वैलनेस
स्टोर

इस अध्ययन के अनुसार आपकी कमर का साइज आपके पेट के बैक्टीरिया से जुड़ा हुआ है, जानिए कैसे

Published on:1 March 2021, 09:00am IST
अगर आप खुद को शेप में रखना चाहती हैं, तो सबसे पहले अपने पेट के स्‍वास्‍थ्‍य पर ध्‍यान दें। इस शोध में तो यही बताया गया है। 
विनीत
  • 91 Likes
शोध के अनुसार आपकी कमर का आकार आपके पेट से जुड़ा हुआ है। चित्र-शटरस्टॉक।

अपनी कमर के चारों तरफ से कुछ इंच कम करना ज्यादातर लोगों के निरंतर संघर्षों में से एक है। कुछ लोगों ने इसके लिए व्यायाम से लेकर प्लास्टिक सर्जरी तक सब कुछ आजमाया है। हालांकि, वैज्ञानिकों ने हाल ही में पता लगाया है कि इंटेस्टिनल फ्लोरा ( intestinal flora) शरीर के उस क्षेत्र के माप को परिभाषित करने में भी अहम भूमिका निभाता है।

हम यहां आपके साथ कुछ वैज्ञानिक खोजों को साझा कर रहे हैं जो हमारी आंतों में बैक्टीरिया के वातावरण को हमारे पेट की उपस्थिति से जोड़ते हैं।

गट फ्लोरा 101 (Gut Flora 101)

यह कुछ ऐसा है जिस तरह विशेषज्ञ बैक्टीरिया के सेट को संदर्भित करते हैं, जो हमारी आंतों में रहते हैं। हम में से हर एक व्यक्ति लगभग 100 अरब बैक्टीरिया का घर है, उनमें से लगभग सभी कोलन में रहते हैं।

वे हमारे पेट में जन्म से विकसित होते हैं और संतुलित होने पर आमतौर पर हानिरहित होते हैं। हालांकि, वे अपने नाजुक संतुलन को खोने पर समस्या पैदा कर सकते हैं। यदि वे किसी बदलाव से गुजरते हैं, जो उन्हें बढ़ाने या नष्ट करने का कारण बनते हैं।

यह भी पढ़ें: विशेषज्ञों के अनुसार 40 के बाद तेजी से बढ़ता है वजन, जानिए इससे कैसे बचना है 

वे एक प्रकार का दूसरा डीएनए बनाते हैं, जैसा कि हम में से प्रत्येक ने लगभग 40 ट्रिलियन बैक्टीरिया कोशिकाओं का वहन किया है। जबकि हमारा शरीर केवल 30 ट्रिलियन अन्य प्रकार की कोशिकाओं से बना है।

जब आप चीनी छोड़ती है तो आपका वेट लॉस भी आसान हो जाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
आपके पेट के बैक्टीरिया वजन प्रबंधन में अहम भूमिका निभाते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

मानव शरीर में वे क्या भूमिका निभाते हैं

क्योंकि वे प्रचुर संख्‍या में हैं, इसलिए आंत के बैक्टीरिया मानव स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं, क्योंकि उनका मुख्य कार्य भोजन में पाए जाने वाले सभी पोषक तत्वों को अवशोषित करना है। उनका कार्य सिर्फ वहीं समाप्त नहीं होता है, वे कई अन्य तरीकों से हमारे शारीरिक कार्यों से जुड़े हैं:

  • वे विटामिन-बी, कॉम्प्लेक्स-के, और विभिन्न अमीनो एसिड जैसे विटामिन के उत्पादन को बढ़ावा देते हैं।
  • मैग्नीशियम और आयरन जैसे आवश्यक मिनरल्स पर कब्जा कर लेते हैं।
  • हमारे शरीर को वायरस और अन्य खतरनाक जीवाणुओं से बचाने में मदद करते हैं।
  • कुछ कार्बोहाइड्रेट को मेटाबॉलाइज करते हैं, जिससे वे मनुष्यों के लिए पचाने योग्य हो जाते हैं। इसके अलावा, वे उन कार्बोहाइड्रेट को किण्वित करते हैं जो सही आंत्र पारगमन को मेटाबॉलाइज और कोर्डिनेट नहीं कर सकते।
  • मानवीय दीर्घायु (human longevity) से भी जुड़े हुए हैं।

अब जानिए कि आंत के बैक्टीरिया हमारे कमर के आकार को कैसे प्रभावित करते हैं

बैक्टीरिया का मुख्य कार्य मानव स्वास्थ्य की रक्षा करना है। हालांकि, अधिक वजन होने के कारण कई नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभाव होते हैं। तो वे हमें मोटापा विकसित करने में कैसे मदद कर सकते हैं?

