चोट, तनाव और जोखिम से बचना है, तो ब्रिज पोज के दौरान न करें ये 3 गलतियां

ब्रिज पोज़ कई प्रकार के लाभ प्रदान करता है, लेकिन केवल तभी जब इसे ठीक से किया जाए। अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए यहां कुछ गलतियां हैं जिनसे आपको बचना चाहिए।
bridge pose karne ke fayde
ब्रिज पोज़ करते समय ये गलतियाँ न करें. चित्र : शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published: 10 Aug 2021, 08:00 am IST
  • 84

फिटनेस हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है, खासकर महामारी के बाद। शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर ध्यान देना सही दिशा में एक कदम है। खासकर तब जब वैश्विक स्वास्थ्य संकट ने हमारे जीवन को पटरी से उतार दिया। अब, जब व्यायाम करने की बात आती है, तो कुछ ऐसे व्यायाम होते हैं जो हमारी दिनचर्या का एक अभिन्न अंग होते हैं।

उनमें से एक है सेतुबंधासन यानी ब्रिज पोज (Bridge pose), जिसके कई फायदे हैं। यह न केवल गर्दन, छाती और रीढ़ को फैलाता है, बल्कि मस्तिष्क को भी शांत करता है और तनाव को कम करता है। साथ ही, यह पाचन में भी सुधार करता है, और मासिक धर्म की परेशानी से राहत देता है।

लेकिन अगर आप इस मुद्रा को सही तरीके से नहीं करती हैं, तो आप इन लाभों का आनंद कैसे ले सकती हैं? हां.. यह आवश्यक है कि आप इन गलतियों से सावधान रहें, क्योंकि आपको चोट लग सकती है।

क्या आप इन गलतियों के बारे में जानने के लिए तैयार हैं? चलिए आगे बढ़ते हैं

1. घुटने कूल्हों के समान नहीं होना

यह ब्रिज पोज करते समय आने वाली सबसे आम गलतियों में से एक है। सुनिश्चित करें कि आपके घुटने टखनों, कूल्हे की दूरी के ऊपर होने चाहिए। यही सही तरीका है!

2. पैर की उंगलियां बाहर की ओर

ब्रिज पोज़ करने वाले अधिकांश लोग मानते हैं कि पैर की उंगलियों को बाहर की ओर होना चाहिए। लेकिन यह गलत है! आपके पैर की उंगलियां सीधे सामने की ओर होनी चाहिए, और आपकी एड़ी सीधी होनी चाहिए।

ब्रिज पोज़ के फायदे
अपने कूल्हों को सही तरह से उठाएं। चित्र: शटरस्‍टॉक

3. छाती उठाना

यह फिर से एक गलती है, जो इतनी सामान्य है कि लोग इसे ब्रिज पोज का हिस्सा मानते हैं। लेडीज, इसे तुरंत करना बंद करें! आपके अपने कूल्हों को ऊपर उठाना चाहिए, ताकि आपका कोर इंगेज रहे।

यहां बताया गया है कि आपको ब्रिज पोज कैसे करना चाहिए

1. फर्श पर लेट जाएं, और यदि आवश्यक हो, तो आप अपनी गर्दन की सुरक्षा के लिए अपने कंधों के नीचे एक मोटा मुड़ा हुआ कंबल रख सकती हैं।

2.अपने घुटनों को मोड़ें और अपने पैरों को फर्श पर टिकाएं। सांस छोड़ें और अपने पैरों और बाहों को सक्रिय रूप से फर्श में दबाते हुए, अपनी टेलबोन को प्यूबिस की ओर ऊपर की ओर धकेलें।

3. अपने नितंबों को मज़बूत रखें, और अपने नितंबों को फर्श से उठाएं।

4. अपनी जांघों और भीतरी पैरों को समानांतर रखें। अपने हाथों को अपने श्रोणि के नीचे रखें और अपने कंधों को बाजुओं के माध्यम से विस्तार करें।

BMI

वजन बढ़ने से होने वाली समस्याओं से सतर्क रहने के लिए

बीएमआई चेक करें

5. अपने नितंबों को तब तक उठाएं जब तक कि जांघें फर्श के समानांतर न हों।

6. अपने घुटनों को सीधे एड़ी के ऊपर रखें, लेकिन उन्हें आगे की ओर, कूल्हों से दूर धकेलें, और टेलबोन को घुटनों के पीछे की ओर लंबा करें।

7. अपनी बाहरी भुजाओं को दृढ़ रखें, और कंधे के ब्लेड को चौड़ा करें, और उनके बीच की जगह को गर्दन के आधार पर धड़ से ऊपर उठाने की कोशिश करें।

8. 30 सेकंड से 1 मिनट तक इस मुद्रा में रहें।

यह भी पढ़ें : वेट लॉस करना चाहती हैं, तो अपने दैनिक आहार में जरूर शामिल करें सफेद पेठा, जानिए इसके 5 फायदे

  • 84
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख