जिम में अधिक वर्कआउट करना भी हो सकता है हानिकारक, ये 5 लक्षण बताते है कि ओवरट्रेनिंग कर रहे है

ओवरट्रेनिंग तब होती है जब आप दिना कोई ब्रेक लिए जिम जाकर हैवी वर्कआउट करते है। ये आपके शरीर पर नाकारात्मक प्रभाव डाल सकते है।
zyada workout karne se bachna chahiye
अत्यधिक वर्कआउट आपके दिल को बीमार कर सकता है।चित्र: शटरस्टॉक
संध्या सिंह Updated: 25 Dec 2023, 09:11 pm IST
  • 145
इनपुट फ्राॅम

जब हम जिम में एक्सरसाइज (Exercise) करते है तो हफ्ते के 7 दिनों में से आपको एक दिन आराम की जरूरत होती है। इससे आपकी मांसपेशियों को रिकवर होने में मदद मिलती है। जब आप बिना रिकवरी का समय दिए बिना वर्कआउट (workout) करते हैं तो ओवरट्रेनिंग हो सकती है। यदि आप अपनी सीमा से बहुत अधिक व्यायाम आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।

ओवरट्रेनिंग सिंड्रोम (overtraining syndrome)आपके फिटनेस स्तर को कम कर सकता है, आपकी एनर्जी पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है और आपको इससे चोट भी लग सकती है। वेटलिफ्टिंग, कार्डियो और HIIT वर्कआउट सभी बर्नआउट का कारण बन सकते हैं।

High intensity workout body stress ko badhata hai
लगातार हाई इंटैसिटी एक्सरसाइज़ को करने से शरीर में तीव्र शारीरिक तनाव बढ़ने लगता है। चित्र: शटरस्टॉक

ओवरट्रेनिंग के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए हमने फिटनेस और लाइफस्टाइल एक्सपर्ट यश अग्रवाल से बात की। यश अग्रवाल बताते है कि अधिकांश लोगों को व्यायाम सत्र के बाद थकान, दर्द और अकड़न महसूस हो सकती है।

वो 5 लक्षण जो बताते है आप ओवरट्रेनिंग कर रहें है (signs of over training)

लगातार थकान

पर्याप्त आराम के बावजूद अत्यधिक थकान और थकावट होना ओवरट्रेनिंग का एक संकेत है। यह काफी हार्ड एक्सरसाइज से थकान महसूस होने के कारण हो सकता है। यह लंबे समय तक चलने वाली और लगातार होने वाली थकावट है।

हैवी वर्कआउट से ब्रेक लें। पैदल चलना, योग या स्ट्रेचिंग जैसी हल्की एक्टिवीटी पर ध्यान दें। सुनिश्चित करें कि आपको पर्याप्त गुणवत्ता वाली नींद मिल रही है।

प्रदर्शन में कमी

यदि आप प्रदर्शन में अचानक गिरावट देखते हैं, जैसे कि वजन उठाने में मुश्किल होना जिसे आप पहले आसानी से कर लेते थे या वर्कआउट के दौरान सहनशक्ति में उल्लेखनीय कमी आई है, तो यह ओवरट्रेनिंग का संकेत हो सकता है।

अपने शरीर को ठीक होने का समय दें। अपने वर्कआउट की तीव्रता और मात्रा कम करें। अपने रूटीन में अधिक आराम के दिनों को शामिल करें और रिकवरी में सहायता के लिए उचित पोषण और हाइड्रेशन पर ध्यान केंद्रित करें।

हृदय का गति का बढ़ जाना

बढ़ी हुई विश्राम हृदय गति शरीर के तनाव के स्तर को बढ़ा सकती है। ओवरट्रेनिंग से सामान्य से अधिक आराम करने वाली हृदय गति हो सकती है, जिससे पता चलता है कि शरीर तनाव में है और वर्कआउट से पूरी तरह से ठीक नहीं हुआ है।

Arms ko tone karti hai yeh exercise
मांसपेशियों में दर्द, जोड़ों में दर्द या बार-बार चोट लगना ओवरट्रेनिंग का संकेत दे सकता है। चित्र:शटरस्टॉक

लगातार मांसपेशियों में दर्द या चोट

मांसपेशियों में दर्द, जोड़ों में दर्द या बार-बार चोट लगना ओवरट्रेनिंग का संकेत दे सकता है। ये समस्याएं अगले वर्कआउट से पहले पूरी तरह से ठीक नहीं हो सकती हैं, जिससे लगातार असुविधा और संभावित दीर्घकालिक क्षति का चक्र शुरू हो सकता है।

मूड में बदलाव और चिड़चिड़ापन

ओवरट्रेनिंग सिर्फ शरीर को प्रभावित नहीं करती, इसका असर मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। शरीर पर पड़ने वाले तनाव के कारण व्यक्तियों को मूड में बदलाव, चिड़चिड़ापन, बढ़ी हुई एंग्जाइटी या डिप्रेशन की भावना का अनुभव हो सकता है।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

ये भी पढ़े- Adhomukha Svanasana: मांसपेशियों में होने वाली ऐंठन का उपचार करें इस योगासन से, जानें इसे करने की विधि

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख