जाएं और जांच लें कि सिर और रीढ़ एक सीध में हैं। पैर सीधे और एक साथ हैं।
हथेलियों को फर्श की ओर रखते हुए हाथों को शरीर के बगल में रखें।
पूरे शरीर और दिमाग को आराम दें। पेट की मांसपेशियों को सिकोड़ें और बाजुओं के सहारे धीरे-धीरे पैरों को सीधा रखते हुए सीधे ऊपर उठाएं।
जब पैर लंबवत हों, तो हाथों को नीचे फर्श पर दबाएं।
धीरे-धीरे और सुचारू रूप से नितंबों को रोल करें और रीढ़ को फर्श से ऊपर उठाएं।
ट्रंक को एक ऊर्ध्वाधर स्थिति में उठाएं।’
हाथों की हथेलियों को ऊपर की ओर मोड़ें, कोहनियों को मोड़ें और पीठ को सहारा देने के लिए हाथों को रीढ़ की हड्डी से थोड़ा दूर पसलियों के पीछे रखें।
कोहनी कंधे की चौड़ाई से अलग होनी चाहिए।
धीरे से छाती को आगे की ओर धकेलें ताकि यह ठुड्डी पर मजबूती से दब जाए।
अंतिम स्थिति में, पैर लंबवत, एक साथ और धड़ के साथ एक सीधी रेखा में होते हैं।
शरीर को कंधों, गर्दन की नस और सिर के पिछले हिस्से पर सहारा मिलता है। बाहें स्थिरता प्रदान करती हैं।
छाती ठोड़ी पर टिकी होती है और पैर शिथिल होते हैं।
आंखें बंद रखें।
अंतिम मुद्रा में पूरे शरीर को जितनी देर हो सके, आराम दें।
वापस लौटते समय पीठ, कमर और फिर टांगों को बिना झटके के नीचे लाएं और सिर को ऊपर उठाएं।
सावधानी :

इस आसन को सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस, स्लिप डिस्क, हाई ब्लड प्रेशर या दिल की अन्य बीमारियों से पीड़ित लोगों को नहीं करना चाहिए। मासिक धर्म और गर्भावस्था के दौरान इससे बचना चाहिए।

4 हलासन (Halasana)

इस आसन की अंतिम स्थिति भारतीय हल के आकार जैसी होती है।
कैसे करें हलासन (How to do Halasana)
पैरों को एक साथ रखते हुए पीठ के बल सीधे लेट जाएं। हथेलियों को नीचे की ओर रखते हुए बाजुओं को शरीर के बगल में रखें। पूरे शरीर को आराम दें।
पेट की मांसपेशियों को सिकोड़कर उनका उपयोग करके दोनों पैरों को सीधा और एक साथ रखते हुए ऊर्ध्वाधर स्थिति में उठाएं।
बाजुओं पर नीचे दबाएं। पीठ को फर्श से दूर घुमाते हुए नितम्बों को उठाएं। पैरों को सिर के ऊपर नीचे करें।

plow pose
यदि संभव हो, तो पैर की उंगलियों को सिर के पीछे फर्श से छूने की कोशिश करें। चित्र शटरस्टॉक

यदि संभव हो, तो पैर की उंगलियों को सिर के पीछे फर्श से छूने की कोशिश करें।
हथेलियों को ऊपर करें, कोहनियों को मोड़ें और पीठ को सहारा देने के लिए हाथों को पसलियों के पीछे रखें।
वापस लौटते समय पीठ, कमर और फिर टांगों को बिना झटके के नीचे लाएं और सिर को ऊपर उठाएं।
सावधानी :

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

हर्निया, स्लिप डिस्क, सायटिका, हाई ब्लड प्रेशर या कमर की कोई गंभीर समस्या खासकर गर्दन की गठिया से पीड़ित व्यक्ति इस आसन का अभ्यास न करें।

5 मत्स्यासन (Matsyasana)

संस्कृत में ‘मत्स्य’ का अर्थ मछली होता है, इसलिए आसन को मत्स्यासन कहा जाता है।
कैसे करें मत्स्यासन (How to do Matsyasana)
पद्मासन में बैठ जाएं और पूरे शरीर को शिथिल कर दें।
हाथों और कोहनियों से शरीर को सहारा देते हुए सावधानी से पीछे की ओर झुकें।
छाती को थोड़ा ऊपर उठाएं, सिर को पीछे ले जाएं और सिर के शीर्ष को फर्श पर नीचे करें।
बड़े पैर की उंगलियों को पकड़ें और कोहनियों को फर्श पर टिकाएं।
सिर की स्थिति को समायोजित करें ताकि पीठ का अधिकतम चाप प्राप्त हो सके।
भुजाओं और पूरे शरीर को शिथिल करें। सिर, नितंबों और पैरों को शरीर के भार को सहारा देने की अनुमति दें।

Padmasana benefits
मत्स्यासन  करने के लिए सबसे पहले पद्मासन में बैठ जाएं और पूरे शरीर को शिथिल कर दें। चित्र शटरस्टॉक।

आंखें बंद करें और धीरे-धीरे और गहरी सांस लें। प्रक्रिया के क्रम को उलटते हुए प्रारंभिक स्थिति में लौटें।

सावधानी:

जो लोग हृदय रोग, पेप्टिक अल्सर, हर्निया से पीड़ित हैं, उन्हें इसके अभ्यास से बचना चाहिए। साथ ही घुटने के गठिया में पद्मासन से परहेज करें और पैर को सीधा रखकर अभ्यास किया जा सकता है। गर्भवती महिलाओं को भी इसका प्रयास नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें :-Fitness 2023 : थायराइड को कंट्रोल करना है तो फिटनेस रिजीम में शामिल करें ये 5 योगासन 

  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

अगला लेख