लगातार कमर दर्द से परेशान हैं, तो इन 3 हिप फ्लैक्सर एक्सरसाइज को करें वर्कआउट रुटीन में शामिल

परफेक्ट बॉडी पोस्चर के लिए सही एक्सरसाइज करना भी बेहत आवश्यक है। यहां जानिए कुछ आसान हिप फ्लेक्सर एक्सरसाइज।
Exercise for flexibility
यहां जानिए हर्ट को हेल्दी रखने के लिए 3 योगासन । चित्र अडोबी स्टॉक
ईशा गुप्ता Published: 10 Feb 2023, 09:30 am IST
  • 145

फिटनेस बनाए रखने के लिए हेल्दी लाइफस्टाइल के साथ हेल्दी बॉडी भी बेहद जरूरी है। जिसे अच्छी डाइट और फिटनेस रिजीम के साथ बनाए रखा जा सकता है। लेकिन आजकल की बिजी लाइफस्टाइल के कारण कई बार अपनी फिटनेस पर ध्यान देने का समय नहीं मिल पाता। नतीजन हम बढ़ते वजन और गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का शिकार होने लगते हैं। इसके साथ ही पूरा दिन डेस्क वर्क करने से हमारी मांसपेशियों में अकड़न और कमजोरी आने लगती है। जो कमर और कूल्हों से जुड़ी समस्याओं के रूप में सामने आती है। इसलिए आज हम आपके लिए लेकर आए हैं 3 आसान हिप फ्लेक्सर एक्सरसाइज (Hip flexor exercise) जो आपको परफेक्ट और हेल्दी बॉडी बनाए रखने में मदद करेंगी।

जानिए क्या है हिप फ्लेक्सर्स ?

हिप फ्लेक्सर्स सॉकेट जॉइंट और बॉल के बीच की मांसपेशियां होती है, जो पैरो को शरीर के ऊपरी भाग से जोड़े रखने में मदद करती हैं। यह शरीर के निचले हिस्से में मूवमेंट बनाए रखती है। अगर आपकी हिप फ्लेक्सर्स फिट और फ्लेक्सिबल हैं, तो इससे चोट और मांसपेशियों में अकड़न आने का खतरा कम होता है।

हिप फ्लेक्सर्स को फ्लेक्सिबल बनाए रखने में मदद करेंगी ये 3 एक्सरसाइज

बटरफ्लाई पोज का हर रोज अभ्‍यास आपकी प्रजनन क्षमता को भी बेहतर बनाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
बटरफ्लाई पोज का हर रोज अभ्‍यास आपकी प्रजनन क्षमता को भी बेहतर बनाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

1. सिटिंग बटरफ्लाई पोज

आपकी बॉडी में फ्लेक्सिबिलिटी लाने के लिए सिटिंग बटरफ्लाई एक्सरसाइज फायदेमंद साबित हो सकती है। यह एक्सरसाइज हिप्स के साथ जांघों और पीठ के निचले हिस्से को स्ट्रेच करने में मदद करता है। इसे जमीन पर बैठकर आसानी से किया जा सकता है।

यह भी पढ़े – Post workout meal : एक्सरसाइज के बाद जरूरी है पोस्ट वर्कआउट मील, एक्सपर्ट बता रहीं हैं कारण

इस तरह करें सिटिंग बटरफ्लाई एक्सरसाइज

  • सबसे पहले जमीन पर सीधे पोस्चर में बैठ जाए।
  • अब अपने घुटनों को बाहर की अोर धकेलते हुए पैर के तलवों को एक साथ मिलाए
  • साथ ही एड़ियों को शरीर की ओर खींचें और घुटनों को रिलेक्स करें, जिससे घुटने जमीन की ओर झुक जाए।
  • गहरी सांस लें और इस पोस्चर में लगभग 20 से 30 सेकंड तक ठहरे।
  • रोज 20 से 30 मिनट तक सिटिंग बटरफ्लाई एक्सरसाइज करने से आपकी मसल्स फ्लेक्सिबल बनी रहेंगी।

2. ब्रिज पोज

ब्रिज पोज मसल्स को फ्लेक्सिबल बनाने के लिए बेहतरीन एक्सरसाइज है। जर्नल ऑफ योगा के मुताबिक यह पोज आपके ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर बनाने और पीठ के निचले हिस्से को स्ट्रांग बनाने में मदद करता है।

इस तरह करें ब्रिज पोज

  • ब्रिज पोज करने के लिए आपको सबसे पहले पीठ के बल लेट जाना है.
  • पैरों को हिप्स की ओर खींचे और तलवों को जमीन पर रखें।
  • अब अपना निचला हिस्सा हवा में उठाएं और घुटनों से कंधों तक सीधी कोण रेखा बनाने की कोशिश करें।
  • इस पोज में लगभग 30 सेकंड तक रुकें, फिर नीचे जाएं और दुबारा इस पोज को दोहराएं।
  • ब्रीज पोज पीठ के निचले हिस्से की मांसपेशियों को मजबूत करके फ्लेक्सिबल बनाने में मदद करेगा। ये फुल बॉडी स्ट्रेंचिंग से बॉडी को बैलेंस बनाने में भी मदद मिलेगी।
  • Tribal squats aapke pair ko majboot karte hai
    ट्राइबल आपके पैरों और जांघों को मजबूत करते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

3.स्क्वैट्स रखेगा बट फिट

फिटनेस एक्सपर्ट्स के मुताबिक पैरों की मांसपेशियों को स्ट्रांग बनाने के लिए स्क्वैट्स करना एक बेहतरीन विकल्प है। यह फुल बॉडी फेट कम करने के साथ शरीर को सुडौल होने में मदद करता है। हिप्स का एक्स्ट्रा फेट कम करने के साथ हिप्स की शेप बनाए रखने में स्क्वैट्स फायदेमंद है।

यह भी पढ़े – हार्ट अटैक का कारण बन सकता है ज्यादा नमक, ये लक्षण बताते हैं कि आप ज्यादा नमक खा रहीं हैं

इस तरह करें स्क्वाट : –

  • स्क्वाट के लिए आपको कुल्हों को बाहर की अोर झुकाते हुए पैरो में अंतर लाना है।
    अब घुटनों को मोड़ें और कुल्हों को पीछे की ओर धकेलें।
  • इस पोस्चर में तब तक झुकें जब तक आपके पैर फर्श के लगभग बराबर न हो जाएं।
  • इस दौरान अपने घुटनों को पैरों के अनुरूप ही रखें।
  • एब्स को टाइट करें और अपनी बाजुओं को छाती तक लाएं।
  • इस पोज को 10 से 30 बार करने से मदद मिल सकती है।

  • 145
लेखक के बारे में

यंग कंटेंट राइटर ईशा ब्यूटी, लाइफस्टाइल और फूड से जुड़े लेख लिखती हैं। ये काम करते हुए तनावमुक्त रहने का उनका अपना अंदाज है। ...और पढ़ें

अगला लेख