कुछ अध्ययनों से लगता है कि इसका उत्तर मिल गया है, हालांकि उनके लेखकों के अनुसार अभी भी निश्चित निष्कर्ष तक पहुंचना जल्दबाजी होगी।

आंत के बैक्टीरिया भोजन से ऊर्जा निकालने के लिए जिम्मेदार होते हैं। शोध के अनुसार, पोषक तत्वों की अवशोषण क्षमता एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न हो सकती है। क्योंकि इंटेस्‍टाइनल फ्लोरा (intestinal flora) की संरचना हम में से प्रत्येक में अलग-अलग होती है।

यह भी पढ़ें: वजन घटाने के लिए डाइटिंग करना हो सकता है नुकसानदेह, हम बता रहे हैं इसके 6 वैज्ञानिक कारण

मनुष्यों से अलग आंत माइक्रोबायोटा के बीच का संबंध, मोटापा और कौन से एजेंट बैक्टीरिया की संरचना को प्रभावित करते हैं। इसको समझने के लिए एक अन्य अध्ययन भी किया गया था।

कैसे किया गया अध्‍ययन 

393 जोड़ों के मल की तुलना यह निर्धारित करने के लिए की गई थी कि क्या आनुवंशिकी इसमें एक भूमिका निभाती है। उन्होंने इस प्रकार के नमूने का इस्तेमाल इसलिए किया क्योंकि फेकल पदार्थ कोशिकाएं बनाता हैं जो आंत के माइक्रोबायोटा को उजागर करता है।

उन्होंने निष्कर्ष निकाला कि जीन केवल आंत के पारगमन के 1/5 हिस्से को प्रभावित करती हैं। जबकि पर्यावरणीय कारण बैक्टीरिया के पारिस्थितिकी तंत्र में 68% परिवर्तन के लिए जिम्मेदार हैं।

इन विश्लेषणों से यह भी निष्कर्ष निकाला गया कि इंटेस्‍टाइनल फ्लोरा शरीर की वसा भंडारण प्रक्रिया में भाग लेती है। इसलिए एक अधिक कुशल प्रकार का आंत माइक्रोबायोटा, जो पोषक तत्वों को बेहतर तरीके से अवशोषित करता है, इससे वजन और कद दोनों बढ़ सकता है।

इसके अलावा, यह निर्धारित किया गया था कि एक उच्च वसा वाला आहार माइक्रोबायोम को बदल सकता है और मोटापे के विकास के लिए इसे और अधिक प्रवण बना सकता है। इन जीवाणुओं में ट्राइग्लिसराइड्स की भिन्नता पर 6% और कोलेस्ट्रॉल की भिन्नता पर 4% प्रभाव होता है।

हालांकि, शरीर में वसा का उच्च स्तर हृदय की समस्याओं के लिए मुख्य जोखिम कारकों में से एक है, एक अन्य अध्ययन से पता चलता है कि इंटेस्टिनल फ्लोरा और हृदय प्रणाली के व्यवहार के बीच घनिष्ठ संबंध है।

यह पेट के लिए फायदेमंद हो सकता है। चित्र: शटरस्टॉक।
आंत के बैक्पेटीरिया पेट के लिए फायदेमंद होते हैं। चित्र: शटरस्टॉक।

इन स्वास्थ्य समस्याओं से कैसे बचाव करें

मानव शरीर में इंटेस्‍टाइनल फ्लोरा के असंतुलन के प्रभाव पर अभी भी अध्ययन किया जा रहा है। अच्छी खबर यह है कि उम्र और आनुवंशिकी के विपरीत, आंत के बैक्टीरिया से संबंधित जोखिम कारकों को ठीक किया जा सकता है।

डॉक्टर अनिवार्य रूप से स्वस्थ आहार पर ध्यान रखने के साथ ही, हर तरह से एक स्वस्थ जीवन शैली अपनाने की सलाह देते हैं। इसके लिए आप कुछ टिप्स को फॉलो कर सकते हैं: 

तो क्‍या है उपाय 

  1. प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों से परहेज करके चीनी और वसा की खपत को कम करें। क्योंकि वे हानिकारक बैक्टीरिया की कालोनियों के विकास को बढ़ावा देते हैं। फलों और सब्जियों का विकल्प चुनें, साथ ही फाइबर में उच्च खाद्य पदार्थों का सेवन करें, क्योंकि इनमें जटिल कार्बोहाइड्रेट होते हैं जो फायदेमंद बैक्टीरिया को पनपने में मदद करते हैं।
  2. अपने शरीर को अशुद्धियों से मुक्त रखने के लिए खूब पानी पिएं।
  3. छोटी-छोटी मात्रा में दिन में कई बार भोजन करें। आंतों को हर 2 घंटे में साफ किया जाता है और बेहतर है कि उन पर ज्‍यादा बोझ न डालें।
  4. प्रीबायोटिक्स, पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं जो फायदेमंद बैक्टीरिया को खिलाते हैं। जैसे – केला, लहसुन आदि।
  5. खाद्य पदार्थ या सप्लीमेंट के रूप में प्रीबोयटिक्स लें, जिनमें जीवित सूक्ष्मजीव होते हैं जो आपके स्वास्थ्य में सुधार करते हैं यदि उनका पर्याप्त मात्रा में सेवन किया जाता है। दही, कोम्बुचा, सौरक्रोट और अन्य किण्वित उत्पाद इस लिस्ट में शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: ये 5 एक्‍सरसाइज आपकी वेट लॉस यात्रा में ले आएंगी तेजी, यहां जानिए करने का सही तरीका

विनीत विनीत

अपने प्यार में हूं। खाने-पीने,घूमने-फिरने का शौकीन। अगर टाइम है तो बस वर्कआउट के लिए।