Acharya Pratishtha फिटनेस फ्रीक्स के लिए बता रहीं हैं 4 जरूरी टिप्स, जो प्रदूषण से बचने में मदद करेंगे

हर रोज योग, व्यायाम और मॉर्निंग वॉक करना एक अच्छी आदत है। पर इन दिनों छोटे-बड़े शहरों में प्रदूषण का जो हाल है, वह अच्छी आदतों में भी जरूरी बदलाव करने के लिए मजबूर कर रहा है। अगर आप भी फिटनेस फ्रीक हैं, तो ये सुझाव आपके लिए हैं।
Pollution mei fitness freaks ke liye tips
किन बातों का ख्याल रख के प्रदूषण से भरे माहौल में स्वास्थ्य को सेहतमंद रखा जा सकता है। चित्र : अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Published: 7 Nov 2023, 09:30 am IST
  • 141

हवा में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण के स्तर को नकारा नहीं जा सकता है। पर्यावरण में मौजूद टॉक्सिक केमिकल शरीर को कई प्रकार से नुकसान पहुंचा रहे हैं। वे लोग जो फेफड़ों की समस्याओं से जूझ रहे है। उन्हें सांस लेने में तकलीफ का सामना करना पड़ सकता है। वहीं जिनका इम्यून सिस्टम कमज़ोर हैं। उनके लिए भी धुएं की चपेट में आने पर गंभीर बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता हैं। ऐसे लोगों को न केवल घर से निकलना कम करना होगा, बल्कि अपने स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहने की आवश्यकता है। जानते हैं योग गुरू और आयुर्वेद अध्येता आचार्य प्रतिष्ठा से किन बातों का ख्याल रख के प्रदूषण से भरे माहौल में स्वास्थ्य को सेहतमंद रखा जा सकता है ( tips to stay away from pollution)।

फेफड़ों के लिए खतरनाक है बढ़ता प्रदूषण स्तर (How pollution is harmful for lungs)

यूनाइटेड स्टेटस एनवायरमेंटल प्रोटेक्शन एजेंसी के अनुसार ओजोन और पार्टिकुलेट मैटर यानि पीएम जैसे वायु प्रदूषक फेफड़ों और हृदय संबधी समस्याओं और अन्य हेल्थ प्रोब्लम्स की गंभीरता को बढ़ा देते हैं। वहीं नेशनल इंस्टीटयूट ऑफ एनवायरमेंटल हेल्थ साइंसिज़ के अनुसार दुनियाभर में सालाना प्रदूषण के चलते 6.5 मिलीयन लोगों की मौत हो जाती है। ये आंकड़ा पिछले दो दशकों में तेज़ी से बढ़ा है। पीएम 2.5 यानि पार्टिकुलेट मैटर मानव बाल की तुलना में 30 गुना पतला है। यह फेफड़ों में पहुंचकर गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकता है। सल्फेट, नाइटरेट, कार्बन और मिनरल से बनकर तैयार हुआ पार्टिकुलेट मैटर वाहनों से लेकर सिगरेट से लिकलने वाले धुएं में पाया जाता है।

air pollution brain ke liye khatarnak hai
खराब होती हवा की गुणवत्ता से बचाव जरूरी। चित्र- अडोबीस्टॉक

प्रदूषित हवा के दुष्प्रभावों से खुद को बचाने के लिए फॉलो करें आचार्य प्रतिष्ठा के बताए ये टिप्स

1. हाई इंटेंसिटी इंटरवल ट्रेनिंग से बचें

वेटलॉस के लिए की जाने वाली ये खास किस्म की एक्सरसाइज़ को तीव्रता से साथ किया जाता है। शरीर में जमा अतिरिक्त फैट्स को बर्न करने के लिए इस कार्डियोवस्कुलर एक्सरसाइज़ को किया जाता है। एक्सपर्ट के अनुसार पर्यावरण में आई तब्दीली सांस की परेशानी का कारण साबित हो रही है। हाई इंटेंसिटी व्यायाम को करने से सांस फूलने की समस्या बढ़ सकती है। जो स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक साबित हो सकती है। प्रदूषण के बढ़ते स्तर के चलते वे व्यायाम जिन्हें करने से सांस फूलने लगे। उन्हें करने से बचना चाहिए।

2. वॉक को करें अवॉइड

प्रदूषण के स्तर में हो रहे इजाफे से लोगों का घरों से बाहर निकलना दूभर हो रहा है। ऐसे में बच्चों को पार्क ले जाने से बचें। साथ ही सुबह उठकर वॉक के लिए जाना अवॉइड करें। मास्क लगाना न भूलें। इससे फेफड़ों को होने वाली समस्या से भी बचा जा सकता है। वायु में बढ़ रहे डस्ट पार्टिकल्स के अलावा मौसम में आई तब्दीली गले में खराश, जुकाम और बुखार का कारण बन सकती है। ऐसे में ज़रूरी एहतियात बरतें।

Pollution se kaise bachein
प्रदूषण के स्तर में हो रहे इजाफे से लोगों का घरों से बाहर निकलना दूभर हो रहा है। चित्र: शटरस्‍टॉक

3. आउटडोर एक्टिविटी हो सकती है नुकसानदायक

नियम के अनुसार खुली हवा में बैठकर योग करने ही आदत पर कुछ दिन के लिए विराम लगा दें। आउटडोर की जगह इनडोर योग का प्रयास करें। योगाभ्यास करने के दौरान रोज़ाना कुछ वक्त प्राणायाम करें। ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ फेफड़ों को मज़बूती प्रदान करते हैं। इसके अलावा सांस संबधी समस्याएं हल होने लगती हैं। कपालभाति आपके शरीर को तरोताज़ा बनाए रखता है। ये शरीर को प्रदूषण के बढ़ रहे स्तर के हानिकारक प्रभाव से बचाता है। दिन में दो बार इंडोर योगाभ्यास अवश्य करें। इससे आपकी ओवरऑल हेल्थ को फायदा मिलता है और शरीर को लचीलापन भी बना रहता है।

4. पैक्ड फूड करें अवॉइड

रोजमर्रा की जिंदगी में पैक्ड और तला भुना कई प्रकार का खाना हम मील में शामिल कर लेते हैं। जो सेहत को प्रभावित करता है। मौसम में आए बदलाव और प्रदूषण के बढ़ रहे स्तर से खुद को मुक्त रखने के लिए हाइड्रेटिंग फूड लें। बाहर का खाना अवॉइड करें। होम मेड फूड खाने के अलावा स्मोकिंग करने से बचें। अन्यथा फेफड़ों के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकता है।

ये भी पढ़ें- बदलते मौसम की सामान्य बीमारियों का उपचार हैं ये 7 घरेलू नुस्खे, दवा से पहले करें ट्राई

  • 141
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख